ब्लॉग छत्तीसगढ़

15 June, 2007

बिना लोगो मोनो का पेपर नेपकिन

अरे साहब जबरदस्‍ती मिले चारज से हलाकान सुबह सुबह उठ के हम भागे अपने होटल की ओर पर पत्‍नी के नाजुक हाथों से बना नास्‍ता कर के पंचू के पान का रस ना ले लें हमें चैन नही आता । पर आज तो पंचू के पांन ठेले में एक बहस चल रही है “किसने किसको क्‍या कहा ? “ हम भी पान के पिचकारी मारते हुए सब के बातों को रस ले ले कर सुननें लगे । कोई गजाधर भईया के स्‍टाईल में कह रहा था “देखे थे ना शरफरोस फिलिम में ! कईसन बडा लंबा पकड है भाई लोगन का हां ।“ कोई कह रहा था “भाई लोगों से पंगा लिया है पानी बूडे नई बचायेंगे ।“ कोई कहता “भाई इंडिया आने वाले हैं देखना सब की गिन गिन कर धुलाई करेंगें क्‍योंकि रिन शक्ति अब बन गया है सर्प एक्‍सल बार ।“

हमने सोंचा अब ज्‍यादा देर यहां रूकनें से कोई मतलब नही है क्‍योंकि हमने भी अमूल मांचो का चडढी पहिर रखा है कउनो कूकूर वाले बाई आ गईन तो चडडी उतरते देर ना लगिहैं । और रगड रगड के धुलाई चालू हो जाई ।

बंबईया भाई लोगन के स्‍टाईल में स्‍टड के खोपडिया तान के अपने खटखटिया बाईक में किक दे गेयर जमाई दिये और बडे शान से पिपियाते स्‍टील सिटी के चौडी सडकों में बाईक लहराने लगे क्‍योंकि जब से बंबईया भाई लोगन के फटफटी सवारी और बढी दाढी को देखा है मन में नया उत्‍साह उमड पडा है । नहीं तो अपनी खटखटिया बाईक और कूलर के बारे में कुछ भी कहते ना जाने ससुरी शरम कहां से आ ही जाती थी । पर अब हिम्‍मत बनाये भईया हिम्‍मत सिंग । अब तो एक इच्‍छा अउर रहि गैहैं अपने खटखटिया संग हमार बढिया फोटो ब्‍लाग में लगाये के । सोंचते सोंचते हम आगे बढने लगे ।

फटफटिया धुआ उडात रहै कि मोबाईलवा कें कें करने लगा । रस्‍ते में फोन आ गया रसूख भाई पेपर नेपकिन वाले का, बोला साहिब साबुन में आपका लोगो चटकाई दिया हूं थ्री स्‍टार डीलक्‍स को बडका छापा हूं अउर पेपर टायलेट रोल नेपकिन कल दे पाउंगा । सबै उत्‍साह पान के पीक जैसे धरती पर ।

आज हम अपने वेज होटल में संजीत भाई के ब्‍लागर मीट जइसे मीट का क्रियाकरम रखे हैं बीस पच्‍चीस ब्‍लागर लोगन के आने की संभावना है सब को नेउत आयें हैं और पेपर नेपकिन नही है । किसमें पोंछेंगे मूं हाथ, दस बारा ब्‍लागपरी भी आने वाली हैं किसमें छापा देंगी अपने लिपिस्टिक का ।

हम अपने वेटरी के जमाने में बम्‍बई के माई दरवाजा तीर खडे ताज होटल में साहब लोगन को पेपर नेपकिन का परयोग करते देख हूं ये पेपर नेपकिन जूठन को साफ करने के काम आती है बिचारी खुद फट के हमारा अंग साफ कर देती है पर कई साहब लोगन को दूसरे मैडमों के होंटो के छापा वाले नेपकिनों को बडे जतन से घिरिया के पर्स में रखते भी देखा हूं तब से आज तक अरे हां वेटर से मैनेजरी तक पेपर नेपकिन और टायलेट रोल के महत्‍व को गठरी बांध के सीखा हूं पेपर नेपकिन के नाम पर कोई समझौता नहीं।
रसूख भाई पेपर नेपकिन वाले को वापस फोन लगाया “रसूख भाई पेपर नेपकिन तो आज ही चाहिए, चाहे जैसे भी हो ।“ रसूख नें कहा “साहिब बिना लोगो मोनो के भेज दिया हूं ।“ मैने राहत की सांस ली । अच्‍छा हुआ पेपर नेपकिन बिना लोगो मोनो का है, नही तो ब्‍लागर मीट में किसी का लोगो किसी के और किसी का मोनो किसी के होंटो में टकरा जाता और छुद्र वस्‍तु के लिए ज्ञानियों में विवाद गहरा जाता ।

8 comments:

  1. बहुत ही खूब लिखे हो... मजा आई गवा :)

    ReplyDelete
  2. क्या बात है...हास्य व्यंग्यकार भी हैं जनाब आप...ये आपके छत्तीसगड़ की भाषा है क्या?

    सुनीता(शानू)

    ReplyDelete
  3. संजीव, बड़ी कोफ्त होती है जब ब्लॉग कम पढ़ने और सामयिक घटनाक्रम से अपरिचित होने के कारण पूरा आनन्द नहीं ले पाता. यह गजाधर समझ में नही आये. बम्बई की वेटरी से ब्लॉगरी का सफर कैसे हुआ - कभी बताया नहीं.
    हां - लोगो/मोनो/लिपस्टिक का व्यंग समझ आ गया.
    आई लाइक योर सेंस ऑफ ह्यूमर. ब्लॉग मीट में नहीं - वैसे मिलेंगे कभी!

    ReplyDelete
  4. व्यंग का प्रयास सफल रहा है

    ReplyDelete
  5. हा हा!!
    सही है भैय्या जम गए!!

    बाकी सब तो ठीक है भैय्या लेकिन ये…

    "आज हम अपने वेज होटल में संजीत भाई के ब्‍लागर मीट जइसे मीट का क्रियाकरम रखे हैं बीस पच्‍चीस ब्‍लागर लोगन के आने की संभावना है सब को नेउत आयें हैं और पेपर नेपकिन नही है । किसमें पोंछेंगे मूं हाथ, दस बारा ब्‍लागपरी भी आने वाली हैं किसमें छापा देंगी अपने लिपिस्टिक का ।"…

    हमका तो खबर ही नईं किए आप, ब्लॉगपरी लोगन से हम भी मिल लेते तनिक……

    ReplyDelete
  6. waah waah , bada badhiya !! maja aa gaya , poora pdh daal , shuru se ant tak , poora raj liya , kas ke nichre ke aisa ras liya aapke vyang ka ki aadhe ghante se pet fulaye baithe hain . .. ab agar bad hazmi ho gayi to ?

    ReplyDelete
  7. lijiye ho gayi na badhazmi !!
    aab koi bataye ham kaa karen ??
    kuch aa raha hai ...
    ye aaya...
    naipkin kee ant pant me koode me hi dala jaata hai , aur agar koi naipkin ko prem ki nishani samjhta hai to wo andha hai , kisi vichar ke prati .

    ReplyDelete
  8. पढ़ कर आनंद आगया! भाषा ने तो सोने पर सुहागे का काम कर दिया।

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

loading...

Popular Posts