ब्लॉग छत्तीसगढ़

22 July, 2009

समुझई खग खगही के भाषा : मैं रामायण की आलोचना जारी रखूंगा - एम.करूणानिधि

केन्‍द्रीय कानून मंत्री एम.बीरप्‍पा  मोईली की लिखी पुस्‍तक 'रामायण पेरूथेदलै' का विमोचन करते हुए तमिलनाडु के यशश्‍वी (?) मुख्‍यमंत्री एवं पोन्नेर-शंकर के लेखक एम.करूणानिधि नें 'प्राण जाई परू वचनु न जाई' जैसे प्रण लेते हुए कहा कि 'मैं बचपन में ही रामायण का आलोचक था. मैं ऐसा करना जारी रखूंगा.'  (I will continue to be critical of Ramayana) उन्‍हें इस बात का अहसास है कि सत्‍तारूढ पार्टी उनकी बंदगी 'टेढ जानि सब बंदई काहू' को स्‍वीकारते हुए करती रहेगी और वे लोगों की भावना रूपी हरे हरे चारे को 'चरई हरित तृन बलि पशु जैसे' चरते हुए राम और रामायण को कोंसते रहेंगें.



तुलसीदास जी नें 'चलई जोंक जल वक्रगति जद्यपि सलिल समान' लिखकर खून चूसने वाले जोंक के लक्षणों को प्रतिपादित कर ही दिया था. आडे तिरछे विचारों से रामायण की आलोचना करने वाले तथाकथित नामवर के बडबोले पन का गोस्‍वामी जी को आभास था इसीलिये उन्‍होंनें कहा था 'बातुल भूत विवस मतवारे, ते मोहि बोलहि बचन सम्‍हारे.' अब तुलसीदास या बाल्‍मीकि पुन: आकर रामायण में एम. करूणानिधि के कहे अनुसार संशोधन करने से रहे. और करूणानिधि का सोंचना है कि वे केन्‍द्रीय सरकार के हर दोहा-चौंपाई में अपनी मर्जी से संशोधन करवा सकते हैं तो ये मुआ तुलसीदास या बाल्‍मीकि कौन खेत की मूली है. सहीं कह रहे हैं करूणानिधि जी आपकी बातें प्रासंगिक है ऐसे समय में जब आपके लोग राम के अस्तित्‍व को ही स्‍वीकार नहीं करते.

बाबा तुलसीदास जी मुझे माफ करें आपने बारंबार कहा है कि 'सठ सन विनय कुटिल सन प्रीति, सहज कृपा सन सुन्‍दर नीति.' इसके वावजूद भी क्‍या करूं मन नहीं मान रहा है कलजुगी करूणानिधि से विनयवत व्‍यवहार कैसे रखूं. (और मैं कांग्रेस भी नहीं हूं) क्‍योंकि एक जगह आपने ही तो कहा है कि विनय की भाषा जड नहीं जानता 'विनय न मानत जलधि जड, गए तीन दिन बीत'. बहुत ही कन्‍फूजन है बाबा करूणानिधि की इस बात को शायद 'झूठई लेना, झूठई देना, झूठई भोजन, झूठ चबेना' वालों नें प्रचारित किया है. खैर कुछ भी हो सावन का महीना है और ऐसे समय में रामायण का पाढ व मनन करना चाहिये, इसी बहाने शब्‍द भंडार बढते हैं जो ब्‍लागिंग के लिये परम आवश्‍यक है. इस पर ब्‍लागरों के विचार और संक्षिप्‍त टिप्‍पणियों के लिये यह पोस्‍ट ठेल कर मैं स्‍नान करने जा रहा हूं क्‍योंकि बाबा गोसाई जी नें ही कहा है 'खल परिहरिय स्‍नान की नाई'.

संजीव तिवारी

3 comments:

  1. कुछ लोग सतत विरोध करने से भी स्वर्ग पायेंगे - रावण पाया था न!

    ReplyDelete
  2. वहाँ इसी से वोट मिलता है।

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

loading...

Popular Posts