ब्लॉग छत्तीसगढ़

29 October, 2014

मस्‍त प्रश्‍न, समय और फेसबुक

आज सुबह जब छत्तीसगढ़ी के यशश्वी युवा व्यंग्यकार पी के मस्त जी को अपने नामानुरूप टाई कसे सड़क पर देखा तो अचानक मेरी उगलियॉं मेरे दाढ़ी पर रेंग गई. लम्बे पके दाढ़ी के बाल उंगलियों को अहसास करा रहेथे कि हमारा पके और चूसे आम वाला चेहरा अब रेशेवाली गुठली जैसे नजर आ रही होगी. हमने उंगलियां वहॉं से हटाते हुए अहसास को दूर झटका और मस्त जी को आवाज दिया. 

हम दोनों की बाईक समानांतर रूकी, मैंनें पूछा "यार आज टाई में बहुत खुबसूरत लग रहो हो!" मस्त जी नें सकुचाते हुए बतलाया कि उन्होंने पर्सनालिटी डेवलपमेंट का कोर्स ज्वाईन कर लिया है और वे वहीं जा रहे हैं, उन्होंने यह भी बतलाया कि वे वहॉं से पाये ज्ञान एवं अनुभवों से प्रत्येक शुक्रवार स्लम एरिया के युवाओं को पर्सनालिटी डेवलपमेंट का ज्ञान बांटते हैं. छत्तीसगढ़ी साहित्यकार का सुदर्शन रूप और उस पर लोगों को पर्सनालिटी डेवलपमेंट का ज्ञान बांटनें की बात पर मुझे बेहद खुशी हुई. क्या मेरी पर्सनालिटी भी डवलप हो सकती है? प्रश्न नें समय को अपने आगोश में ले लिया. चुप्पी के विस्तार के बीच मस्त जी नें चितपरिचित मुस्कान बिखेरा, किक लगाया और चले गए. 

मैं अपने आप को आम आदमी का प्रतिरूप मानते, दाढ़ी पर उंगलियॉं फेरेते हुए वहीं जमा रहा. अभी दो दिन पहले ही तो मेरी ऐसी सूरती चित्र फेसबुक में अपलोड हुआ था और जमकर लाईक व कमेंट आये थे. मेरी रचनायें, कवितायें वैश्विक स्‍तर पर पढ़ी जा रही हैं, सराही जा रही हैं. अब मुझे पहचान की कोई आवश्‍यकता ही नहीं है, मेरी पर्सनालिटी डवलपमेंट तो सोसल मीडिया ने कर ही दिया है फिर किसी कोर्स को ज्योइन कर समय और पैसे खर्च करने की क्या आवश्यकता? 

प्रश्‍न उठ रहे थे जो मुझे पहली कक्षा से परेशान कर रहे हैं, परीक्षा हाल में नये छपे पन्‍नों में बिखरे प्रश्‍न को देखते ही माथे में और हाथों में पसीना फूट पड़ता था. हर साल सरजी परीक्षा में अटपटे प्रश्‍न ही छांटते थे ताकि मैं, साल भर मेहनत करने के बावजूद, उन्‍हें हल ना कर सकूं. जैसे तैसे असंतुष्टि के साथ उत्‍तर देने के बाद जब पास होता तो रिजल्‍ट देखकर लगता कि उन प्रश्‍नों का उत्‍तर मुझे पता था. सालों साल यही होता रहा, परीक्षा के प्रश्‍नों के साथ ही जीवन के अचानक मुह बाए आ खड़े होने वाले प्रश्‍नों नें कभी मेरा पीछा नहीं छोड़ा. अब तो आदत हो गई है, बेफिक्री से उत्‍तर देता हूं किन्‍तु ये अशांत तो करते ही हैं. जिस दिन प्रश्नों से पीछा छूटेगा उसी दिन अनंत शांति मिलेगी. ब्‍लॉं ब्‍लॉं ब्‍लॉं .. दर्शन झाड़ने के लिए ही सहीं मन में समय नें विस्‍तार ले लिया था.

मोबाईल की घंटी बजने लगी थी, फेसबुक की यादों को बीच में बंद कर हमने "हलो!" कहा. दूसरी ओर हमारी पत्नी नें भी "हलो!" कहा. संक्षिप्त बातें हुई और विस्तारित समय सिमट कर जेब में समा गया. आज रात को ## हजार रुपए के साथ घर पहुंचना है, यह वाक्य प्रश्न नहीं था पर व्याकुल करने में समर्थ था. ओह, ये छुपा हुआ प्रश्‍न था. ये तो और खतरनाक है, छुपा हुआ प्रश्‍न. आठ घंटे में ## हजार की व्‍यवस्‍था कैसे होगी? मुझे लग रहा था कि इस शब्‍दांश में कोई अलंकार है, प्रश्‍न दिख भले नहीं रहा है. रात को नेट में, ओपन बुक में खोजूंगा, इसी बहाने एकाध कविता फेसबुक में ठोकनें लायक बन जायेगी. फेसबुक की यादों नें ## हजार के प्रश्‍न के भारीपन को हल्‍का फुल्‍का कर दिया. पी के मस्त जी की मस्‍त रचनायें, उनका डवलप्ड पर्सनालिटी, मेरे दाढ़ी के बालों में कहीं अटकी रही. उंगलियाँ बार बार उसे महसूस करती रही. हमने भी बुलेटिया किक अपने खट खटिया फटफटी को मारा और आगे बढ़ गए. पीछे धूल और धुवाँ देर तक उड़ता रहा. 
(यूं ही, लेखन के लिए वार्मअप होते हुए)

©तमंचा रायपुरी

1 comment:

  1. अरे आप तो ऐसे ही फ़ुल स्मार्ट हो। और क्या इस्मार्ट होना?

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

loading...

Popular Posts