ब्लॉग छत्तीसगढ़

02 January, 2013

बूड़ मरे नहकउनी दै

इस छत्‍तीसगढ़ी लोकोकित का भावार्थ है दुहरी नुकसानी. इस लोकोक्ति में प्रयुक्‍त छत्‍तीसगढ़ी शब्‍द 'बूड़' और 'नहकउनी' का अर्थ जानने का प्रयास करते हैं.

छत्‍तीसगढ़ी शब्‍द 'बूड़' से 'बुड़ना' बना है जिसका अर्थ है डूबना, अस्‍त होना. चांद, तारे, सूर्य आदि के अस्‍त होने को भी 'बुड़ना' कहा जाता है. सूर्य के अस्‍त होने संबंधी एक और शब्‍द छत्‍तीसगढ़ में प्रचलित है 'बुड़ती'. सूर्य के उदय की दिशा (पूर्व) को 'उत्‍ती' एवं सूर्य के अस्‍त होने की दिशा (पश्चिम) को 'बुड़ती' कहा जाता है. पानी या किसी दव्‍य में पदार्थ का अंदर चले जाने के भाव को भी 'बूड़ना' कहा जाता है. निर्धारित तिथि के उपरांत गिरवी रखी गई सम्‍पत्ति का स्‍वामित्‍व खो जाने को भी 'बुड़ना' कहते है. किसी को दिए हुये या किसी कार्य में लगाए गए धन के नष्‍ट होने या बर्बाद होने पर भी उस सम्‍पत्ति को 'बुड़ना' या 'बुड़ गे' कहा जाता है. इस प्रकार उपरोक्‍त लोकोक्ति में प्रयुक्‍त 'बूड़' का अर्थ डूबने से ही है.

'नहकउनी' छत्‍तीसगढ़ी शब्‍द 'नहक' से बना है जो पार होने के लिए प्रयोग में लाया जाता है. पार करने या कराने की क्रिया को 'नहकई' कहा जाता है. जीवन को या संसार को भवसागर मानते हुए भी जीवन से पार लगाने के लिए 'नहकाने' या 'नहकने' का प्रयोग होता है, किसी की मृत्‍यु होने पर 'नहक गे गा : मृत्‍यु हो गई' कहा जाता है. इस प्रकार पार लगाने की क्रिया से संबंधित शब्‍द 'नहकउनी' का अर्थ पार कराने का खर्च, शुल्‍क या पारिश्रमिक है.

डूब कर मरने की स्थिति और उसके बावजूद पार कराने का पारिश्रमिक देना पड़े यही भाव प्रस्‍तुत लोकोक्ति में अंर्तनिहित है.


इस संबंध में अकलतरा से रमाकांत सिंह जी का कहना है कि, बूड़ और गे का अर्थ डूब गया अर्थात समायोजित हो गया ..अब न लेना न देना ....मेरी जानकारी में बुड़ना एक क्रिया है जिसमे गे शब्द लगाकर क्रिया का दूसरा रूप बनाया गया है. ....जैसे.जाना, गया, जा चूका .. GO , WENT , GONE.


3 comments:

  1. बूड़ और गे का अर्थ डूब गया अर्थात समायोजित हो गया ..अब न लेना न देना ....मेरी जानकारी में बुड़ना एक क्रिया है जिसमे गे शब्द लगाकर क्रिया का दूसरा रूप बनाया गया है. ....जैसे.जाना, गया, जा चूका .. GO , WENT , GONE ,

    ReplyDelete
  2. एक एक करके बढ़िया हमर परदेस के बोली भाखा के चिन्हारी ओखर अर्थ सहित समझाए बर अब्बड़ अकन जोहार भाई संजीव .....

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

loading...

Popular Posts