ब्लॉग छत्तीसगढ़

Popular Posts

31 December, 2007

हमारे विश्वास, आस्थाए और परम्पराए : कितने वैज्ञानिक कितने अन्ध-विश्वास ?

देश के अन्य राज्यो की तरह छत्तीसगढ मे भी नाना प्रकार के विश्वास, आस्थाए और परम्पराए अस्तित्व मे है। राज्य मे सोलह हजार से अधिक गाँव है। पीढी...

30 December, 2007

डॉ. पंकज अवधिया जी का अतिथि पोस्‍ट आरंभ पर

आप सभी जानते ही है कि छत्‍तीसगढ सहित संपूर्ण भारत में कई तरह की मान्यताए और परम्पराए प्रचलित है। जैसे दौना का प्रयोग, अमली मे भूत, हरेली मे...

29 December, 2007

फिल्‍म “उन्‍नीस साल का लडका” का आज प्रसारण

इस वर्ष दूरदर्शन द्वारा देश के विभिन्‍न केन्‍द्रों से छ: कथाकारों की कहानियों को राष्‍ट्रीय प्रसारण के लिए चुना गया जिसमें रायपुर केन्‍द्र ...

28 December, 2007

रावघाट के योद्धा : अधिवक्‍ता विनोद चावडा

क्षेत्रीय पत्र-पत्रिकाओं में प्राय: ``रावघाट के योद्धा`` के संबोधन से युक्‍त एक शख्‍श का नाम पिछले कई माह से हम पढ रहे हैं । हम दुर्ग-भिलाई ...

26 December, 2007

महाकोशल में हैहयवंश की उपस्थिति एवं सोमवंश का अंत

छत्‍तीसगढ इतिहास के आईने में 2 त्रिपुरी के हैहयवंशी राजा के अट्ठारह पुत्र थे सभी वीर व शौर्यवान थे । इनके वंशज संपूर्ण भारत को अपनी वीरता ...

24 December, 2007

छेर छेरा पुन्‍नी : छत्‍तीसगढी त्‍यौहार

छत्‍तीसगढ इतिहास के आईने में - 1 कोसल नरेश हैहयवंशी प्रजापाल‍क कल्‍याण साय मुगल सम्राट जहांगीर के सानिध्‍य में आठ वर्ष तक अपने राजनी...

18 December, 2007

राम बाबू तुमन सुरता करथौ रे मोला : डॉ. पदुमलाल पन्‍नालाल बख्‍शी

छत्‍तीसगढ के छोटे से कस्‍बे खैरागढ के रामबगस होटल और ददुआ पान ठेले में बैठे खडे बीडी का कश लेते तो कभी मुस्‍का नदी के तट पर शांत बैठे हुए...

11 December, 2007

शब्द नहीं ध्वनि हो तुम : अशोक सिंघई

आदरणीय अशोक सिंघई के सुन रही हो ना कविता संग्रह की पहली कविता - शब्द नहीं ध्वनि हो तुम मेरी कविता की एक अनुगूँज झंकृत करती उस कारा ...

06 December, 2007

रवि रतलामी का छत्‍तीसगढी आपरेटिंग सिस्‍टम : संभावनायें

रवि रतलामी जी के महत्‍वपूर्ण प्रयोग छत्‍तीसगढी आपरेटिंग सिस्‍टम के संबंध में भास्‍कर में प्रकाशित इस समाचार एवं इसके बाद संजीत त्रिपाठी जी ...

04 December, 2007

घर पर ब्‍लाग मित्र का फोन और गांव की कुंठा

उस रात लगभग 11 बजे मेरे एक मित्र का फोन मेरे मोबाईल सेट पर घनघना उठा । मैं अपने मोबाईल को बैठक के टेबल में रखकर दूसरे कमरे में हिन्‍दी ब्‍ला...

03 December, 2007

डॉ.परदेशीराम वर्मा की पत्रिका 'अगासदिया-27' का संपूर्ण नेट संस्‍करण

अगासदिया-२७ संत कवि पवन दीवान पर एकाग्र - विशेष सामग्री - छत्तीसगढ़ की बेटी भगवान श्री राम की माता कौशल्या के मंदिर से गौरवान्वित सौ तालाब...

30 November, 2007

शिवरीनारायण देवालय एवं परम्‍पराएं : प्रो. अश्विनी केशरवानी की संपूर्ण ग्रंथ

लेखक : प्रो. अश्विनी केशरवानी ashwinikesharwani@gmail.com प्रथम संस्‍करण : फरवरी 2007 मूल्‍य : 120 रूपये प्रिंट प्रकाशक : बिलासा प्रकाशन, बि...

बस्‍तर की देवी दंतेश्‍वरी

छत्‍तीसगढ के शक्तिपीठ – 1 बस्‍तर के राजा अन्‍नमदेव वारांगल, आंध्रप्रदेश से अपनी विजय पताका फहराते हुए बस्‍तर की ओर बढ रहे थे साथ में में ...

25 November, 2007

अदालत में काले कोटों की बढती संख्‍या एवं घटती आमदनी

दो दिन पूर्व मैं जब अपने कार्यालय भिलाई जा रहा था तो रास्‍ते में देखा, जिला न्‍यायालय के एक परिचित वकील पैदल चलते हुए भिलाई से दुर्ग की ओर ...

24 November, 2007

जब नर तितलियां ले जाए प्रणय उपहार : डॉ. पंकज अवधिया जी की कलम से

पंकज अवधिया जी (दर्द हिन्‍दुस्‍तानी) के लेख विभिन्‍न पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से प्रकाशित होते रहते हैं जिससे पाठक एवं ब्‍लागजगत वा...

आज चाँद बहुत उदास है

छटते ही नहीं बादल किरणों को देते नहीं रास्ता उमड़ घुमड़ कर गरज बरस कर सोख लेते ध्वनि सारी बजती ही नहीं पायल स्मृति का देती नहीं वास्ता सिसक ...

18 November, 2007

अशोक सिंघई : काहे रे नलिनी तू कुम्‍हलानी

अशोक सिंघई : डॉ. परदेशीराम वर्मा जनवरी 2007 से राजभाषा प्रमुख, भिलाई स्‍पात संयंत्रसाहित्‍यकार एवं कवि अशोक सिंघई के संबंध में वरिष्‍ठ कहानी...

नथमल झंवर जी की दो कवितायें

जीवन का इतिहास यही है जीवन की अनबूझ राहों में चलते-चलते यह बनजारा गाता जाये गीत विरह के जीवन का इतिहास यही है यौवन की ऑंखों से देखे वे सारे ...

10 November, 2007

.. श्री सूक्त ( ऋग्वेद) ..

.. श्री सूक्त ( ऋग्वेद) .. हिरण्यवर्णां हरिणीं सुवर्णरजतस्रजाम् । चन्द्रां हिरण्मयीं लक्ष्मीं जातवेदो ममावह ।१। तां म आवह जातवेदो ...

05 November, 2007

प्रवासी छत्‍तीसगढ सम्‍मान : वेंकटेश शुक्‍ला

( चित्र डेली छत्‍तीसगढ से साभार) छत्‍तीसगढ से बाहर निकलकर दुनिया के दूसरे देशों में कामयाबी के झंडे गाडने वालों में एक छत्‍तीसगढ के वेंकटेश...