ब्लॉग छत्तीसगढ़

06 April, 2015

छत्तीसगढ़ का इतिहास, पुरातत्व और संस्कृति का साहित्य

दैनिक हरिभूमि से साभार
संस्कृति एवं पुरातत्व विभाग, छ.ग. शासन के सहयोग से दुर्ग जिला हिन्दी साहित्य समिति द्वारा विगत रविवार को होटल हिमालय पार्क, सुपेला, भिलाई में ‘छत्तीसगढ़ का इतिहास, पुरातत्व और संस्कृति का साहित्य’ विषय पर परिचर्चा रखी गई थी। इसमें अध्यक्षता कर रहे मुंगेली के कलेक्टर व इतिहासकार डॉ.संजय अलंग नें छत्तीसगढ़ के पुरावैभव एवं इतिहास पर लिखे गए साहित्य को विस्तार से बताते हुए कहा कि, अपने अतीत को जानने की उत्सुकता सभी को होती है। महाकोशल, दक्षिण कोशल व कोशल तदुपरांत छत्तीसगढ़ के निर्माण के एतिहासिक पहलुओं को उन्होंनें बहुत ही सरल व रोचक ढ़ंग से प्रस्तुत किया। छत्तीसगढ़ के गढ़ों की स्थापना व रियासतों एवं जमीदारियों के अस्तित्व में आने के संबंध में उन्होंनें तथ्यात्मक विवरण प्रस्तुत करते हुए बताया कि छत्तीसगढ़ में गढ़ का मतलब किला नहीं है।। उन्होंनें इतिहासपरक सजग मानसिकता व इतिहास में वैज्ञानिक दृष्टिकोण को भी विश्लेशित किया। उन्होंनें अपनी किताब का उल्लेख करते हुए कहा कि राजाओं के बदले जनता का इतिहास लिखा जाना आवश्यक है। इतिहास सूतनूका को देवदासी लिख कर अपना इतिश्री कर लेती है और यही जब साहित्य में दर्ज होती है तब वहां उसका प्रेम भी प्रकट होता है। ऐसे समय में जब इतिहास गजेटियर को आधार मान कर लिखे जा रहे हों तो इतिहासों का इतिहास लिखा जाना चाहिए।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि इतिहासकार व बख्शी सृजन पीठ के अध्यक्ष डॉ. रमेंद्रनाथ मिश्र नें छत्तीसगढ़ के कालखण्डों पर लिखे गए इतिहास का क्रमिक उल्लेख किया एवं कहा कि साहित्य इतिहास के क्रम को आगे बढ़ाता है जो पीढ़ियों को अपने अतीत के संबंध में जानकारी देता है। इस सत्र के वक्ता पुरातत्व एवं संस्कृतिविद राहुल सिंह नें वाचिक परम्परा के रूप में पीढ़ियों से गाए जाने वाले लोक गाथाओं एवं लोक कथाओं में समाहित इतिहास का उल्लेख करते हुए बताया कि हमारे इन लोककथाओं से भी इतिहास को समझा जा सकता है एवं ये इतिहास लेखन के बहुत बड़े श्रोत हैं। नृत्त्रत्वशास्त्री अशोक तिवारी नें कहा कि पुरातत्व के उत्खनन से भोजन बनाने के बर्तन तो मिल सकते हैं, उनके निर्माण के काल भी हमें मिल सकता है किन्तु हमें उस काल में भोजन कैसे बनाया जाता था इसकी जानकारी नहीं मिल पाती। इसके लिए उन्होंनें अनुरोध किया कि हमें अपने क्षेत्रीय विशिष्‍ठ वस्तुओं व दैनिक उपयोग की वस्तुओं के प्रयोग के संबंध में लिखना चाहिए जो धीरे धीरे विलुप्ति के कगार पर हैं। ऐसा करके हम एवं पीढि़यॉं सरपट भागते वैज्ञानिक युग में अपने पारंपरिक वस्तुओं को जान समझ भी सकेंगें। डॉ.शिवाकांत बाजपेयी नें डमरू उत्खनन से प्राप्त पुराअवशेशों के संबंध में बतलाया एवं उत्खनन से प्राप्त जानकारी के अनुसार से छत्तीसगढ़ के इतिहास को लगभग डेढ़ हजार साल पुराना बताया।

कार्यक्रम का संचालन करते हुए पुरातत्व वेत्ता एवं कवि शरद कोकाश नें विषय से संबंधित अनेक उदहरण प्रस्तुत करते हुए छत्तीसगढ़ के इतिहास एवं पुरातत्व के साहित्य का उल्लेख किया। कार्यक्रम मे दुर्ग भिलाई के साहित्यकार, पत्रकार एवं गणमान्य भारी संख्या में उपस्थित थे। कार्यक्रम में स्वागत भाषण दुर्ग जिला हिन्‍दी साहित्‍य समिति के अध्‍यक्ष डाॅ.संजय दानी नें दिया एवं आभार समाजसेवी एवं साहित्यप्रेमी संतोष गोलछा नें किया।

2 comments:

  1. हार्दिक मंगलकामनाओं के आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार (07-04-2015) को "पब्लिक स्कूलों में क्रंदन करती हिन्दी" { चर्चा - 1940 } पर भी होगी!
    --
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. हार्दिक मंगलकामनाओं के आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार (07-04-2015) को "पब्लिक स्कूलों में क्रंदन करती हिन्दी" { चर्चा - 1940 } पर भी होगी!
    --
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

loading...

Popular Posts