ब्लॉग छत्तीसगढ़

08 June, 2010

क्‍या नशेबो फराज थे तनवीर, जिन्‍दगी आपने गुजार ही दी : यादें हबीब तनवीर

सात साल की उम्र में ‘मोहब्‍बत के फूल’ नाटक को देखकर एक बालक के मन में अभिनय की ललक जो जागृत हुई वह निरंतर रही, बालक नाचते गाते अपनी तोतली जुबान में नाटकों के डायलागों को हकलाते दुहराते बढते रहा। उसके बाल मन में पुष्पित अभिनय का स्‍वप्‍न शेक्‍शपीयर की नाटक ‘किंगजान’ में प्रिंस का आंशिक अभिनय से साकार हुआ। असल मायनें में उसी दिन महान नाट्य शिल्‍पी हबीब तनवीर का नाटकों की दुनिया में आगाज हो गया।  
आज से ठीक एक साल पहले आज के ही दिन हबीब जी के निधन का समाचार मित्रों से प्राप्‍त हुआ, नाटकों व लोकनाट्यों से हमारा लगाव हमें हबीब जी एवं उनके कलाकारों के करीब ले आया था. सुनकर गहरा दुख हुआ पिछले वर्ष हबीब जी के अस्‍वस्‍थ होने के समाचार मिलने पर आवारा बंजारा वाले संजीत त्रिपाठी नें कई बार आग्रह किया कि मैं उनपर कोई आलेख लिखूं किन्‍तु व्‍यस्‍तता के कारण मैं कुछ भी नहीं लिख पाया. पिछले वर्ष ही उन्‍हें श्रद्धांजली स्‍वरूप मैंनें यह आलेख लिखा था तब बमुश्‍कल पांच कमेंट आये थे, आज उनकी प्रथम पुण्‍यतिथि पर मुझे कुछ पोस्‍ट नजर आये जिसमें साथियों नें अपना उत्‍साह एवं स्‍नेह हबीब जी के प्रति प्रस्‍तुत किया है जिसे पढ़कर दिल को सुकून मिल रहा है. हबीब जी को श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए मैं साथियों से आग्रह करता हूं कि एक बार पुन: मेरे एक वर्ष पहले लिखे गए इस आलेख को अवश्‍य पढें . हबीब जी की यादें तो बहुत हैं, समय पर हम आपसे शेयर करेंगें.   
देखें रंग ए हबीब


चरन दास चोर

12 comments:

  1. हबीब साहब पर आपने बेशकीमती पोस्ट डाली है। इसके लिए साधुवाद

    ReplyDelete
  2. सन्जीव भाई जरूर पढ्ते हैं। भले ही हम इस क्षेत्र मे ज्यादा रुचि नही रखे, किन्तु रन्ग मन्च के प्रख्यात कलाकार से नावाकिफ़ भी नही हैं। ईश्वर से प्रार्थना करते हैं ऐसे शख्सियत बार बार इस धरती पर जनम ले।

    ReplyDelete
  3. hamai bhi shraddhajali ..bahut achchhi post lagayi hai aapne .

    ReplyDelete
  4. jo tab kaha tha ve hi shabd aaj bhi mann me goonjte hai mere apne hi
    "shraddhanjali unhe. chhattisgarh ne vakai ek anmol ratn kho diya. ek aisa ratn jiski purti shayad ab ek lambe samay tak na ho."

    ReplyDelete
  5. हबीब साहब की यद् दिला दिए ना आप

    ReplyDelete
  6. बेशकीमती पोस्ट

    ReplyDelete
  7. कजरी सिरियल में हबीब तनवीर का "तहसीलदार" के पात्र का अभिनय आज भी जीवंत हो उठता है।
    रंगमंच के मंजे हुए कलाकार थे।
    एक दिन उनसे मेरी मुलाकात MMI में हुयी थी जब वे बीमार थे और चेकअप के लिए आए थे। उनसे थोड़ी ही चर्चा हुयी थी।

    आपने अच्छी पोस्ट लिखी है।
    आभार

    ReplyDelete
  8. डॉ.महावीर अग्रवाल जी नें हबीब जी पर केन्द्रित सापेक्ष का अंक 47 हबीब जी के जीवनकाल में ही प्रकाशित करवाया था. इसमें हबीब तनवीर के सभी नाटकों का मूल्‍यांकन करते हुए उनके अवदान को रेखांकित करने की कोशिश है । श्‍वेत श्‍याम एवं रंगीन 64 छायाचित्रों के साथ यह विशेषांक 400 पृष्‍टों में अपना कलेवर समेटे हुए है । जानकारी यहां से जी जा सकती है http://www.mahaveeragrawal.blogspot.com/

    ReplyDelete
  9. हबीब तनवीर के बारे में जो पढ़ा करता था, उसे ले कर बहुत वैचारिक मतभेद हुआ करते थे। पर अब देखता हूं कि जिनसे वैचारिक साम्य था, वे कितने फेक निकल रहे हैं।
    लिहाजा वैचारिक साम्य खास मायने नहीं रखता। अब शायद उन्हे नये कोण से देखूं!
    श्रद्धांजलि!

    ReplyDelete
  10. बहुत ही सार्थक आलेख...इस अज़ीम शख्सियत की कमी शायद कभी पूरी ना हो...उनका स्थान हमेशा
    अपने प्रशंसकों के दिलों में सुरक्षित रहेगा..

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

Popular Posts