ब्लॉग छत्तीसगढ़

17 November, 2016

पनही के बहाने

पनही पर भक्ति काल के कवियों ने बहुत कुछ लिखा है। उस समय के सभी दास कवियों ने पनही संस्कृति को अपने-अपने मंजुल मति अनुसार समृद्ध किया है। तत्कालीन ब्रांड एम्बेसडर संत रविदास तो इसकी जियो ब्रांडिंग करते हुए, कई बार संतों को तथा जनसाधारण को बिना कीमत लिये ही पनही भेंट कर दिया करते थे। यदि इन कवियों ने पनही पर उस समय अपना ध्यान केंद्रित नहीं किया होता तो उपेक्षित सा पनही घेरी-बेरी आज के सन्दर्भों में उफला नहीं पाता। बेकाम संत मोको कहाँ सीकरी सो काम लिखते हुए भी उस समय की राजधानी सीकरी गए। हमें बताया कि रियाया की शोभा गोड़ से ही होती है मूड़ तो शहनशाहों का ही होता है। पनही को मूड़ पर मुकुट जइसे मढ़ाया नहीं जा सकता, उसकी फितरत खियाने की ही होती है।

गांव में पनही पहिरि चमाचम ग्वाला खांधा मा डारे नोय घूमता था। कोई कहता कि छाड़ि दे ग्वाला बजनी पनहिया छाड़ि खांधा के नोय तो वह झट मना कर देता। इस बजनी पनही के दम पर सात बिआही नौ उढ़री सोरह सखी कुंवारि उस पर मोहित है। मने आप समझ सकते हैं इसकी महिमा।

हमारे जीवन में भी इस पनही का बहुत महत्व रहा है, घर में नौकर एक-एक जोड़ी भंदई-पनही और दो खण्डी धान में लगता था। नांगर-बखर के लिए जोंता-बरही संग परिवार के बाकी लोगों के लिए भी पनही बनवाना होता इसके कारण साल-दो साल में दो जोड़ी ही मिल पाता था। एक कड़े चमड़े वाला जो खेत-खार जाने के लिए और एक नरम चमड़े वाला जो बाहर गांव-गौंतरी जाने के लिए उपयोग में लाया जाता। इनके चिरा जाने पर भी घेरी-बेरी सिलवा-सिलवा कर फटते तक पहनना होता था। पनही का नाप देने दूसरे गांव जाना होता। एक सप्ताह बाद चमचमाती पनही दरवाजे पर मिल जाती थी, जो अंदर आते ही ललचाती थी। बाबूजी डाँटते थे, गांव-गौंतरी जाने के लिए खरीदी गई पनही यूँ ही कभी भी पहनी नहीं जा सकती थी। बाल मन मानता नहीं था और पनही पैरों में लहा के देखने के बहाने गली-खोर में निकल आती थी। बिना दांत के छीनी अंगरी और एडी के ऊपर चाबने के बाद भी पनही पैरों से स्वामिभक्ति दिखाते रहती। प्रभु की चाल बता देती थी कि टुरा नवा पनही पहना है।

बारात-सारात जाने के लिए चचेेरे भाई से एक-दो दिन के लिए सहरी पनही उधार भी ली जाती रही और क्रीम पालिस कराकर वापस की जाती रही। मुझे याद आता है एक बार के ऐसेही पनही उधारी में, राज्य परिवहन की खटखटिया बस से उतरते समय फटे पायदान में फसकर फट गई। अब उधारी देने वाला नया पनही मांगने लगा और परिवार के सामने नोटबंदी से बड़ी समस्या आन पड़ी। जैसे-तइसे सिलवा कर पनही वापस की गई, पनही का रौब भूल जाने की शिक्षा मिली।

बाढ़ने के बाद भी हमारे लिए पनही दुर्लभ रही क्योंकि तब करोना और बाटा का सस्ता स्लीपर आ गया था। इस स्लीपर ने ही हमारे पांवो की शोभा और नंबर दोनों बढ़ाई। बचपन से पनही के लिए ललचाते मन को अभी दसेक सालों से संतुष्टी मिली, अब हमारे पास चार जोड़ी है। यह दरवाजे के पास रखे रैक में सजाने का काम भी आती है।

इन चारों में से एक इम्पोर्टेड है, अर्जेंटीना के मगरमच्छ के खंडरी से बना एकदम नरम। पैर में डालते ही इसका अहसास लम्बे कदम चलने का विश्वास भर देता है। यह पनही मुझे बहुत पसंद है, इसलिए कि इसे मेरे मालिक ने दिया है। या यूँ कहें बाप-बेटे के पनही संबंधी मुहावरों सा कुछ। हालाँकि मालिक ने मुझे इस महँगे पनही को इसलिए दिया है कि यह उनके नाप से बड़ा है। मालिकों का पैर हमेशा छोटा होता है और नौकरों का बड़ा। मालिक का दिया नौकर के लिए क्या अहमियत रखती है, इसको मेरे जैसा हर भूतपूर्व गौंटिया बेहतर ढंग से समझ सकता है। तब जब हमारे पास जमीनें थी और नौकर भी थे, तब हम महसूस करते थे कि नौकरों को हमारे दिए कपडे और पनही बहुत पसंद आते थे। अब स्थिति ऐसी नहीं रही, गौंटी छिन गई और हम किसी के नौकर हो गए।

खैर.., मैं पिछले तीन साल से इस इम्पोर्टेड पनही को सरलग पहन रहा हूं। अब यह काफी खिया गया है, श्रीमती जी कहती है कि अब इसे बदल लो, मगर मन है कि मानता नहीं, पनही-प्रेम जो है।
- तमंचा रायपुरी

3 comments:

  1. रोचक और लालित्यपूर्ण ।

    ReplyDelete
  2. लाल रंग पढ़ने में (स्पीड रीडिंग में) बाधा पहुँचा रहा है. इसे काला बोल्ड ही रहने दें. पहले लगा कि यह लिंक है. परंतु केवल हाईलाइट है.
    (टैक्स्ट ह आंखी मं चकचकावत हे जी, कइसन कर दे हस. ठीक करबे त बने रही)

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्‍यवाद भईया, सुधार देंव.

      Delete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

Popular Posts