ब्लॉग छत्तीसगढ़

02 August, 2007

नेट चैट प्रेमालाप नें पंहुचाया जेल




छद्म नाम एवं झूठ फरेब से भरी नेट की दुनिया का एक सच

भिलाई का एक छात्र नेट प्रेमिका से करोडपति पुत्र बनकर करता था चैट

प्रेमिका को रायपुर एयरपोर्ट से नई कार में रिसीव करने व रहीसी को साबित करने किया खुद के अपहरण नाटक
अपने ही बाप से मांगी पंद्रह करोड की फिरौती


आप भी चित्र बडा कर पढे क्षेत्रीय समाचार पत्र नवभारत की रिपोर्टिंग



5 comments:

  1. सही है प्रभु, जैसी करनी वैसी भरनी!!
    नेट-चैट के बहुत से किस्से ऐसे है जो सामने नही आ पाते हैं!!

    ReplyDelete
  2. बताईये, यह नादान बच्चे. हद है भई!!

    ReplyDelete
  3. ये संजीत त्रिपाठीजी को पढ़वाईये आजकल वे नैट पर किसी को सैट करने में लगे हुए हैं, और प्रेम-ऊम पर कुछ शायरी ठेल रहे हैं। संजीतजी ,जैसी करनी वाली बात ना कहें, भरनी पड़ गयी तो परेशान हो जायेंगे। ब्लागर्स प्रतिनिधिमंडल बनाकर आना पड़ेगा रायपुर पुलिस से छुड़ाने। आपके बगैर ब्लागिंग में कईयों का दिल ही ना लगेगा ना।

    ReplyDelete
  4. sahi hai jI संजीत जी ने पढ ली हो अगर आलोक जी की पुकार तो यही करे स्वीकार हमे है इंतजार्..

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

Popular Posts

02 August, 2007

नेट चैट प्रेमालाप नें पंहुचाया जेल




छद्म नाम एवं झूठ फरेब से भरी नेट की दुनिया का एक सच

भिलाई का एक छात्र नेट प्रेमिका से करोडपति पुत्र बनकर करता था चैट

प्रेमिका को रायपुर एयरपोर्ट से नई कार में रिसीव करने व रहीसी को साबित करने किया खुद के अपहरण नाटक
अपने ही बाप से मांगी पंद्रह करोड की फिरौती


आप भी चित्र बडा कर पढे क्षेत्रीय समाचार पत्र नवभारत की रिपोर्टिंग



Disqus Comments