संजीव तिवारी की कलम घसीटी

23 July, 2019

पिछले दिनों हमने सीपी एण्‍ड बरार के तत्‍कालीन मुख्‍यमंत्री डॉ. नारायण भास्‍कर खरे का विद्रोह शीर्षक से एक पोस्‍ट लिखा था तब डॉ.राजेन्‍द्र प्रसाद जी द्वारा लिखा गया यह अंश हमें मिल नहीं पाया था। उस पोस्‍ट को पूरी तरह से समझने के लिए डॉ.राजेन्‍द्र प्रसाद जी के आत्‍मकथा का यह अंश पढ़ना आवश्‍यक है-

बम्बई मे ही मालूम हुआ था कि मध्यप्रदेश के मत्रिमण्डल में आपस का बहुत मतभेद हो गया है। एक दूरारे की शिकायतें करते हैं। उसी समय पारलेमेण्टरी कमिटी ने निश्चय किया कि वह इस बात की जाँच करेगी। उन दिनों पचमढ़ी में गवर्नमेण्ट रहा करती थी। इसलिए सरदार बल्लभभाई और मौलाना साहब वहाँ गये। मैं नहीं जा सका; क्योंकि मैं बीमार था। झगड़ा प्रधान मत्री डाक्टर खरे और पंडित द्वारका प्रसाद मिश्र मे था। हिन्दुस्थानी मध्यप्रदेश में मत्रिमण्डल बनने के पहले दो दल थे-एक मे पंडित द्वारका प्रसाद मिश्र समझे जाते थे और दूसरे में पंडित रवि शंकर शुक्ल। जिस समय १९३७ में असम्बली का चुनाव हुआ था उसी समय एक मुकदमा पंडित द्वारका प्रसाद के खिलाफ चलने की खबर निकली। उन्होंने वर्किंग कमिटी को खबर दे दी कि चूँकि उनके विरुद्ध मुकदमे की बात चल रही है, इसलिए जब तक वह उससे निकलकर अपने चरित्र की सफाई न दे दे तब तक वह काँग्रेस के सभी पदों से अलग रहने को तैयार हैं। वहाँ कोई भी कॉग्रेस-पार्टी का नेता नही हो सकता था जब तक उसे हिन्दुस्थानी विभाग के मेम्बरों की पूरी सहायता न मिले।




पंडित द्वारका प्रसाद ने डाक्टर खरे की मदद की। उनकी मदद से ही वह नेता चुने गये । जब मंत्रिमण्डल बनने का समय आया तो उनकी ही गवर्नर ने मंत्रिमण्डल बनाने का आदेश किया। जो मुकदमा पंडित द्वारका प्रसाद पर चलनेवाला था उसे बेबुनियाद समझकर वहाँ के हाकिमों ने उठा लिया। उसके बाद पंडित द्वारका प्रसादजी भी मत्रिमण्डल में आये । इस तरह यह समझा जाता था कि उनकी और डाक्टर खरे की बड़ी मित्रता थी। बात भी ऐसी ही थी। पंडित रविशकर शुक्ल भी मंत्री बने थे ।

काँग्रेस के काम मे वह पंडित द्वारका प्रसाद के प्रतिद्वन्द्धी समझे जाते थे। मत्रिमण्डल के, काम मे शुक्लजी और मिश्रजी की राय बहुत-सी बातों मे एक हुई। दोनों का डाक्टर खरे से मतभेद हुआ। यदि इतना ही रहता तो कोई हर्ज नही; क्योंकि मित्रता एक अलग चीज है और देश-सेवा-सम्बन्धी मतभेद दूसरी चीज। डाक्टर खरे ने मिश्रजी की शिकायत की और मिश्रजी ने भी डाक्टर साहब की ।

इन्ही शिकायतों को दूर करने के लिए सरदार पचमढ़ी गये। वहाँ पर कुछ बाते तय हुईं। आशा की गयी कि मामला तय हो जायगा और दोनों काम चलाने लगेंगे। पर बात ऐसी नही हुई। डाक्टर खरे अपना विचार नही बदल सके। उन्होंने सोच लिया कि मिश्रजी के साथ उनकी नहीं निभेगी। उधर मिश्रजी के साथ काम करते-करते शुक्लजी उनके साथ अधिक मिल-जुल गये। ऐसा मालूम हुआ कि डाक्टर खरे उन दोनों को किसी न किसी तरह मत्रिमण्डल से हटावेंगे। पर जो प्रयत्न इस झगडे़ को हटाने का हुआ वह विफल हुआ। आपस का वेमनस्य बढ़ता ही गया। मैं अच्छा होकर वर्धा मे ही आराम कर रहा था कि एक दिन अचानक खबर मिली, झगडे़ ने उग्र रूप धारण कर लिया है। पारलेमेण्टरी कमिटी और वर्किंग कमिटी की बैठक उसके दो ही दिनों के बाद होनेवाली थी। डाक्टर खरे उसके पहले ही मत्रिमण्डल तोडकर अपनी पसन्द का नया मत्रिमण्डल बना लेना चाहते थे। उन्होंने इसके लिए गवर्नर की मदद ली। जब मुझे खबर मिली तो मैंने उनको एक पत्र लिखा कि वह ऐसी कोई कारवाई न करें। दो ही दिनों में होनेवाली पारलेमेण्टरी कमिटी और वर्किंग कमिटी का इन्तजार कर लेवें। वह पत्र उनके पास रात को गया। उस रात को उन्होंने मंत्रिमण्डल का इस्तीफा देकर गवरनर से मंजूर करा लिया और नया मंत्रिमण्डल बना भी लिया। मेरा पत्र उनके पास किसी तरीके से रात मे पहुँचने न पाया। दूसरे दिन सवेरे नया मंत्रिमण्डल बन गया। उसमे पहले से ये दोनों मंत्री नही थे। कुछ नये लोग लिये गये थे। सब बाते इतनी जल्दबाजी मे रातों-रात हुईं कि नागपुर के नजदीक रहते हुए भी हमको पूरी खबर मंत्रिमण्डल के पुन:संगठित हो जाने के बाद मिली। जब दूसरे दिन पारलेमेण्टरी कमिटी की बैठक हुई तो इसे सब लोगों ने बहुत बुरा माना। दोनों पक्षों के लोग बुलाये गये । जो नये मंत्री बने थे वे भी बुलाये गये। श्री सुभाषचन्द्र बोस भी पहुँच गये थे। यद्यपि वह पारलेमेण्टरी कमिटी के मेम्बर नही थे तथापि वह कॉग्रेस के अध्यक्ष थे, इसलिए सबके ऊपर थे। उनकी हाजिरी में दोनों पक्ष की बातें सुनी गयीं । कमिटी का विचार हुआ कि इस तरह से नया मत्रिमण्डल बना लेना बेजा हुआ है, विशेषकर जब तुरत ही पारलेमेण्टरी कमिटी और वर्किंग कमिटी की बैठक होनेवाली थी। नये मंत्रिमण्डल के मंत्रियों से कहा गया कि वे इस्तीफा दे दें। ये बाते होते-हवाते रात बहुत बीत गयी थी। पर उसी समय टेलीफोन द्वारा डाक्टर खरे ने गवर्नर को खबर दे दी कि वह और उनके साथ नये मंत्री इस्तीफा दे रहे है। दूसरे दिन उन्होंने इस्तीफा लिखकर भेज भी दिया। वैसा ही दूसरों ने किया। अब नया मंत्रिमण्डल बनाने का निश्चय हुआ। उसमे पंडित रविशंकर शुक्ल प्रधान मत्री बने और पंडित द्वारका प्रसाद भी एक मंत्री हुए। डाक्टर खरे उसमें नही आये। वहाँ की असम्बली की की बैठक वर्धा में हुई जिसमे सुभाष बाबू और हम लोग भी हाजिर थे। उसने शुक्लजी को ही अपना नेता चुना। इसलिए वही प्रधान मंत्री बने ।




इस सारी कार्रवाई से वहाँ बड़ी हलचल मच गयी। डाक्टर खरे बहुत गुस्से में आ गये। उन्होंने बहुत जोरों से पारलेमेण्टरी कमिटी और महात्माजी की शिकायत की। सारी कारवाई की कडे़ शब्दों मे निन्दा भी की। वह महाराषट्रीय ब्राह्मण हैं । शुक्लजी और मिश्रजी उत्तर-भारत के हिन्दी-भाषी कान्यकुब्ज ब्राह्मण है। वहाँ और दूसरे स्थानों मे भी महाराष्ट्री और अ-महाराष्ट्री का झगड़ा उठ खडा हुआ ! कुछ दिनों तक ऐसा मालूम होता था कि काँग्रेस के अन्दर बड़ी भारी फूट फैल जायगी। डाक्टर खरे की कार्रवाइयाँ ऐसी हुई कि कुछ दिनों बाद उन पर अनुशासन की कारवाई करनी पड़ी। उनको कॉग्रेस से बहिष्कृत करना पड़ा। यह झगड़ा चल ही रहा था कि एक पुस्तिका निकली। उसमे डाक्टर खरे की बातों का समर्थन किया गया था। जो कार्रवाई वर्किंग कमिटी ने की थी उसकी निन्दा भी थी। सारी बाते अखिल भारतीय कमिटी के सामने आनेवाली थी। सुभाष बाबू कई दिनों तक वर्धा मे और उसके बाद नागपुर में ठहरे रहे। उन्होंने एक बहुत बड़ा बयान तैयार किया जिसमें सारी बाते लिखी हुई थीं। वह बयान एक पुस्तक के रूप में छाप दिया गया। अखिल भारतीय कमिटी की बैठक के समय वह बाँटा भी गया। इस सारे मामले पर विचार हुआ । तब डाक्टर खरे को काँग्रेस से निकालने का हुआ। मैं डाक्टर खरे को १९३४ से ही अच्छी तरह जानने लगा था, जब उन्होंने केन्द्रीय असम्बली के चुनाव मे डाक्टर मुंजे का मुकाबला किया था। उस समय उन्होंने बहुत जोश के साथ काँग्रेस के पक्ष का समर्थन किया था। जब श्री अभ्यंकर का स्वर्गवास हो गया तो मराठी-भाषी मध्यप्रदेश के वही नेता माने जाने लगे। हम सबके साथ उनका बहुत अच्छा व्यवहार था। प्रान्तीय असम्बली के चुनाव के समय उनकी ही राय से सब बातें पारलेमेण्टरी कमिटी ने की। मंत्रिमण्डल के संगठन में भी वही बराबर मुख्य समझे जाते रहे। इस प्रकार पारलेमेण्टरी कमिटी के लोगों का उन पर भरोसा था और उनके साथ व्यवहार भी अच्छा था।




जब मैं सभापति की हैसियत से उनके सूबे में गया था तो उन्हीं के यहाँ ठहरा था। उन्होंने ही दौरे में मेरा साथ दिया था। इस तरह वह सबके मान्य थे । पर इस मामले मे, न मालूम क्यों, उन्होंने ऐसा विचार बना लिया। जो झगड़ा उनका मिश्रजी के साथ हुआ उसमें पारलेमेण्टरी कमिटी को भी घसीटकर उन्होंने नाथ दिया। महात्मा गांधी को भी उन्होंने अछूता न छोड़ा। यह सारी घटना बडी दु.खद हुई, क्योंकि उनके जैसा एक योग्य आदमी काँग्रेस का विरोधी बन गया। उसके बाद उन्होंने काँग्रेस को हर मौके पर नीचा दिखाने का प्रयत्न किया है। उनके ऐसे-ऐसे बयान हुए हे और ऐसी-ऐसी बाते उन्होंने काँग्रेस के सम्बन्ध में कही हे जैसी शायद कांग्रेस के कट्टर विरोधी भी नहीं कहते होंगे । हम लोगों की नजरों के सामने काँग्रेस की प्रतिष्ठा और उसके अनुशासन की रक्षा के सिवा कोई दूसरी बात नही थी । सच पूछिए तो मैं जितना डाक्टर खरे को जानता था और उनके प्रति जितनी श्रद्धा रखता था उतनी मिश्रजी के प्रति नही ; क्योंकि मिश्रजी के साथ काम करने का उतना मौका नही आया था। डाक्टर खरे भी मिश्रजी के बडे श्रद्धालु थे और उन पर बहुत भरोसा किया करते थे। पर कुछ विषयों में मतभेद हो जाने के कारण वह उनसे इतने बिगड़ गये कि दोनों का एक मंत्रिमण्डल मे रहना असम्भव हो गया। उनकों वहाँ से निकलवा देने पर वह तुल गये और वह निकलवाना भी गवर्नर की मदद से। जो हो, इस दु:खद घटना का परिणाम अच्छा नहीं हुआ । जो झगड़ा उस समय खड़ा हुआ वह अभी तक खत्म नही हुआ है यद्यपि अब वह मराठी और अ-मराठी झगडे़ का रूप नही रह गया है । हाँ, दूसरे तरीके से, समय बीतते-बीतते, बातें ठंढी पड़ गयी। पर डाक्टर खरे काँग्रेस से अलग हो ही गये हैं और शायद रहेगे ही ।

08 July, 2019

संयोगवश बाॅलीवुड के गुरूदत्त और संजीव कुमार का जन्मदिन की एक ही तारीख है 9 जुलाई। दोनों अपने-अपने क्षेत्र में उत्कृृष्ट कलाकार थे। संजीव कुमार का संवाद शैली, अभिनय, मुस्कुराहट दर्शकों के दिल में हमेशा रहेंगे और ये भी सच है कि गुरूदत्त के जाने के बाद कई फिल्मों के नायक के लिए संजीव कुमार ही उपयुक्त थे।

बाॅलीवुड और बस्तर दो अलग-अलग क्षेत्र है। एक कला जगत, तो दूसरा भारत का एक बड़ा भूभाग। दोनों ने अपने-अपने महाराजा को कालचक्र में खो दिया। गुरूदत्त के जीवन की शुरूआत से अंत तक एक और सर्वश्रेष्ठ नायक उनके साथ आए (जन्म-वर्ष 1925-29) और उनके साथ ही चले गए (मृत्यु 1964-66) वो हैं ‘बस्तर के महाराजा प्रवीरचंद्र भंजदेव’। शायद उनका कहीं मुलाकात भी न हुआ हो, लेकिन आज जब एक नायक को देखते हैं तो दूसरा नायक खुद ब खुद परछाई की तरह दिख जाते हैं। दो अद्भुत सुंदर, आकर्षक व्यक्तित्व वाले, मनमोहक, दयालु, सज्जन, प्रतिभा के धनी व्यक्ति, कार्य के प्रति अथक लगन, श्रम और अंग्रेजी सहित अन्य भाषा के जानकार दोनों महाराजा-एक बड़े भूभाग बस्तर का महाराजा और दूसरा कला का महाराजा। दोनों का एक समान व्यक्तित्व, संघर्ष और कम उम्र में अन्त ये समानता असंख्य लोगों के दिल में आज भी राज करती है।

वर्ष 1947 आजादी का साल और ज्यों-ज्यों साल बढ़ते गए दो युवाओं का अपने-अपने क्षेत्र में संघर्ष की शुरूआत हुई। गुरूदत्त ने ‘प्यासा’ फिल्म की कहानी लिखी, वहीं प्रवीरचंद्र ने भारत गणराज्य में बस्तर के विलय के लिए विलय पत्र में हस्ताक्षर किए। इस विलय पत्र में हस्ताक्षर करके लौटने के बाद प्रवीरचंद्र को महसूस हुआ कि उन्होंने अच्छा नहीं किया, बस्तर को खो दिया और इस बात का जिक्र अपने एक अग्रेंज अधिकारी को किया (लेख, किताबों में जिक्र अनुसार)।

गुरूदत्त ने बाॅलीवुड में बाज, बाजी, सीआईडी, आर-पार, साहेब बीबी और गुलाम, कागज के फूल और प्यासा फिल्म के निर्माता, निर्देशक और अभिनेता की सफलता-विफलता की जिंदगी जी और सर्वश्रेष्ठ गीत, संगीत, भाषा-शैली, चित्रांकन से विश्व में भारतीय सिनेमा का का नाम रौशन किया।

वहीं प्रवीरचंद्र ने 1949 में जगदलपुर विधानसभा सीट जीता। सरकार के रवैये से खफा होकर उन्होंने विधायक पद से इस्तीफा दे दिया और अगले चुनाव में बस्तर से नौ सीट जीताया। आदिवासी, जल, जंगल और जमीन के प्रति उनके हक के लिए संघर्ष, अथाह प्रेम, रक्षात्मक कवच लिए उनका व्यक्तित्व। प्रवीरचंद्र पूर्व महाराजा थे, आदिवासियों का उनके प्रति अनन्य प्रेम था। आदिवासी समूह का महल में मुलाकात, रस्म आदि चल रहा था। भीड़ द्वारा एक पुलिस की हत्या होने पर प्रवीरचंद्र जी का अंत की शुरूआत हुई। पुलिस ने महल को चारो ओर से घेर लिया और महिला-बच्चों को समर्पण के लिए कहा। महिलाओं और बच्चों पर गोलियां चलने से प्रवीरचंद्र दौड़ते हुए बचाने आए लेकिन पुलिस फायरिंग में 25 गोलियां उनके शरीर में धंस गई और वो उठ नहीं पाए। कैसी विडंबना है कि अद्भुत प्रतिभा के धनी व्यक्तियों का अंत एकाकी और अथाह प्रेम के कत्र्तव्य के भंवर में हो जाता है।

गुरूदत्त ने फिल्मों की माध्यम से अपनी योगदान को फिल्म के माध्यम से जीवित रखा है वहीं प्रवीरचंद्र ने आदिवासी, जल, जंगल और जमीन के हक के लिए जो योगदान दिए वह इतिहास में दर्ज है। प्रवीरचंद्र ने अपनी एक पुस्तक लिखी- आई प्रवीर, द आदिवासी गाॅड। यह संस्करण इंटरनेट और आनलाइन के के माध्यम से जन-जन को प्राप्त हो तो उनके दिल की बात और भी लोगों तक पहुंचेगी। आज भी बस्तर के लोगों में प्रवीरचंद्र का गहरा प्रभाव है, वे अमिट प्रेम को बनाए हुए मां दंतेश्वरी के चित्र के साथ प्रवीरचंद्र की तस्वीर रखते हैं।
पता नहीं क्यों आज हिन्दी सिनेमा का सम्राट गुरूदत्त और बस्तर के महाराजा प्रवीरचंद्र ने जो लोगों के दिलों में जगह बनाई है। उनके मिटने के बाद भी उसकी भरपाई आज 50 वर्ष बाद भी किसी ने नहीं कर पाई।
- देवराम यादव



छत्तीसगढ़ी शब्द

छत्‍तीसगढ़ी उपन्‍यास

पंडवानी

पुस्तकें-पत्रिकायें

Labels

संजीव तिवारी की कलम घसीटी समसामयिक लेख अतिथि कलम जीवन परिचय छत्तीसगढ की सांस्कृतिक विरासत - मेरी नजरों में पुस्तकें-पत्रिकायें छत्तीसगढ़ी शब्द विनोद साव कहानी पंकज अवधिया आस्‍था परम्‍परा विश्‍वास अंध विश्‍वास गीत-गजल-कविता Naxal अश्विनी केशरवानी परदेशीराम वर्मा विवेकराज सिंह व्यंग कोदूराम दलित रामहृदय तिवारी कुबेर पंडवानी भारतीय सिनेमा के सौ वर्ष गजानन माधव मुक्तिबोध ग्रीन हण्‍ट छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म ओंकार दास रामेश्वर वैष्णव रायपुर साहित्य महोत्सव सरला शर्मा अनुवाद कनक तिवारी कैलाश वानखेड़े खुमान लाल साव गोपाल मिश्र घनश्याम सिंह गुप्त छत्‍तीसगढ़ का इतिहास छत्‍तीसगढ़ी उपन्‍यास पं. सुन्‍दर लाल शर्मा वेंकटेश शुक्ल श्रीलाल शुक्‍ल संतोष झांझी उपन्‍यास कंगला मांझी कचना धुरवा कपिलनाथ कश्यप किस्मत बाई देवार कैलाश बनवासी गम्मत गिरौदपुरी गुलशेर अहमद खॉं ‘शानी’ गोविन्‍द राम निर्मलकर घर द्वार चंदैनी गोंदा छत्‍तीसगढ़ी व्‍यंजन राय बहादुर डॉ. हीरालाल रेखादेवी जलक्षत्री लक्ष्मण प्रसाद दुबे लाला जगदलपुरी विद्याभूषण मिश्र वैरियर एल्विन श्यामलाल चतुर्वेदी श्रद्धा थवाईत