ब्लॉग छत्तीसगढ़

05 November, 2009

देवी-देवता संबंधी साखियां

लोक जीवन धार्मिकता से ओतप्रोत होता है। धर्म पर लोक जीवन की आस्था अधिक रहती है। राम-सीता, कृष्णं-राधा, शंकर-पार्वती आदि देवी-देवताओं के साथ-साथ लोकांचल के अपने और भी भिन्नि-भिन्नं देवी-देवता होते हैं। नाचा में इन्हींर देवी-देवताओं से संबंधित धर्म विषयक साखियां व पहेलियां गम्मत के प्रारंभ में जोक्कड़ प्रस्तुत करते होते हैं-

घर निकलत तोर ददा मरगे, अधमरा होगे तोर भाई।
बीच रद्दा म नारी के चोरी होगे, काम बिगाड़े तोर दाई।।

उपरोक्त साखी में श्रीराम से संबंधित कथा को पहेली के रूप में प्रस्तुत किया गया है। भावार्थ यह कि- घर से तुम्हारे निकलते ही तुम्हारे पिताजी ने प्राण छोड दिये। तुम्हारा भाई मुर्छित हो गया। बीच रास्ते में तुम्हारी पत्नी की चोरी हो गई ये सारे कार्य तुम्हारी मां ने बिगाड़े हैं। जाहिर है उक्त घटनाएं श्रीराम के साथ ही घटित हुई थी।

चार महीना के छोकरी, छ: महीना के पेट।
अट्ठारा झन लईका बियाय, पुरुष संग नहीं भेंट।।

नाचा में जोक्कड़ों द्वारा साखी कहने की अद्भुत शैली होती है साखी में प्रश्न होते हैं जो दर्शकों को उ?ार सोचने के लिए विवश करते हैं। हल तो जोक्कड़ों द्वारा ही निकाला जाता है। चार माह की लड़की है जिसे छ:माह क गर्भ है। उसके अट्ठारह बच्चे हैं। आश्चर्य यह कि किसी पुरुष के साथ उसकी भेंट नहीं हुई है। इसका उत्तनर है- चार वेद छ:शास्त्रभ और अट्ठारह पुराण। इसी तरह देवी-देवता संबंधी एक अन्य साखी-

पानी तिहां बूंद नहीं, आगी तिहां नहीं आंच।
पंच तिहां नियांव नहीं, बिन दूल्हा जाय बरात।

इस साखी में गोवर्धन पर्वत, लंका दहन, द्रोपदी चीरहरन व अयोध्याण से श्रीराम (दूल्हा) के बिना बारात प्रस्थान की ओर ईशारा नीति संबंधी साखियां आचरण की पवित्रता, लोक जीवन की विशेषता है। लोक जीवन सादगी पूर्ण, सहज, सरल, और वाह्य आडम्बरों से मुक्ति होता है। सत्यी, ईमानदारी, सेवा-सहयोग और मैत्रीपूर्णव्यवहार गांव के लोगों की संपत्ति है। ये नीति और नियमों के पय्के, खुद-दुख सह लेंगे पर दूसरों को दुख नहीं देंगे। नीति न्यासय का पर्याय है। नाचा में नीति संबंधी साखी की बहुलता है। देखें कुछ बानगी-

राजा के मरगे हाथी, देवान के मरगे घोडा।
रांडी के मरगे कुकरी, त एक बराबर होय।

यदि राजा का हाथी मर गया, मंत्री का घोडा मर जाये और किसी गरीब विधवा स्त्रीश की मुर्गी मर जाये तो इन तीनों की हानि बराबर आंकी जायेगी।

मैं मरेंव तोर बर, तैं झन मर मोर बर।
तैं मरबे मोर बर, त ऊपर खड़े हे तोर बर।।

इस साखी में केंचुआ (जिसे मछली फंसाने के लिए कांटे में लगाया जाता है) मछली से कहता है- मुझे तुम्हें
फंसाने के लिए मारा गया है, अच्छाम होगा कि तुम मुझे खाने के लिए मत दौडो। यदि तुम मुझे खाओगे तो बंशी के कांटे में फंस कर मारे जाओगे। य्योंकि तुम्हें मारने के लिए ऊपर आदमी खड़ा है। इस साखी में लालच न करने की शिक्षा सन्निहित है।

बड़े फजर परचारी करे, अऊ परे दुवारी जाय।
पर नारी से हेत करे तो, सीधा बैकुंठ जाय।।

अल्सुबह जो दूसरे की चर्चा करेगा, दूसरे की आंगन में जायेगा तथा दूसरे की नारी से प्रेम करेगा वही सीधा
बैकुंठ जायेगा। यह कबीर की उलट बासी की तरह है। यहां पर चारी का आशय- प्रभु स्मरण से हैं। दूसरे के आंगन का आशय सुबह शौच क्रिया से हैं तथा दूसरे की नारी का आशय तुलसी के पौधे में जल डालने से हैं। अर्थात उपरोक्त क्रिया कर व्यक्ति स्वस्थ रहकर बैकुंठ को प्राप्त कर सकेगा। स्वस्थ रहना ही बैकुंठ को प्राप्त करना है।

क्रमश: ....


डॉ. पीसीलाल यादव
संपर्क: 'साहित्या कुटीर`
गंडई पंडरिया जिला- राजनांदगांव (छ.ग.)

3 comments:

  1. देवी देवता सम्बंधित साखिया पढ़कर बहुत अच्छा लगा .. समय के साथ ये कहानियाँ बहती आ रही हैं .. साखियों के रूप में एक से दूसरे के पास सहज प्रवाह में हस्तांतरित होती रहीं हैं तभी आज भी सुरक्षित हैं ज्ञानवर्धन के लिएधन्यवाद

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया व ज्ञानवर्धक पोस्ट लिखी है।धन्यवाद।

    ReplyDelete
  3. इन साखियों मे सदियो से अर्जित अनुभव है ।

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

Popular Posts