09 दिसंबर, 2010

प्रादेशिक फिल्‍मों की कहानियॉं : अनाम ब्‍लॉगर की प्रस्‍तुति


प्रादेशिक भाषाओं के फिल्‍मों का अपना एक अलग महत्‍व होता है, क्‍योंकि प्रादेशिक भाषा के फिल्‍मों में क्षेत्रीय संस्‍कृति व परम्‍पराओं का समावेश होता है इस कारण क्षेत्रीय फिल्‍में क्षेत्रीय जन-मन को लुभाती है। छत्‍तीसगढ़ प्रदेश की भाषा छत्‍तीसगढ़ी में बने फिल्‍मों की संख्‍या अभी ज्‍यादा नहीं है किन्‍तु दक्षिण भारत के प्रादेशिक फिल्‍मों की प्रगति को देखते हुए लगता है कि छत्‍तीसगढ़ में भी प्रादेशिक भाषा छत्‍तीसगढ़ी की फिल्‍मों के निर्माण में अब गति आयेगी। छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍मों के इतिहास पर विहंगावलोकन आदरणीय राहुल सिंह जी नें अपने ब्‍लॉग सिंहावलोकन में किया है जो अब तक के उपलब्‍ध स्‍त्रोतों का एकमात्र प्रामाणिक दस्‍तावेज है। राहुल भईया के इस पोस्‍ट के बाद एवं छत्‍तीसगढ़ी गीतों पर आधारित ब्‍लॉग 'छत्‍तीसगढ़ी गीत संगी' के अनाम ब्‍लॉगर ने छत्‍तीसगढ़ी की दूसरी फिल्‍म 'घर द्वार' के सभी गीतों को प्रस्‍तुत किया जिसके लिये श्री राहुल सिंह जी एवं श्री मोहम्मद जाकिर हुसैन जी का विशेष सहयोग रहा। 'छत्‍तीसगढ़ी गीत संगी' के ताजा पोस्‍ट में श्री मोहम्मद जाकिर हुसैन जी के द्वारा एतिहासिक फिल्‍म 'घर द्वार' के निर्माण की कहानी रोचक शैली में प्रस्‍तुत की गई है। छत्‍तीसगढ़ में रूचि रखने वाले साथियों से अनुरोध है कि 'छत्‍तीसगढ़ी गीत संगी' के इन पोस्‍टों को अवश्‍य पढ़ें, भाई जाकिर से हुई चर्चा के अनुसार इस ब्‍लॉग के आगामी पोस्‍टों में एक और लोकप्रिय छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म के गानों के साथ निर्माण की कहानी प्रस्‍तुत होगी।
'छत्‍तीसगढ़ी गीत संगी' के इस सराहनीय कार्यों को देखकर हिन्‍दी ब्‍लॉगजगत के हमारे संगी इसके माडरेटर के संबंध में जानना चाहते हैं, सभी की उत्‍सुकता है कि 'छत्‍तीसगढ़ी गीत संगी' ब्‍लॉग के ब्‍लॉगर कौन हैं। स्‍वाभाविक रूप से इसमें मेरी भी उत्‍सुकता है किन्‍तु इसके ब्‍लॉगर महोदय अनाम रहकर छत्‍तीसगढ़ महतारी की सेवा करना चाहते हैं यह बहुत सराहनीय व अनुकरणीय कार्य है। हिन्‍दी ब्‍लॉगजगत में समय-बेसमय होते जूतामपैजार, लोकप्रिय-अतिलोकप्रिय-महालोकप्रिय व वरिष्‍ठ-कनिष्‍ट-गरिष्‍ठ ब्‍लॉगर बनने की आकांक्षाओं से परे हमारा यह अनाम भाई चुपके से दस्‍तावेजी पन्‍ने लिख रहा है इसे मेरा सलाम-प्रणाम।

संजीव तिवारी

15 टिप्‍पणियां:

  1. ... vaise gumnaam bankar hi kuchh kaary karnaa thaa to bahut se aise kaary hain jinhen kiyaa jaanaa desh va samaaj hit men atyant aavashyak hai ... geet-sangeet to aam baat hai ... !!!

    जवाब देंहटाएं
  2. उदय भाई,

    देव, आप सत्‍य कह रहे हैं, गीत संगीत तो आम है. इस आम से ही देश व समाज निर्मित है और गीत संगीत समाज के उल्‍लास की अभिव्‍यक्ति है, 'हित' की परिभाषा हम अपनी सुविधानुसार बनाते रहते हैं अस्‍तु इस संबंध में कुछ ना कहते हुए, टिप्‍पणी के लिये आभार.

    जवाब देंहटाएं
  3. फेसबुक पर राकेश सिंह जी की टिप्‍पणी -

    क्या बढ़िया लिंक दिया आप ने सर जी. शुक्रिया. अनाम को सलाम. अंग्रेजी ब्लाग में यह प्रवृत्ति आम है और हिंदी में भी इसका स्वागत होना चाहिए, और 'अनाम' की भावनाओं का सम्मान करते हुए उनकी तलाश का प्रयास नहीं होना चाहिए.

    जवाब देंहटाएं
  4. धन्‍यवाद, संजीव जी. शुरुआती दौर से ही इस संगी ने मुझे कभी-कभार सहयोगी बनने का अवसर भी दिया, प्रशंसक मैं लगातार हूं, इसका. संगी के साथ सहयोग और छुपी पहचान को लेकर रोचक स्थितियां भी बनी एकाध बार. यह अनाम संगी तो वंदनीय है ही. उदय जी की टिप्‍पणी पर सविनय कहना चाहूंगा कि अनाम गीत संगी अपनी क्षमता अनुसार और आपके कथन अनुसार ''गीत-संगीत की आम बात'' कर रहा है, लेकिन हमें आपके उच्‍च विचारों के अनुरूप कार्य की आपसे अपेक्षा और प्रतीक्षा है.

    जवाब देंहटाएं
  5. @ राहुल सिंह जी

    धन्‍यवाद राहुल भईया.

    जवाब देंहटाएं
  6. सन्दर्भ से कट कर कुछ भी महान नहीं रह जाता है उदय जी.
    गीत संगीत को आम समझने के लिए मैं नहीं तैयार हूँ.
    गीत संगीत तो मनुष्य होने की निशानी हैं.
    इन में मानव मन की अभिव्यक्ति होती है.
    क्षेत्रीय फिल्मों के गीत तो मन के दस्तावेज होते हैं.
    याद करिए भोजपुरी गीत
    'हे गंगा मइया तोहे पियरी चढ़इबो ,पियवा से कर दो मिलनवा हो रामा'
    या 'पिपरा के पतवा सरिस डोले मोरा मनवा '
    मन को समझने में ये गीत सहायक होते हैं.गीतों में समाज और समय बोलता है.
    निश्चय ही यह महत्वपूर्ण कार्य है.
    तिवारी जी से यह अनुरोध है कि इसे हल्का नहीं माने.
    राकेश जी ने सही कहा है कि बाहर के देशों में काफी काम हो रहा है.
    लोक में प्रचलित इसी तरह की चीज को ओरल हिस्ट्री के नाम से भी जानते हैं.

    जवाब देंहटाएं
  7. Mujhe sattar ke dashak mein ‘Saarikaa’ mein prakaashit suprasiddh kathaakaar Lakshmikaant Vaishnav jii kii ek laghukathaa yaad aa rahii hai. Kathaa shabdasah to yaad nahin kintu kuchh-kuchh is prakaar hai:
    Ek aadamii thaa. Jab wah ghar se baahar nahin niklataa to log kahte: “dekho ghar mein ghusaa baithaa hai”. Baahar nikalataa to log kahate: “dekho, baahar nikal gayaa hai”. Wah chup rahataa to log kahate: “dekho chuppaa hai, kisii se koii baat nahin karataa”. Baat karataa to kahate: “dekho, dekho kaise batiyaa rahaa hai”. Antatah usane ek din aatma hatyaa kar lii aur log kahane lage: “dekho to usane aatma hatyaa kar lii”.
    Yaanii aap kuchh karein to bhii logon ko taqliif aur na karein to bhii taqliif. Baharhaal, anaam bloger ke kaam ko aap sabhii kii tarah meraa bhii salaam-pranaam.
    --Harihar Vaishnav

    जवाब देंहटाएं
  8. अच्छे कार्य की सराहना अपरोक्ष रूप से कर्ता की सराहना है.अनमोल छत्तीसगढ़ गीतों को धरोहर बनाकर, नई पीढ़ी तक पहुँचाना बड़ा ही नेक कार्य है."कहि देबे सन्देश" और" घर द्वार" दोनों ही फिल्मों के गीत पुराने हिंदी फिल्म संगीत की तरह ही अमर हैं और अमर रहेंगे.सिर्फ इसलिए ही ये गीत अमर नहीं हैं कि इन्हें मो.रफ़ी,सुमन कल्यानपुर(."कहि देबे सन्देश"में मन्नाडे भी) ने स्वर दिया है,बल्कि इसलिए कि इन गीतों को दिल से लिखा गया और दिल से गाया गया है.दिल से निकली चीज दिल तक सुगमता से पहुँचती है क्योंकि दिल कि कोई भाषा नहीं होती.लोक गीत इसीलिए अमर रहते हैं.छत्तीसगढ़ी गीतों को कुमार शानू,सोनू निगम,अनुराधा पोडवाल,अभिजीत,कविता कृष्णमूर्ति,साधना सरगम जैसे प्रसिद्ध पार्श्व गायकों ने भी स्वर दिए हैं,कितने अमर हुए ? " मोर संग चलव" फिल्म में सुरेश वाडकर ने बहुत ही खूबसूरती से "मोर संग चलव रे ........" गीत को गाया है लेकिन उनकी आवाज में यह कहाँ बजता है ? जबकि "लक्ष्मण मस्तुरिया " के स्वर में इस गीत को ४० वर्षों से सुनते आये हैं, आज भी यह गीत मस्तुरिया जी की आवाज में ही सुनने को मिलता है.अमर और अनमोल छत्तीसगढ़ी गीतों के संकलनकर्ता को बधाई .उत्तम पोस्ट के लिए संजीव जी को सदा की तरह शुभ कामनाएं.

    जवाब देंहटाएं
  9. c g film mo ke bare mai bahut hi achchhi jankari di gayi hai ,achchha laga .

    जवाब देंहटाएं
  10. उदय जी ,
    मुझे नहीं लगता कि गीत संगीत आम बात हैं अगर फसलों का लहलहाना आम बात होती हो तो जीवन में गीत संगीत भी आम मान सकूंगा मैं !

    जवाब देंहटाएं
  11. छत्तीसगढ़ से हमारा भी नाता रहा है। वहीं पले और बढ़े हैं। आपका प्रयास सराहनीय है। आभार...

    जवाब देंहटाएं
  12. इस अनाम ब्लॉगर को इस सराहनीय कार्य हेतु धन्यवाद और इस ब्लॉग से परिचय हेतु आपको धन्यवाद ।

    जवाब देंहटाएं
  13. बहुत अच्छी रचना
    बहुत - बहुत शुभकामना
    --

    जवाब देंहटाएं

  14. बहुत बढ़िया संजीव जो आपने अपना पूरा लेख एक अनाम को समर्पित कर दिया !

    आज के समय में बिना यश कामना के ऐसा बोरिंग, नीरस काम कोई नहीं करना चाहता ...इनकी जितनी तारीफ की जाए कम होगी ! ऐसे व्यक्ति को मेरा प्रणाम...

    जवाब देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

Featured Post

दुर्ग जिले में पहली चुनाव याचिका

दुर्ग ग्रामीण के रूप में उस समय दुर्ग से लगे ग्राम कुथरैल विधानसभा सीट था। दूसरे चुनाव में यह सीट भिलाई के रूप में परिसीमित हुआ था। उस समय क...

लेबल

संजीव तिवारी की कलम घसीटी समसामयिक लेख अतिथि कलम जीवन परिचय छत्तीसगढ की सांस्कृतिक विरासत - मेरी नजरों में पुस्तकें-पत्रिकायें छत्तीसगढ़ी शब्द Chhattisgarhi Phrase Chhattisgarhi Word विनोद साव कहानी पंकज अवधिया सुनील कुमार आस्‍था परम्‍परा विश्‍वास अंध विश्‍वास गीत-गजल-कविता Bastar Naxal समसामयिक अश्विनी केशरवानी नाचा परदेशीराम वर्मा विवेकराज सिंह अरूण कुमार निगम व्यंग कोदूराम दलित रामहृदय तिवारी अंर्तकथा कुबेर पंडवानी Chandaini Gonda पीसीलाल यादव भारतीय सिनेमा के सौ वर्ष Ramchandra Deshmukh गजानन माधव मुक्तिबोध ग्रीन हण्‍ट छत्‍तीसगढ़ी छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म पीपली लाईव बस्‍तर ब्लाग तकनीक Android Chhattisgarhi Gazal ओंकार दास नत्‍था प्रेम साईमन ब्‍लॉगर मिलन रामेश्वर वैष्णव रायपुर साहित्य महोत्सव सरला शर्मा हबीब तनवीर Binayak Sen Dandi Yatra IPTA Love Latter Raypur Sahitya Mahotsav facebook venkatesh shukla अकलतरा अनुवाद अशोक तिवारी आभासी दुनिया आभासी यात्रा वृत्तांत कतरन कनक तिवारी कैलाश वानखेड़े खुमान लाल साव गुरतुर गोठ गूगल रीडर गोपाल मिश्र घनश्याम सिंह गुप्त चिंतलनार छत्तीसगढ़ राजभाषा आयोग छत्तीसगढ़ वंशी छत्‍तीसगढ़ का इतिहास छत्‍तीसगढ़ी उपन्‍यास जयप्रकाश जस गीत दुर्ग जिला हिन्दी साहित्य समिति धरोहर पं. सुन्‍दर लाल शर्मा प्रतिक्रिया प्रमोद ब्रम्‍हभट्ट फाग बिनायक सेन ब्लॉग मीट मानवाधिकार रंगशिल्‍पी रमाकान्‍त श्रीवास्‍तव राजेश सिंह राममनोहर लोहिया विजय वर्तमान विश्वरंजन वीरेन्‍द्र बहादुर सिंह वेंकटेश शुक्ल श्रीलाल शुक्‍ल संतोष झांझी सुशील भोले हिन्‍दी ब्‍लाग से कमाई Adsense Anup Ranjan Pandey Banjare Barle Bastar Band Bastar Painting CP & Berar Chhattisgarh Food Chhattisgarh Rajbhasha Aayog Chhattisgarhi Chhattisgarhi Film Daud Khan Deo Aanand Dev Baloda Dr. Narayan Bhaskar Khare Dr.Sudhir Pathak Dwarika Prasad Mishra Fida Bai Geet Ghar Dwar Google app Govind Ram Nirmalkar Hindi Input Jaiprakash Jhaduram Devangan Justice Yatindra Singh Khem Vaishnav Kondagaon Lal Kitab Latika Vaishnav Mayank verma Nai Kahani Narendra Dev Verma Pandwani Panthi Punaram Nishad R.V. Russell Rajesh Khanna Rajyageet Ravindra Ginnore Ravishankar Shukla Sabal Singh Chouhan Sarguja Sargujiha Boli Sirpur Teejan Bai Telangana Tijan Bai Vedmati Vidya Bhushan Mishra chhattisgarhi upanyas fb feedburner kapalik romancing with life sanskrit ssie अगरिया अजय तिवारी अधबीच अनिल पुसदकर अनुज शर्मा अमरेन्‍द्र नाथ त्रिपाठी अमिताभ अलबेला खत्री अली सैयद अशोक वाजपेयी अशोक सिंघई असम आईसीएस आशा शुक्‍ला ई—स्टाम्प उडि़या साहित्य उपन्‍यास एडसेंस एड्स एयरसेल कंगला मांझी कचना धुरवा कपिलनाथ कश्यप कबीर कार्टून किस्मत बाई देवार कृतिदेव कैलाश बनवासी कोयल गणेश शंकर विद्यार्थी गम्मत गांधीवाद गिरिजेश राव गिरीश पंकज गिरौदपुरी गुलशेर अहमद खॉं ‘शानी’ गोविन्‍द राम निर्मलकर घर द्वार चंदैनी गोंदा छत्‍तीसगढ़ उच्‍च न्‍यायालय छत्‍तीसगढ़ पर्यटन छत्‍तीसगढ़ राज्‍य अलंकरण छत्‍तीसगढ़ी व्‍यंजन जतिन दास जन संस्‍कृति मंच जय गंगान जयंत साहू जया जादवानी जिंदल स्टील एण्ड पावर लिमिटेड जुन्‍नाडीह जे.के.लक्ष्मी सीमेंट जैत खांब टेंगनाही माता टेम्पलेट डिजाइनर ठेठरी-खुरमी ठोस अपशिष्ट् (प्रबंधन और हथालन) उप-विधियॉं डॉ. अतुल कुमार डॉ. इन्‍द्रजीत सिंह डॉ. ए. एल. श्रीवास्तव डॉ. गोरेलाल चंदेल डॉ. निर्मल साहू डॉ. राजेन्‍द्र मिश्र डॉ. विनय कुमार पाठक डॉ. श्रद्धा चंद्राकर डॉ. संजय दानी डॉ. हंसा शुक्ला डॉ.ऋतु दुबे डॉ.पी.आर. कोसरिया डॉ.राजेन्‍द्र प्रसाद डॉ.संजय अलंग तमंचा रायपुरी दंतेवाडा दलित चेतना दाउद खॉंन दारा सिंह दिनकर दीपक शर्मा देसी दारू धनश्‍याम सिंह गुप्‍त नथमल झँवर नया थियेटर नवीन जिंदल नाम निदा फ़ाज़ली नोकिया 5233 पं. माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकार परिकल्‍पना सम्‍मान पवन दीवान पाबला वर्सेस अनूप पूनम प्रशांत भूषण प्रादेशिक सम्मलेन प्रेम दिवस बलौदा बसदेवा बस्‍तर बैंड बहादुर कलारिन बहुमत सम्मान बिलासा ब्लागरों की चिंतन बैठक भरथरी भिलाई स्टील प्लांट भुनेश्वर कश्यप भूमि अर्जन भेंट-मुलाकात मकबूल फिदा हुसैन मधुबाला महाभारत महावीर अग्रवाल महुदा माटी तिहार माननीय श्री न्यायमूर्ति यतीन्द्र सिंह मीरा बाई मेधा पाटकर मोहम्मद हिदायतउल्ला योगेंद्र ठाकुर रघुवीर अग्रवाल 'पथिक' रवि श्रीवास्तव रश्मि सुन्‍दरानी राजकुमार सोनी राजमाता फुलवादेवी राजीव रंजन राजेश खन्ना राम पटवा रामधारी सिंह 'दिनकर’ राय बहादुर डॉ. हीरालाल रेखादेवी जलक्षत्री रेमिंगटन लक्ष्मण प्रसाद दुबे लाईनेक्स लाला जगदलपुरी लेह लोक साहित्‍य वामपंथ विद्याभूषण मिश्र विनोद डोंगरे वीरेन्द्र कुर्रे वीरेन्‍द्र कुमार सोनी वैरियर एल्विन शबरी शरद कोकाश शरद पुर्णिमा शहरोज़ शिरीष डामरे शिव मंदिर शुभदा मिश्र श्यामलाल चतुर्वेदी श्रद्धा थवाईत संजीत त्रिपाठी संजीव ठाकुर संतोष जैन संदीप पांडे संस्कृत संस्‍कृति संस्‍कृति विभाग सतनाम सतीश कुमार चौहान सत्‍येन्‍द्र समाजरत्न पतिराम साव सम्मान सरला दास साक्षात्‍कार सामूहिक ब्‍लॉग साहित्तिक हलचल सुभाष चंद्र बोस सुमित्रा नंदन पंत सूचक सूचना सृजन गाथा स्टाम्प शुल्क स्वच्छ भारत मिशन हंस हनुमंत नायडू हरिठाकुर हरिभूमि हास-परिहास हिन्‍दी टूल हिमांशु कुमार हिमांशु द्विवेदी हेमंत वैष्‍णव है बातों में दम