14 April, 2008

क्या कौरव-पांडव का पौधा घर मे लगाने से परिवार जनो मे महाभारत शुरु हो जाती है?

16. हमारे विश्वास, आस्थाए और परम्पराए: कितने वैज्ञानिक, कितने अन्ध-विश्वास?

- पंकज अवधिया


प्रस्तावना यहाँ पढे

इस सप्ताह का विषय


क्या कौरव-पांडव का पौधा घर मे लगाने से परिवार जनो मे महाभारत शुरु हो जाती है?

आधुनिक वास्तुविदो को इस तरह की बाते करते आज कल सुना जाता है। वे बहुत से पेडो के विषय ने इस तरह की बाते करते है। वे कौरव-पांडव नामक बेलदार पौधे के विषय मे आम लोगो को डराते है कि इसकी बागीचे मे उपस्थिति घर मे कलह पैदा करती है अत: इसे नही लगाना चाहिये।


मै इस वनस्पति को पैशन फ्लावर या पैसीफ्लोरा इनकार्नेटा के रुप मे जानता हूँ। इसके फूल बहुत आकर्षक होते है। फूलो के आकार के कारण इसे राखी फूल भी कहा जाता है। आप यदि फूलो को ध्यान से देखेंगे विशेषकर मध्य भाग को तो ऐसा लगेगा कि पाँच हरे भाग सौ बाहरी संरचनाओ से घिरे हुये है। मध्य के पाँच भागो को पाँडव कह दिया जाता है और बाहरी संरचनाओ को कौरव और फिर इसे महाभारत से जोड दिया जाता है। महाभारत मे इस फूल का वर्णन नही मिलता है और न ही हमारे प्राचीन ग्रंथ इसके विषय मे इस तरह की बाते बताते है। यह महज कपोल-कल्पित बाते है।


इस वनस्पति को बहुत उपयोगी माना जाता है। होम्योपैथी से लेकर आधुनिक चिकित्सा प्रणालियो मे अनिद्रा और मृगी जैसे रोगो की चिकित्सा मे इस वनस्पति का प्रयोग होता है। इसकी बहुत सी प्रजातियाँ होती है। कई प्रजातियो के फल खाये भी जाते है और इनसे स्वादिष्ट पेय भी बनाये जाते है। यह वनस्पति चिडियो को आकर्षित करती है। बाहरी दीवारो को धूल से बचाने और घर की सुन्दरता बढाने के लिये इस वनस्पति को लगाया जाता है।


वनस्पतियो से जुडे आधुनिक अन्ध-विश्वासो को सामने लाकर वास्तु शास्त्र के नाम पर लूट मचा रहे तथाकथित विशेषज्ञो की नकेल कसना जरुरी है।


अगले सप्ताह का विषय


क्या ड्रुपिंग अशोक का वृक्ष गृह वाटिका मे लगाने से व्यापार मे घाटा होने लगता है?

4 comments:

  1. फूल तो बड़ा सुन्दर लग रहा है! आकार भी और रंग भी।

    ReplyDelete
  2. वाकई फूल और इसका नाम कौरव- पांडव बहुत अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  3. बहुत बढ़िया जानकारी के लिए धन्यवाद

    ReplyDelete
  4. ड्रुपिंग अशोक का वृक्ष गृह वाटिका मे लगाने से क्या हानि क्या लाभ है कृपया बताने का कष्ट करे ऐसा पेड़ मैंने अपने घर की वाटिका मे लगा रखा है .

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

Featured Post

छत्‍तीसगढ़ राज्‍य गीत ‘अरपा पैरी के धार ..’

''अरपा पैरी के धार, महानदी के अपार'' राज्‍य-गीत का मानकीकरण ऑडियो फाइल Chhattisgarh State Song standardization/normalizatio...