ब्लॉग छत्तीसगढ़

29 October, 2009

दुकान और पकवान के बीच सामन्‍जस्‍य तो आपको ही बनाना है

ललित शर्मा जी नें अपने ब्‍लाग एक लोहार की के ताजे पोस्‍ट में टिप्‍पणियों की समस्‍या के संबंध में पूछा है कि पाठकों की माडरेट की गई टिप्‍पणियां पब्लिश करने के बाद भी उनके पोस्‍टों में प्रकाशित नहीं होती। टिप्‍पणियां कुछ इस तरह से गायब होती हैं जैसे कहीं कोई बरमूडा ट्रैंगल हो या ब्‍लैक होल हो। उनकी चिंता लाजमी है इस समस्‍या पर तकनीकि के जानकार लोगों नें अपना सुझाव दिया है जिन पर ललित जी को अमल करना चाहिए।

उनके पोस्‍ट पर पी.सी.गोदियाल जी नें टिप्‍पणी की है

एक बात और, कुछ लोगो की साईट पर हम लोग चाह कर भी टिपण्णी नहीं कर पाते जैसे उद्दहरण के लिए दर्पण साह दर्पण जी का ब्लॉग, लाख कोशिश करो लेकिन ब्लॉग ठीक से खुलता ही नहीं कारण ब्लॉग पर अत्यधिक भार जैसे विज्ञापन, फोटो इत्यादि अतः उन लोगो से भी यही अनुरोध रहेगा कि वे अपने ब्लॉग को लोगो की पहुँच के लिए सुगम बनाए !


इस पर ब्‍लागजगत में चर्चा आवश्‍यक है, उन्‍होंनें कुछ ऐसी समस्‍याओं के संबंध में लिखा है जिससे हिन्‍दी ब्‍लागों के पाठक रोज दो-चार होते हैं। इसमें से एक मैं भी हूं, मैं अपने लैपटाप में सोनी के 550 मोबाईल से एयरटेल नेट कनेक्‍ट होता हूं। मोबाईल से नेट कनेक्‍ट होने के कारण मैं ऐसे ब्‍लागों एवं वेब साईटों में ही जा पाता हूं जो कम बाईट्स वाले हों, यहां तक कि हिन्‍दी फीड एग्रीगेटरों का अवलोकन भी हम नहीं कर पाते।

ज्‍यादातर ब्‍लागर अपने ब्‍लाग के हेडर में एवं साईडबार में भारीभरकम चित्र, स्‍लाईडशो, घडी आदि लगाये रखते हैं (कमोबेश हम भी यही करते हैं)जिससे उनका ब्‍लाग स्‍लो नेट कनेक्‍शन से खुलता ही नहीं है और हमारे जैसे उपयोक्‍ताओं को ऐसे ब्‍लागों का दर्शन भी नहीं हो पाता। इसी कारण हम ब्‍लागों का पठन मेल के द्वारा या गूगल फीड रीडर के द्वारा ही करते हैं। इससे एक समस्‍या यह रहती है कि हमारी टिप्‍पणियां उस ब्‍लाग की शोभा नहीं बढा पाती और अहम यह कि ब्‍लागर यह जान नहीं पाता कि हमने उसके ब्‍लाग के धांसू पोस्‍ट को पढा है। वैसे हमारे जैसे स्‍लो नेट कनेक्‍शन वाले पाठक अब विरल हो गए हैं सभी के पास हाईस्‍पीड ब्राड बैंड कनेक्‍शन है यदि हम नहीं पढ पाये भी तो ब्‍लागर को क्‍या अंतर पडता है यदि आप समझते हैं कि हमारे जैसे स्‍लो नेट कनेक्‍शन वाले भी आपके ब्‍लाग को पढ पायें तो निरर्थक विजेटों को अपने ब्‍लाग से हटा देवें। इससे उन लोगों को भी फायदा होगा जो सीमित बाईट्स के ब्राड बैंड प्‍लान लेते हैं, आपके ब्‍लाग पर आने में उनको कम बाईट्स खर्चना पडेगा और वे आपके पोस्‍ट को पढ पायेंगें।

हमारे इस विचार से हमारे अधिकतर ब्‍लागर संगी सहमत नहीं हैं उनका कहना है कि ऐसा करने से ब्‍लागिंग का मजा जाता रहता है, ब्‍लाग बिल्‍कुल ऐसा दिखना चाहिए जैसा वेब साईट हो, सजे धजे दुकान की तरह। तो दुकान और पकवान के बीच सामन्‍जस्‍य तो आपको ही बनाना है, आप जैसा सोंचें, आखिर हम सब ब्‍लागर हैं।


आप सभी को देवउठनी एकादशी, तुलसी विवाह (छत्‍तीसगढ में जेठउनी) त्‍यौहार की हार्दिक शुभकामनांए।

संजीव तिवारी

7 comments:

  1. ब्रॉड्बैण्ड में भी कई ब्लॉग नहीं खुल पाते संजीव जी!
    यह बात ब्लॉगर साथी मानते ही नहीं

    बी एस पाबला

    ReplyDelete
  2. संजीव जी आप ने सही कहा। मेरे ब्लाग के बारे में समस्या हो तो बताइएगा। वैसे भी हलका करने का प्रयत्न करता हूँ।

    ReplyDelete
  3. वैसे भी इतने दिन मे हमने यह जान लिया है कि लोग मुख्य प्रष्ठ ही पूरा नही पढ पाते साइड् बार की ओर तो झाँकते भी नही इस लिये सब विजेट हटा देना चाहिये बस काम के रखे जैसे आपका त्रांसलेशन वाला ।

    ReplyDelete
  4. आदेश पे अमल होगा श्रीमान-अब टेम्पलेट आपके नेट की स्पीS के हिसाब से रखा जायेगा।
    पैदा न हो जमी से नया आसमा कोई
    मुझे डर लगता है आपकी रफ़तार देखकर

    ReplyDelete
  5. सुझाव अच्छा है ...पेश करने का तरीका और भी रोचक है ...!!

    ReplyDelete
  6. आपका सुझाव बिल्कुल सही है। हमारे देश में अभी ब्राडबैंड का जाल इतना नहीं फैला है कि सभी को तेज गति वाला नेट कनेक्शन मिल सके।

    ReplyDelete
  7. ओह,आपके कमेण्ट न मिलने का कारण यह है! :)

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

loading...

Popular Posts