ब्लॉग छत्तीसगढ़

23 October, 2007

बोलियों की दुनिया में छत्‍तीसगढी बोली


आलेख : रामहृदय तिवारी

प्रकृति बोलती है, कभी क्रोध से, कभी करूणा से, कभी दुत्कार से तो कभी दुलार सेभौंचक मनुष् समझ नहीं पाता, सिर्फ महसूस करता है प्रकृति की अनंत बोलियों कोमनीषी कहते हैं प्रकृति की सारी ध्वनियॉं अज्ञात अनंत सत्ता की सांकेतिक अभिव्यक्तियॉं हैतत् दर्शियों ने इन्हें अनहद नाद कहा, कभी अल्लाह कहा, कभी यहोवाह, कभी आमेन तो कभी ओमकहते हैं कि स्रष्टि की सारी ध्वनियों का, सारी बोलियों और भाषाओं का स्रोत यह उँ ही हैयह अनहद नाद समूचे ब्रम्हाण् में परिव्याप् हैमनुष् का शरीर भी इस नाद का केन्द्र बिन्दु है, जहां से नि:स्रत होती हैविभिन् घ्वनियांमनुष् ने इस घ्वनियों को शब्दों में ढालकर ग्राहा और संप्रेषणीय बना दिया हैसंसार की सारी बोलियां मनुष् के सतरंगी मनोभावों की उद्दाम परिणतियां हैंविश् की तमाम बोलियां हमारी उत्कट भावनाओं के प्रतिफलन और हमारी सामाजिकता की आधारशिलाएं हैंबोलियों को मनुष् ने कब बोलना सीखा, हम नहीं जानते, लेकिन क्यों और कैसे बोलना सीखा- इसका पर्याप् प्रमाण हैहमारे पास

लगभग तीन हजार भाषाओं वाले इस सभ् संसार में अनगिनत बोलियां हैउन सबकी अलग अलग अभिव्याक्तियां मानव जाति की अमूल् धरोहर हैबोलियां सांस्क्रतिक जगत की श्रेष्ठतम उपलब्धियों में एक हैअलग- अलग तेवर, तर्ज और रंग होने के बावजूद सारी बोरियों की गंध एक ही है । - माटी की गंधमाटी चाहे वह किसी भी देश, प्रान् या अंचल की हो, उसकी आत्मा में बस एक ही तडप होती हैफूल बनकर लिखने की, हरियाली बनकर लहलहाने कीमनुष्यता के साथ जीने कीरंगो, नस्लों, कौमों, मजहबों और सरहदों के पास बोलियों की यही तडप उनकी सबसे बडी पहिचान है, सबसे बडी ताकत है

जैसा कि हम जानते हैं, दुनिया के नक्शे में एक जगमगाता हुआ देश है, हिन्दुस्तानहिन्दुस्तान के ह्रदय स्थल के रूप में सोलह जिलों को अपनी बाहों में समेटे, एक प्यारा अंचल है छत्तीसगढ, जो अब स्वयं नए राज् के रूप में आकार ले चुका हैधान का कटोरा नाम से सुविख्यात इस गमकते हुए छत्तीसगढ राज् की शस् श्यामला धरती में ऐसा बहुत कुछ है जिसकी मोहकता, मादकता और माधुर्य पर हम न्यौछावर हैंयहां बोली जाने वाली छत्तीसगढी बोली भी उन्हीं में से एक हैदक्षिणापथ, दक्षिण कौशल, महाकान्तार और दण्डकारण् जैसे प्राचीन संबोधनों से सुशोभित हमारा छत्तीसगढ, संस्क्रति, पर्व और परंपराओं का मानसरोवर हैजैसे लहरों के बिना सरोवर सूना और श्रीहीन है, वैसे ही बोलियों के बिना अंचलछत्तीसगढी केवल बोली ही नही, इस अंचल की धडकन हैछत्तीसगढी एक ऐसी बोली है, जिसके साथ समूचे छत्तीसगढ प्रान्तर की आत्मीयता, आवेग, आदर और स्वाभिमान की भावनाएं जुडी हुई हैंइसकी ध्वनियां सरगुजा की सरहदी पहाडियों से बस्तर के सघन वनों तक, बिलासपुर जिले के खंडहरों से राजनांदगांव की डोंगरियों तक अपने पूरे वैभव सामर्थ् और अर्थवत्ता के साथ प्रतिध्वनित होती हैउसकी आभा मैकल के आर-पार बिखरती हैछत्तीसगढी बोली इस अंचल की आंतरिक सुषमा और उसका बाह्य श्र्रंगार हैइसकी सरसता, सरलता, माधुर्य और लचीलापन मन को बरबस मोह लेता हैएक उदाहरण देखें :

धरम धाम भुइंया छत्तीसगढ,
महानदी के धार जेकर चरन पखारथे,
जिहां राजीव लोचन सौंहत बिराजथे,
माटी जिंहा सोन के लोंदा अउ मनखे जइसे चंदैनी गोंदा, रागी,
अब ओखर कतेक करौं मैं बन्दन,
धुर्रा फुदकी घलो जिंहा मलागर के चन्दन

छत्तीसगढी बोली के कोषागार में सरस लोक-गीत है, सम्रद्व लोकगाथाएं हैं, कथाएं हैं, पहेलियां, किंवदंतियां, कहावतें और मुहावरे हैंपंथी, पंडवानी, करमा, ददरिया जैसे लोकगीतों के साथ छत्तीसगढी लोकनाट्य नाचा तो अंचल में ही नहीं, विश् के मंचीय जगत में विख्यात हैनाचा, जीवन केन्द्रित एक ऐसी लोकनाट्य विधा है जिसमें मनोरंजन और लोक शिक्षण का दुर्लभ संयोग देखा जा सकता हैनाचा छत्तीसगढी बोली का सर्वाधिक स्पष्, मुखर और नयनाभिराम आईना हैपंडवानी महाभारत के अमर पात्रों की शौर्य गाथा का छत्तीसगढी संस्करण हैपंडवानी के नाम से किसी महाकाव् का लोक शैली में गायन छत्तीसगढी बोली की अन्यतम विशेषता हैपंडवानी छत्तीसगढ की लोकवाचिका परम्परा का श्रेष्ठतम उदाहरण हैददरिया छत्तीसगढी लोकगीतों की राजललना हैबिहारी के दोहों की भांति तीखापन और व्यापक अर्थवत्ता लिए ददरिया में ग्रामीण युवा ह्रदयों की सहज सुकुमार भावनाएं तरंगायित होती हैक्रषि प्रधान इस अंचल के लिए ददरिया, श्रमशक्ति संचार और श्रम परिहार का सहज सुलभ साधन हैसुवागीत में नारी-पंगों के मंडलाकार गतिचक्र और हथेलियों की समरस लयबद्वता के साथ-साथ छत्तीसगढी बोली के कल-कल निनादी प्रवाह का मोहक समन्वय हैआत्मा के प्रतीक सुवा को संबोधित सुवा गीत में नारी विरह वेदना ही आकुल अभिव्यक्ति ही नहीं, अंततोगत्वा इष् के एकाकार होने की चरमचाह और सर्वजन कल्याण की उदात् भावनाएं हैं

शोधकर्ताओं के अनुसार छत्तीसगढ के पूर्व में उत्तर दक्षिण उडीषा भाषा का विस्तार हैइस संक्रांति क्षेत्र की बोली लरिया के नाम से जानी जाती हैदक्षिण में मराठी के प्रभाव से छत्तीसगढी का जो रूप प्रचलित है उसे हल्बी की संज्ञा मिली हैउत्तर में भोजपुरी का प्रभाव हैबोधगम्यता और आंतरिक एकरूपता की द्रष्टि से छत्तीसगढ के सोलह जिलों की इस बोली को ही छत्तीसगढी बोली के नाम से पुकारा जाता हैअधिकाश विद्धान मानते हैं कि यह बोली अर्ध-मागधी की दुहिता और अवधी की सहोदरा हैछत्तीसगढ से प्राप् शिलालेखों में अवधीपन का स्पर्श और रामचरित मानस में छत्तीसगढी शब्दों का बाहुल् अवधि छत्तीसगढी की अंतरंगता को प्रमाणित करता हैऐसा माना जाता है कि आज से लगभग 1080 वर्ष पूर्व अर्धमागधी के गर्भ से छत्तीसगढी बोली का जन् हुआइन हजार वर्षो में इस बोली पर अन् भाषाओं की छाया पडती गईउत्तरोत्तर उसका स्वरूप परिवर्तित होता गयाआज यह बोली अपने सम्रद्ध लोक साहित् के कारण, बोली के स्तर से उठकर भाषा के सिंहासन पर आरूढ होने की स्थति में पहुंची है

छत्तीसगढी बोली की परिव्याप्ति का क्षेत्रफल 51,888 वर्गमील हैगणनानुसार छत्तीसगढी बोलने वालों की संख्या लगभग डेढ करोड से उपर आंकी गई हैप्रत्येक जिले की बोली में स्थानगत भेद स्पष् दिखाई देता हैइसके ग्राम् और नागर रूप में भी कुछ अंतर देखा जा सकता हैजैसे दसना दसा दे नागर रूप का ग्राम् रूप जठना जठा दे हैछत्तीसगढी बोली में विभिन् भाषाओं के शब्दों का पर्याप् प्रभाव और घुसपैठ अस्वाभाविक बात नहीं हैसंस्क्रत, प्राक्रत, अपभ्रंश तथा पूर्वी हिन्दी के शब्दों का पाया जाना तो स्वाभाविक है ही, क्योंकि उन्हीं स्तरों को पार करके छत्तीसगढी को यह रूप मिला है, इसमें मराठी, उडिया और नेपाली शब्दों के अतिरिक् बंगला, भोजपुरी, बुंदेलखंडी, ब्रजभाषा, गोंडी, संथाली, कोरकू, तुर्की, अरबी तथ फारसी के शब् छत्तीसगढी में नीर क्षीर की भांति घुले मिले हैंवैज्ञानिक अध्ययन की द्रष्टि से बोलियां, भाषाओं की अपेक्षा नि:संदेह अधिक महत् रखती हैंबोलियों की अक्रत्रिमता, ताजगी और प्राणवत्ता आत्मा को छूती हैउनके मुहावरों, कहावतों, कथाओं, एवं गीतों में लोक जीवन का अनगढ मगर सरल, सरस और उद्दाम सौंदर्य झलकता हैछत्तीसगढी कहावतों और पहेलियों में जीवन के गहरे अनुभव और शब् विन्यास की छटा सुनने तथ गुनने की चीज हैगंवई के चिन्हार अउ सहर के मितान, पर्रा भर लाईदेस भर बगराई, चार गोड के चिप्पो, तेमा बइठे मिप्पो, ओला लेगे निप्पो, बइठे चापक चिप्पोइस तरह अनगिनत उदाहरण है

जैसा कि सर्वविदित हैअंचल का चिर संचित स्वप् छत्तीसगढ राज् अब आकार ले चुका हैनए राज् के अल्हाद में लोक संस्क्रति का सागर अपने पूनम के चांद को छूने बेचैन हैपूनम जब अपने यौवन में सोलहवें श्र्रंगार के साथ मचलता है तब सागर भी पगला उठता है और लहरें गले मिलने आतुर हो दौड पडती हैअंचल का जनसागर अपनी छाती में क्या क्या दबाए अभिव्यक्ति के लिए आज मचल उठा हैअब छत्तीसगढी में साहित् स्रजन की प्रव्रत्तियां ऊफान पर हैछत्तीसगढियों का चरम आज अपना सम्पूर्ण ह्रदय खोलकर रख देने को आकुल है :

लहर लहर लहरावे खेती, चंवर डोलावे धान,
कोदो राहेर तिंवरा बटुरा, मा भर थे मुस्कान
हरियर हरियर जम्मो कोती, दिखथे सबो कछार,
दूध असन छलकत जावत हे, महानदी के धार

यह स्वीकृत सत् है कि अब तक विश् में जो भी अविष्क्रत बोलियां और भाषाएं हैं, वे मनुष् की अथाह अनुभूतियों को व्यक् करने में अभी भी पूर्ण सक्षम और समर्थ नहीं हो पायी हैंगूंगे के गुड की तरह हक अभी भी अपने भावोद् गारों को अभिव्यक् करने, परिभाषित करने छटपटाते हैंआवश्यकता है एक ऐसी विश् जमीन बोली की जहां हम पूरी तरह खुल सकें, मिल सकें, परस्पर प्रेम कर सकेंयही हर बोली की अभीप्सा है, अभिप्राय है :

पोथी पढ पढ जग मुआ, पंडित भया कोय,
ढाई आखर प्रेम का, पढे सो पंडित होय

आत्मीयता और प्रेम छत्तीसगढी बोली की मौलिक विशेषता हैक्रोध, कुत्सा, ईर्ष्या और घ्रणा जैसे मनोविकारों का शब्दिक पर्याय ही नहीं है इस बोली मेंसर्वत्र प्रेम है, स्नेह और आतिथ् परायण्ता के मनोभाव हैंदूसरों के लिए सर्वस् त्याग करने की उत्कट कामना हैसभी प्राणियों के लिए मंगल कामनाएं, जडचेतन के लिए नैष्ठिक अनुराग छत्तीसगढी बोली का अन्यतम आकर्षण है और इसी में अंतर्निहित है छत्तीसगढ की आत्मा, छत्तीसगढ राज् की गरिमा

उडत चिरइया रूम झूम ले
बहिनी उडत चिरइया रूम झूम ले
राम रमउवा ले ले
बहिनी, राम रमउवा ले ले
भइया राम रमउवा ले ले.

3 comments:

  1. सुंदर लेख!!
    शुक्रिया इसे यहां प्रस्तुत करने का।

    एक बात समझ मे नही आती,
    एक तरफ़ साहित्यकार अपनी रचनाओं को छत्तीसगढ़ी को बोली के रुप मे बताते है, गुण गाते हैं पर दूसरी तरफ़ सरकार से मांग करते हैं कि इसे राजभाषा घोषित कर दी जाए। मै ऐसा कहकर विरोध नही कर रहा लेकिन इस विरोधाभास को समझ भी नही पा रहा।

    ReplyDelete
  2. रामहृदय तिवारी जी आलेख पेश करने का आभार.

    संजीत का प्रश्न विचारणीय है.

    ReplyDelete
  3. संग्रहणीय लेख। हमेशा ही बडी ही अनोखी सामग्री लेकर आते है आप।

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

loading...

Popular Posts