ब्लॉग छत्तीसगढ़

16 October, 2009

'प्रथम व्यक्ति' गंभीर कथानक का कसावट भरा मंचन

गिरते नैतिक मूल्यों की गंभीरता से पड़ताल करने वाला नाट्य
अरूण काठोटे

रायपुर। संस्कृति विभाग की पाक्षिक पहल सफर मुक्ताकाश के 12वें पड़ाव पर दर्शकों के सम्मुख बेहद गंभीर कथानक पर केंद्रीत नाटक प्रथम व्यक्ति खेला गया। 'प्रथम व्‍यक्ति' समाज में गिरते नैतिक मूल्यों और मानव मन के भीतर छुपी भावनाओं की गंभीरता से पड़ताल करता है। नाटक कुल चार पात्रों के बीच एक परिवार के चरित्रों के अंतर्द्वंद्व को प्रगट करता है। समाज की संवेदनहीनता पर कटाक्ष करते हुए यह समयानुरूप बदलते फैसलों पर भी सवाल खड़े करता है। प्रासंगिक घटनाओं के संदर्भ में मानवतावादी फैसलों का पक्षधर है प्रथम व्यक्ति। मूलत: बांग्लादेश के लेखक शहजाद फिरदौस के बांग्ला भाषा में लिखे कथानक को बालकृष्ण अय्यर व श्यामल मुखर्जी ने हिंदी में अनुदित किया है।

छत्तीसगढ़ आट्र्स एंड थिएट्रिकल सोसायटी, दुर्ग की इस प्रस्तुति को बालकृष्ण अय्यर ने निर्देशित किया है। नाटक में प्रथम व्यक्ति (पिता) का किरदार शकील खान ने निभाया है। परिवार के अन्य सदस्यों में राजश्री देवघरे (मां), प्रकाश ताम्रकार (बेटा), दीपिका नंदी (बेटी) तथा योगेश पांडेय (इंस्पेक्टर) ने भूमिका की है। अपने समूचे कथानक में नाटक दर्शकों को बांधने में सफल रहा। पल-पल घटते, बदलते हालातों की मिमांसा, चरित्रों के आपसी व्यवहार तथा व्यक्ति के सामाजिक दायित्वों जैसे मुद्दों पर यह गंभीर कटाक्ष करता है। प्रथम व्यक्ति की केंद्रीय भूमिका में शकील खान ने प्रारंभ से अंत तक प्रभाव डाला। वैसे समूचा नाटक एक्टर बेस्ड होने के कारण भी अन्य कलाकारों ने पूरी शिद्दत के साथ अपनी भूमिकाएं कीं। गंभीर कथानक को मुक्ताकाशी मंच पर सफलता से खेलकर बालकृष्ण अय्यर ने अपनी निर्देशकीय पकड़ साबित की। टीम वर्क, कंपोजिशन, नेपथ्य में लगा शहरी इमारतों का कट-आउट आदि उनकी परिपक्व समझ को प्रदर्शित करते हैं। नाटक देखकर निकलते वक्त लोगों में विचार पैदा करता है, जो इसकी कामयाबी का सबसे बड़ा सबूत है। नेपथ्य में संगीत पक्ष सुधीर रवानी ने तथा मंच परिकल्पना का जिम्मा तुषार वाघेला ने संभाला था। व्यवस्थापन पंकज सतपथी का था।







( साभार: दैनिक आज की जनधारा, रायपुर. फोटो साभार : बालकृष्ण अय्यर)

4 comments:

  1. अय्यर के इस नाटक के रिहर्सल के दिनों से मै इस से जुड़ा हूँ । एक मध्यवर्गीय परिवार की सामाजिक असुरक्षा और युवाओं में बढ़ते जा रहे अपराधो पर चिंता व्यक्त करता हुआ यह नाटक वास्तव में प्रशंसा के योग्य है । -शरद कोकास

    ReplyDelete
  2. mai bhi es natk ko dekha vaki bahut hi kathin muddo ko jivant prastuti tha sabhi ka mehant kabile tarif tha pure dal ko badhaiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiii

    ReplyDelete
  3. Thanks Sanjeev for publishing our play. Its really nice to see it on the BLOG. Thanks to Sharad as well, I know he is always with me. Hemant I don't know you but its nice have your comment, I will look faroward to meet you.

    ReplyDelete
  4. साल की सबसे अंधेरी रात में
    दीप इक जलता हुआ बस हाथ में
    लेकर चलें करने धरा ज्योतिर्मयी

    कड़वाहटों को छोड़ कर पीछे कहीं
    अपना-पराया भूल कर झगडे सभी
    झटकें सभी तकरार ज्यों आयी-गयी

    =======================
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ!
    =======================

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

loading...

Popular Posts