ब्लॉग छत्तीसगढ़

07 November, 2009

कृषि संबंधी साखियां व पशु-पक्षी, प्रकृति संबंधी साखियां


कृषि संबंधी साखियां - गांव के लोगों का प्रमुख कार्य कृषि ही है, नाचा के कलाकार भी स्वत: कृषक और मजदूर होते हैं। तब भला अपने कृषि कर्म में काम आने वाली वस्तुओं को वे कैसे भूल सकते हैं? कृषक जीवन की दिनचर्या और कृषि कर्म भी साखी और पहेली की विषय सामग्री बनते हैं-

आगू डाहर सुल्लु, पाछू डाहर चकराय।
आंही-बांही गोल गोल, बीच म ठड़ियाय।।

इस साखी में बैलगाड़ी का चित्रण है, जिसका सामने भाग नुकीला और पिछला भाग चौडा होता है। आजू-बाजू गोल-गोल दो चक्‍के होते हैं। बीच में लोहे की पोटिया लगी होती है।

टरर-टरर करथस टरटरहा, तोर घेंच म बांधव घांटी।
बीच पेट ल बेध के तोर, पाछू म छाबंव माटी।।

गांवों में सिंचाई का समुचित साधन नहीं होने के कारण ग्रामीण जन कुएं में टे़डा लगाकर पानी टे़डते हैं और सिंचाई करते हैं। उपरोक्त साखी में टे़डा को पहेली के रूप में पूछा गया है।

शु-पक्षी, प्रकृति संबंधी साखियां - लोक मानस प्रकृति का पुजारी है, प्रकृति ही उसका सर्वस्व है। इसलिए वह प्रकृति से तादात्य्यां बनाकर चलता है। प्रकृति से कटना जैसे जीवन से कटना है। प्रकृति ही लोक के लिए ऊर्जा का स्रोत है और उसका जीवन भी। जंगल, जल और जमीन, लोक के प्राण तीन। प्रकृति पुत्र नाचा का कलाकार भला प्रकृति का अनादर कैसे कर सकता है? उसके रोम-रोम और सांस-सांस में प्रकृति के प्रति अनन्यन प्रेम है इसलिए लोक कलाकार प्रकृति का प्रेमी होता है। प्रकृति भी उसकी कला की अभिव्यक्ति में मुखरित होती है। नाचा की साखियां प्रकृति के विविध रंगों से रंगी हुई है-

एक सींग के बोकरा, मेरेर-मेरेर नरियाय जी।
मुंह डाहर ले चारा चरे, बाखा डाहर ले पगुराय जी।।

विचित्र बात यह कि बकरे का एक ही सींग है। वह में-में बोलता है। मुंह से चारा चरता है किंतु जुगाली बाजू से करता है। लोक में ऐसी सादृश्यता चय्की में मिलती है।

तीन गोड धरनी धरे, एक गोड अगास।
बिन बादर के बरसा, पंडित करो विचार।।

लोक कलाकार अपने आसपास परिवेश की हर घटनाओं को देखता परखता है। तब भला कुत्ता जो एक टांग उठाकर पेशाब करता है। वह कैसे बच सकता है? उसकी नजरों से। उपरोक्त साखी में कहा गया है कि तीन पैर धरती पर। एक पैर ऊपर आकाश की ओर और बिना बादल के बरसात हो रही है, इस पर ज्ञानीजन विचार करें।

बिन पांव के अहिरा भईया, बिना सींग के गाय।
अइसन अचरज देखेन हम, खारन खार कुदाय।।

इस साखी में मेंढक को बिना सींग की गाय और सर्प को बिना पैर का ग्वाबला चित्रित किया गया है। मेंढक को खाने के लिए सर्प दौडाता है। तब गाय के पीछे दौडते ग्वा ले की ही स्थिति निर्मित होती है।

चार गोड के चप्पोल, ओखर ऊपर निप्पोऔ।
आइस भाई गप्पो , तहां धर के लेगे निप्पोप।।

चार गोड के चप्पेप अर्थात डबरे में बैठी भैंस। निप्पो अर्थात भैंस पर बैठा मेंढक व गप्पो यानी चील, चील मेंढक को चोंच में दबाकर भाग जाता है।

दस चरन दस नेत्र है, पांच मु़ड जीव चार।
पनिहारिन के दोहरा, पंडित करो विचार।।

दस पैर हैं, दस आंखें हैं व पांच सिर है, किंतु जीव अर्थात जीवित चार ही हैं। पनिहारिन की तरह ऊपर दोहरा है। अजी यह क्याआ है? विद्वान जन इस पर विचार कर बतायें। इस साखी का अर्थ तो अर्थी है। जिसमें शव को चार लोग कंधा देकर ले जाते हैं।

लाल गोला गोल चेपटी, सिंह धर बाघ खाय।
हाथी संग करे लड़ाई, अऊ कउंवा ल डर्राय।।

आकार गोल चपटा, रंग लाल है। सिंह, बाघ से डरता नहीं, हाथी से भी लड़ लेता है किंतु कौए से डरता है। वह जीव तो किलनी (जानवरों का खून चूसने वाला) है।

क्रमश: ....


डॉ. पीसीलाल यादव
संपर्क: 'साहित्य कुटीर`
गंडई पंडरिया जिला- राजनांदगांव (छ.ग.)

2 comments:

  1. रोचक! ये लोक साखियां संग्रहणीय हैं।

    ReplyDelete
  2. यह साखियाँ पुस्तकाकार भी कहीं प्रकाशित है क्या?

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

Popular Posts