ब्लॉग छत्तीसगढ़

07 June, 2007

छत्तीसगढी के लिए एकजुट आंदोलन का संकल्प

राजभाषा मंच के तत्वाधान में अगासदिया नें छत्तीसगढी और छत्तीसगढीया वैचारिक संगोष्ठी का आयोजन छत्तीसगढ के लौह नगरी भिलाई मे किया । इस गोष्ठी मे छत्तीसगढ मे निवास कर रहे सभी छत्तीसगढियो को भाषा की अस्मिता के लिये एकजुट होकर आंदोलन करने का संकल्प लेने को प्रेरित किया गया ।

कूर्मि भवन सेक्टर ७ में आयोजित इस संगोष्ठी के अध्यक्ष विधायक भूपेश बघेल नें अपने उद्बोधन मे कहा कि छत्तीसगढी भाषा को स्थापित करने के लिये केवल कोई एक क्षेत्र विशेष के लोग ही नही बल्कि सभी लोग जो इस धरती से जुडे है हमारी भाषा के संधर्ष में साथ साथ हैं । भाषा सब की जरूरत है और यह स्वाभिमान से जुडी लडाई है ।

इस अवसर पर पधारे संत कवि पवन दीवान ने कहा कि यहां चुनाव के समय छत्तीसगढी में वोट मांगा जाता है उसके बाद उस भाषा को भुला दिया जाता है । आज विकाश के इस दौर मे छत्तीसगढी ब्यापार और व्यवहार की भाषा बनते जा रही है। छत्तीसगढी मे बोल गोठिया के प्रशासनिक व व्यावसायिक कार्य हो रहे है पर छत्तीसगढीयों को उसकी भाषा नही दी जा रही है, बिना भाषा के कोई प्रदेश पूरा नही माना जा सकता है , छत्तीसगढी को सम्मान से पुरखों के सपने पूरे होंगे ।

प्रमुख वक्ता अशोक सिंघई नें अपने सरस वक्तव्य मे कहा कि भाषा जोडती है तोडती नहीं उंहोने हिन्दी लेखक पदुमलाल पन्नालाल बख्शी का उदाहरण देते हुए कहा कि बख्शी जी वंदनीय छत्तीसगढिया हैं । उंहोने छत्तीसगढी भाषा की एक रूपता के सबंध मे भी तथ्यात्मक सवाल उठाये छत्तीसगढ मे ही अलग अलग स्थानो पर अलग अलग प्रकार से बोली जाने वाली छत्तीसगढी भाषा की एकरुपता और मानक छत्तीसगढी की आवश्यकता पर प्रकाश डाला । उंहोने आगे कहा कि कौन छत्तीसगढिया है यह सोंचना छोड छत्तीसगढ के लिए कौन इमानदार है, यह सोचते हुए सबकी समझ में आने वाली भाषा की महत्ता को बढाने मे एकजुटता लाने को कहा ।

अंय वक्ताओं ने भी अपने अपने उदगार व्यक्त किये, भाषा की इस लडाई में चिकित्सा क्षेत्र से जुडे लोगों के प्रतिनिधि डा निर्वाण तिवारी नें कहा कि इस लडाई को सभी मिलकर लडेंगें, अभियंता और अधिकारी वर्ग का प्रतिनिधित्व कौशल वर्मा नें किया । कवि रवि श्रीवास्तव नें छत्तीसगढी की झूठी कसम खाने वालों को आडे हांथ लिया । राजनांदगांव के समाजसेवी गजेंद्र झा नें कहा कि कांग्रेस और भाजपा नें भाषा पर कोई ठोस निर्णय नही लिया है । इसकी लडाई के लिए हिम्मत से खडा होना है । मिथला खिचरिया नें कहा कि छत्तीसगढी सरल और अर्थपूर्ण भाषा है । हिन्दी एवं अंग्रेजी जाने लेकिन मातृ भाषा छत्तीसगढी की शक्ति और महत्ता पहचानें । डा नरेश कुमार वर्मा नें कहा कि छत्तीसगढी बडी भाषा है । इस भाषा की उपेक्षा सबके लिए अपमान की बात है ।

कुल मिला कर पूरे गोष्ठी के अंतराल मे वातावरण छत्तीसगढी मय रहा सबके मन मे हिलोरे मारती भाषा का प्यार स्पष्ट नजर आया । यही प्यार और संकल्प यदि चिरंतन रहे तो बिना राजनैतिक प्रतिठा के भी हमारी भाषा लोगो के दिलो मे प्रतिस्ठा पा सकती है ।

भाषा को स्थापित करने के इस संधर्ष के आगामी कार्यक्रमों में १० जून को ग्राम सुरगी, राजनांदगांव एवं १९ जुलाई डा खूबचंद बघेल के जन्म दिन पर जलसा करने का निर्णय लिया गया । यदि येसे ही प्रयाश निरंतर होते रहे तो वो दिन दूर नही है जब ३० मार्च २००२ को छत्तीसगढ विधानसभा में छत्तीसगढी भाषा को राजभाषा घोषित करने के अशासकीय संकल्प शासकीय संकल्प के रूप मे फ़लित हो सकेगा । धंयवाद भिलाई बिरादरी ।

1 comment:

  1. जैसा कि इस संदर्भ में मैं पहले ही कह चुका हूं, छत्तीसगढ़ी से नई पीढ़ी छत्तीसगढ़ी से जुड़ने की बजाय और कटती ही जा रही है। छत्तीसगढ़ी के लिए हमें पहले माहौल तैयार करना होगा, स्कूल कालेजों मे पाठ्यक्रम में छत्तीसगढ़ी को रखवाना होगा, और छात्र इसे तभी चुनेंगे जब इसके माध्यम से रोजगार की संभावना हो क्योंकि एम ए के पाठ्यक्रम में छत्तीसगढ़ी पहले से है लेकिन कितने छात्र इसे चुनते हैं?

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

loading...

Popular Posts