संजीव तिवारी की कलम घसीटी

27 May, 2019

बलदाऊ राम साहू जी की बाल साहित्य पर चार किताबों का ऐतिहासिक विमोचन

कल दिनांक 26 मई 2018 को छत्तीसगढ़ की सबसे प्राचीन साहित्यिक संस्था "दुर्ग जिला हिन्दी साहित्य समिति" के बैनर तले रायपुर के वृन्दावन सभा कक्ष में श्री बलदाऊ राम साहू की बाल साहित्य पर चार कृतियों का विमोचन सानन्द सम्पन्न हुआ। मुख्य अतिथि श्री केशरी लाल वर्मा (कुलपति, रविवि रायपुर) विशिष्ट अतिथि डॉ. सुशील त्रिवेदी, श्री चितरंजन कर, श्री गिरीश पंकज थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता वरिष्ठ पत्रकार श्री रमेश नैयर ने की।

अतिथि विद्वानों ने सार संक्षेप में इस बात को रेखांकित किया कि बाल साहित्य को दोयम दर्जे का साहित्य माना जाता है जबकि देश के नौनिहालों को एक अच्छा नागरिक बनाने के लिए बाल साहित्य ही कारगर साबित होता है। महानगरीय संस्कृति ने बच्चों के उस बचपन को छीन लिया जो बूढ़ों को भी बच्चा बना देने के लिए सक्षम है। बच्चे बचपन में ही जवान हो जा रहे हैं। उनकी कल्पनाशीलता खो गई है। एकल परिवारों के चलन में बच्चे दादा-दादी और नाना-नानी की कहानियों से वंचित हो रहे हैं। अंग्रेजी माध्यम के स्कूलों ने राजभाषा से बच्चों को दूर कर दिया है। बाल साहित्य ही इन सारी समस्याओं का समाधान है।

साहित्य की विभिन्न विधाओं में बाल साहित्य लिखना सबसे कठिन काम होता है। इस साहित्य के सृजन के लिए बाल-मन की जरूरत होती है। शब्द चयन, लयात्मकता, सरलता, सहजता के साथ ही संदेश का होना अनिवार्य होता है। बाल साहित्य केवल उपदेशात्मक नहीं होना चाहिए। बाल गीतों को कैसे गाया जाना चाहिए इसका निर्धारण भी अनिवार्य होता है। बाल साहित्य को सचित्र भी होना चाहिए। मुख्य अतिथि श्री केशरी लाल वर्मा (कुलपति, रविवि रायपुर) ने छत्तीसगढ़ी और हिन्दी दोनों भाषाओं की समृद्धि पर बल दिया और अपना आधा वक्तव्य छत्तीसगढ़ी भाषा में दिया। बालोद से आये वक्ता श्री जगदीश देशमुख ने भी इस अवसर पर अपने विचार प्रस्तुत किये।

विद्वानों ने दुर्ग जिला हिन्दी साहित्य समिति द्वारा रायपुर में विमोचन समारोह आयोजित करने के निर्णय को अभिनव प्रयोग मानते हुए भूरि भूरि प्रशंसा की। श्री बलदाऊराम साहू ने चारों किताबों की एक एक रचना का पाठ करते हुए यह भी बताया कि उन्होंने किस उद्देश्य से बाल साहित्य लिखा। उल्लेखनीय है कि विमोचित चार किताबों में दो किताबें छत्तीसगढ़ी भाषा में और दो किताबें हिन्दी भाषा में हैं। आयोजन में अभिव्यक्ति प्रकाशन,दिल्ली के प्रकाशक श्री रमेश शर्मा भी उपस्थित थे। इस अवसर पर आमंत्रित अतिथियों के साथ ही कव्हर चित्रांकन हेतु डॉ. ध्रुव तिवारी, चित्रकार लतिका वैष्णव और रागिनी वैष्णव को भी सम्मानित किया गया।

स्वागत भाषण दुर्ग जिला हिन्दी साहित्य समिति के अध्यक्ष अरुण कुमार निगम ने दिया। आभार प्रदर्शन उपाध्यक्ष श्रीमती सरला शर्मा द्वारा किया गया। समिति के सदस्य श्री सूर्यकान्त गुप्ता, श्री बलराम चंद्रकार, श्री घनश्याम सोनी सहित कुम्हारी, बालोद, रायपुर, दुर्ग आदि जिले के प्रखर साहित्यकार ने आयोजन की गरिमा बधाई। श्री बलदाऊ राम साहू के परिवार के समस्त सदस्य भी इस ऐतिहासिक अवसर पर उपस्थित थे। आयोजन का सफल संचालन पैरी के वरिष्ठ कवि, गीतकार, राष्ट्रपति सम्मान से सम्मानित शिक्षक श्री सीताराम साहू "श्याम" के किया। स्थानीय पत्रकार तथा आकाशवाणी रायपुर के उद्घोषक श्री श्याम वर्मा भी आयोजन का अभिन्न हिस्सा रहे

अरुण कुमार निगम
अध्यक्ष, दुर्ग जिला हिन्दी साहित्य समिति

3 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (29-05-2019) को "बन्दनवार सजाना होगा" (चर्चा अंक- 3350) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. बच्चों का साहित्य बहुत कम मिलता है आजकल हिंदी में.
    जानकारी देने के लिए बहुत-बहुत शुक्रिया.

    ReplyDelete
  3. बाल साहित्य और छत्तीसगढ़ी भाषा को समृद्ध करने के लिए मेरा यह छोटा सा प्रयास है । यह सेवा निरंतर चलता रहे ऐसा आशीष चाहता हूँ ।

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

छत्तीसगढ़ी शब्द

छत्‍तीसगढ़ी उपन्‍यास

पंडवानी

पुस्तकें-पत्रिकायें

Labels

संजीव तिवारी की कलम घसीटी समसामयिक लेख अतिथि कलम जीवन परिचय छत्तीसगढ की सांस्कृतिक विरासत - मेरी नजरों में पुस्तकें-पत्रिकायें छत्तीसगढ़ी शब्द विनोद साव कहानी पंकज अवधिया आस्‍था परम्‍परा विश्‍वास अंध विश्‍वास गीत-गजल-कविता Naxal अश्विनी केशरवानी परदेशीराम वर्मा विवेकराज सिंह व्यंग कोदूराम दलित रामहृदय तिवारी कुबेर पंडवानी भारतीय सिनेमा के सौ वर्ष गजानन माधव मुक्तिबोध ग्रीन हण्‍ट छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म ओंकार दास रामेश्वर वैष्णव रायपुर साहित्य महोत्सव सरला शर्मा अनुवाद कनक तिवारी कैलाश वानखेड़े खुमान लाल साव गोपाल मिश्र घनश्याम सिंह गुप्त छत्‍तीसगढ़ का इतिहास छत्‍तीसगढ़ी उपन्‍यास पं. सुन्‍दर लाल शर्मा वेंकटेश शुक्ल श्रीलाल शुक्‍ल संतोष झांझी उपन्‍यास कंगला मांझी कचना धुरवा कपिलनाथ कश्यप किस्मत बाई देवार कैलाश बनवासी गम्मत गिरौदपुरी गुलशेर अहमद खॉं ‘शानी’ गोविन्‍द राम निर्मलकर घर द्वार चंदैनी गोंदा छत्‍तीसगढ़ी व्‍यंजन राय बहादुर डॉ. हीरालाल रेखादेवी जलक्षत्री लक्ष्मण प्रसाद दुबे लाला जगदलपुरी विद्याभूषण मिश्र वैरियर एल्विन श्यामलाल चतुर्वेदी श्रद्धा थवाईत