ब्लॉग छत्तीसगढ़

31 May, 2007

मशहूर छत्तीसगढी लोकगीत : टूरा नई जाने रे . . .


अपनी मदमाती आवाज से सुपर हिट छत्तीसगढी लोकगीत “टूरा नई जाने रे, ठोली बोली मया के ...” के जरिये लाखों लोकसंगीत प्रेमियों के दिलों में जगह बनाने वाली मशहूर छत्तीसगढी लोक गायिका सीमा कौशिक नें ख्वाब में भी नही सोंचा था कि जिस गीत को वे सचमुच में बोली ठोली करने लिख रही हैं, वही गाना उन्हे एक दिन लोकप्रियता के शिखर पर पहुंचा देगा । अपनी मदमाती आवाज से सुपर हिट छत्तीसगढी लोकगीत “टूरा नई जाने रे, ठोली बोली मया के ...” के जरिये लाखों लोकसंगीत प्रेमियों के दिलों में जगह बनाने वाली यह लोक कलाकार भरथरी गायन के विधा से छत्तीसगढी लोकगीतों की दुनियां में आयी, दूधमोंगरा से जुडी और फिर हिट पे हिट छत्तीसगढी गीत संगीत देते हुए अभी छत्तीसगढ की लता मंगेशकर बन चुकी हैं प्रेम गीतों (जिन्हे छत्तीसगढ में ददरिया के रूप में जाना जाता है) की प्रस्तुति में उनका स्वर जादू चलाता है । जो लोग बीच के वर्षों में फूहड गीतों के चलते ददरिया से विमुख हो चुके थे वे भी फिर से सीमा के गाने के दीवाने हो चुके हैं ।

ग्राम इंदौरी दुर्ग की मूल निवासी ३६ वर्षीय सीमा के पिता एक किसान थे दसवीं तक पढी सीमा ट्रासपोर्टर पति के साथ छत्तीसगढ की राजधानी पंडरी रायपुर में रहती है । बचपन से संगीत के लगाव नें सीमा कौशिक को रायपुर रेडियो स्टेशन का दीवाना बना दिया था । उनकी मेहनत व लोकगीतों के प्रति उनकी आस्था के चलते नागपुर में स्वर कोकिला सम्मान, राजिम महोत्सव में छ.ग.राज्य सरकार द्वारा सम्मान सहित उनेकों सम्मान से विभूषित सीमा अभी मात्र ३६ वर्ष की है उससे छत्तीसगढ को काफी अपेक्षायें हैं ।

सीमा लोककला मंच `मोंगरा के फूल` के बैनर तले अपना प्रस्तुति देती हैं । कई छत्तीसगढी फिल्मों में स्वर दे चुकी एवं अभिनय कर चुकी सीमा के लोकप्रिय गीत “टूरा नई जाने रे, ठोली बोली मया के ...” का आडियो रिलीज पहले रायपुर की ही एक कम्पनी नें किया उसके बाद इसकी लोकप्रियता को देख कर टी सीरीज नें उडिया, मराठी व पंजाबी भाषाओं में इसका आडियो रिलीज निकाल रही है ।

सीमा कौशिक की वही मशहूर गाने को हम आपके लिए लाये हैं देखें वीडियो के साथ (यदि ट्यूब लगाने में मुझसे चूक हो और आप इसे देख नही पा रहे तो मुझे लिखें और समझाये कि कैसे ट्युब लगाया जाता है)

2 comments:

  1. बढ़िया!!!

    कल ही मै भी यूट्यूब पर छत्तीसगढ़ी लोकगीत ढूंढ रहा था पोस्ट करने के लिए। दर-असल मैं ऐसे लोकगीत पोस्ट करना चाहता हूं जिसमें फ़िल्मी टच ना हो, इसलिए इसे नहीं किया।

    आभार आपका

    ReplyDelete
  2. बढ़िया..एक दिन रवि जी ने भी काफी सारे यूट्यूब के छत्तीसगढ़ी लोकगीत लिंक पेश किये थे.

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

Popular Posts