ब्लॉग छत्तीसगढ़

17 August, 2007

हिन्‍दी कम्‍यूटिंग : स्‍वप्‍न अधूरे हैं



बडे भाई शुकुल जी एवं ज्ञानदत्‍त जी के प्रेरणा से आरंभ यह् इंक ब्‍लागिंग हमारे लिए एक अच्‍छा साधन सिद्ध हुआ है । दिन भर कम्‍प्‍यूटर से दूर रहने का गम इसने दूर कर दिया ।

7 comments:

  1. रवि जी और आप पर हमें भी गर्व है और इन्तजार भी साझा है. जल्द मनोकामना पूर्ण हो, शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  2. वाह, वाह! यह पोस्ट रवि रतलामी को और भी युवा बना देगी. :)

    रवि वास्तव में बहुत बढ़िया ब्लॉगर और इंसान हैं. पर कूट शब्दों के हिदीकरण में वे हमेशा की तरह सरल शब्द ही रखेंगे - जीभ तोड़ नहीं - यह आशा है!

    ReplyDelete
  3. आपके सुन्दर हस्तलेख में पोस्ट पढ़ना आनंददायी होता है।

    हिन्दी/इण्डिक कंम्प्यूटिंग सही कहें तो अभी आधे रास्ते भी नहीं पहुँची। अभी तो सिर्फ इसमें पढ़ना-टाइप करना सरल हुआ है। लेकिन इसके लिए भी अभी कई झमेले हैं जो कि नए आदमी के लिए सरल नहीं। सबसे पहली बात तो ये कि इण्डिक सपोर्ट ऑपरेटिंग सिस्टम में इनबिल्ट होना चाहिए। लिनक्स के अतिरिक्त विंडोज विस्टा में ये हो चुका है। अतः इस बारे में निश्चिंत रह सकते हैं कि नए OS इण्डिक सपोर्ट रेडी हैं।

    लेकिन एक महत्वपूर्ण कमी रह गई विंडोज विस्टा में - सिर्फ इनस्क्रिप्ट IME इनबिल्ट है, फोनेटिक तथा रेमिंगटन IME नहीं। अभी किसी नए आदमी को ये टूल डाउनलोड करने पढ़ते हैं, अगर ये इनबिल्ट होते तो बहुत लोग हिन्दी का प्रयोग करते। माइक्रोसॉफ्ट को अपने Indic IME जो कि सभी तरह के कीबोर्ड लिए है, विंडोज में शामिल करना चाहिए ताकि किसी को भी हिन्दी टाइप के लिए अलग से टूल्स को डाउनलोड न करना पड़े। इस विषय पर अलग से एक पोस्ट लिखूँगा।

    और भी कई मुद्दे हैं, विंडोज 98, ME भी हिन्दी की एक बहुत बढ़ी बाधा है, देश में बहुत से इंटरनैट प्रयोक्ता साइबर कैफे का उपयोग करते हैं जहाँ ये OS जड़ें जमाए बैठे हैं। इनका मुँह काला होगा तो ही हिन्दी का भला होगा। खैर ये समस्या तो कुछ सालों में सुलझ जाएगी।

    ग्राफिक्स एवँ डीटीपी के क्षेत्र में अभी हिन्दी में काम करना सुलभ नहीं। इसके लिए कामचलाऊ समाधान संभव है जिसके लिए मैथिली जी आदि प्रोग्रामर साथियों को मनाने की कोशिश कर रहा हूँ।


    और भी कई मुद्दे हैं, टिप्पणी लंबी हुई जा रही है, विस्तार से अपने चिट्ठे पर लिखूँगा।

    पर एक बात तय है हिन्दी के लिए एक काम हर हिन्दी का प्रयोक्ता कर सकता है और वो है इससे अधिकाधिक लोगों को जोड़ना। यह अत्यंत हर्ष का विषय है कि आप छतीसगढ़ी चिट्ठाकार इस कार्य को बहुत अच्छी तरह अंजाम दे रहे हैं।

    ReplyDelete
  4. आपने और श्रीश जी ने तो काफी अच्छे से सारी जानकारी दे दी है। और इस नेक काम के लिए हमारी शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  5. निश्चित ही रवि जी का कार्य काबिले-तारीफ़ ही नही बल्कि गर्व करने वाला है!!

    आपकी इंकब्लॉगिंग हमें भी उचकाती है कि कर बेटा तू भी कुछ कर , लेकिन हम नही उचकेंगे हां!!

    ReplyDelete
  6. अब हस्तलिपि विश्लेषण सॉफ्टवेयर भी हिन्दी में आ रहा है, ताकि आपकी हस्तलिपि को स्कैन करके हिन्दी-वर्ण-कूटों में बदल सके।

    ReplyDelete
  7. आपके कुछ प्रश्नों के उत्तर देने का प्रयास मैंने किया है। निम्न लेख देखें:

    हिन्दी कम्प्यूटिंग - कब और कैसे होंगे सपने साकार

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

Popular Posts