ब्लॉग छत्तीसगढ़

13 March, 2010

अपने ब्लॉग को सजाना अब और आसान - ब्लॉगर ने की टेम्पलेट डिजाइनर की घोषणा

गूगल ने कल ब्लॉग को मनचाहा रूप और आकार देने की प्रक्रिया को और आसान बनाने के लिए इंटरफेस टेम्पलेट डिजाइनर की सुविधा प्रदान की है. गूगल की घोषणा के अनुसार वह अपने ब्लॉगर उपयोगकर्ताओं को अपने ब्लॉग को सरलतम तरीके से अधिक विशिष्ट बनाने के लिए, एक अतिरिक्त सुविधा टेम्पलेट डिजाइनर के रूप मे प्रदान कर रहा है.
हममे से अधिकतर ब्लॉगर चाहते हैं कि उनका ब्लॉग सुन्दर हो, डिजाईनर हो. जबकि ब्लॉगर के डिफाल्ट टेम्पलेट ज्यादा डिजाईनर नहीं हैं. इसीलिये ज्यादातर ब्लॉगर अपने ब्लॉग मे अपनी रुचि के अनुरूप फ्री ब्लॉगर टेम्पलेट से टेम्पलेट डाउनलोड कर ब्लॉग को वेब साइट की भांति बना लेते है या बनावा लेते हैं. किंतु इसके लिये सामान्य तकनीकि कुशलता की आवश्यकता होती है, कभी कभी यह थर्ड पार्टी टेम्पलेट रंगों, शब्दों के आकार और गैजेट लगाने मे पूर्ण स्वतंत्रता प्रदान नही करती. इसके अतिरिक्त यह सुविधा ब्लॉगर के द्वारा स्वयं उपलब्ध नही कराये जाने के कारण उधारी ली गयी लगती है. अब इन सबका निदान गूगल की इस सुविधा से अवश्य मिलेगा. यह सुविधा अभी ब्लॉगर इन ड्राफ्ट मे उपलब्ध है. इसके लिये आपको डैशबोर्ड से लेआउट मे जाना होगा जहा आपको टेम्पलेट डिजाइनर की नयी सुविधा इस प्रकार नजर आयेगी -
ब्लॉग का संपूर्ण चोला बदलिये

बैकग्राउंड में चित्र या रंग बदलें

मनचाहा साईडबार जोडें

साईडबार, बैकग्राउंड, टैक्स्ट रंग व टैक्स्ट आकार बदलें


बहुत ही सामान्‍य तरीके से इनका प्रयोग कर  आप अपने ब्लॉग को मनचाहा रंग-रूप दे सकते हैं. इस नए डिजाइनर सुविधा के सम्बन्ध मे विस्तृत जानकारी हम आगामी पोस्टो मे देने का प्रयास करेंगे. अभी आप अपने किसी टेस्ट ब्लाग मे इसे प्रयोग कर देखे. मैने अपने एक ब्लाग मे प्रयोग किया है और दो कालम को तीन कालम किया .

संजीव तिवारी 

32 comments:

  1. अरे वाह आपने तो बहुत अच्छे अच्छे टेम्पलेट्स से परिचय करा दिया . धन्यवाद.

    ReplyDelete
  2. ठीक है। हम भी कुछ बदलाव करते हैं। शुक्रिया.

    ReplyDelete
  3. जोहार ले,

    हमर मा नई देखावत हे गा?
    तुंहरे बुलाग मा हवय-कैसे होगे?
    बने जनकारी देय हव-बधई


    हमर पैसा नई पटे हे:)

    ReplyDelete
  4. शानदार.........."
    amitraghat.blogspot.com

    ReplyDelete
  5. संजीव भाई ,
    जो बात ललित जी ने कही है ..उहे हम हिंदी में कहत हे गा ....फ़िर से टराई करत हे गा ..

    अजय कुमार झा

    ReplyDelete
  6. बढ़िया जानकारी के लिए आभार ।

    ReplyDelete
  7. @ ललित भाई और अजय भाई आप https://www.blogger.com के स्‍थान पर http://draft.blogger.com से लागईन होवें तभी यह सुविधा मिल पायेगी.

    ReplyDelete
  8. धन्यवाद ्संजीव जी ये तो सचमुच कमाल है
    अजय कुमार झा

    ReplyDelete
  9. धन्यवाद बहुत अच्छी जानकारी दी आपने.

    ReplyDelete
  10. बहुत बढिया जानकारी मिली .. बहुत बहुत धन्‍यवाद !!

    ReplyDelete
  11. बहुत अच्छी जानकारी दी...

    ReplyDelete
  12. देखते हैं गूगल बाबा का नया औज़ार

    ReplyDelete
  13. हमारे डेशबोर्ड में तो ये आप्शन दिख ही नही रहा है जी।

    ReplyDelete
  14. संजीव, जय राम जी की
    कतको तकनीकी जानकारी
    लिखे हुए मिले पर जब तक कार्यशाला मा
    खुद करके नई देखबो हम जैसे अड़हा
    त आँजत आँजत कानी/काना हो जाही
    त भाई एकाध दिन आ के भाई सिखोबे जी.

    ReplyDelete
  15. अच्छी जानकारी । मैंने अपने ब्लॉग्स www,meraashiyana.blogspot.com or wwwmayanagariyase आपके बताए अनुसार डिजाइन कर लिए है । जरा आकर देखें .....

    ReplyDelete
  16. वाह बढिया जानकारी. हम करके देखते हैं.

    ReplyDelete
  17. www.meraashiyana.blogspot.com है मेरा ब्लॉग का सही पता ।

    ReplyDelete
  18. टिप्पणी बेशक अब कर रहे हैं लेकिन आप की पोस्ट पढकर हम तो इसे पहले ही आजमा चुके हैं...बहुत बढिया लगा ये।
    धन्यवाद्!

    ReplyDelete
  19. जानकारी के लिए धन्यबाद.....
    लड्डू बोलता है ....इंजीनियर के दिल से
    http://laddoospeaks.blogspot.com

    ReplyDelete
  20. थर्ड पार्टी टेम्पलेट मे एक दिक्कत यह भी आती है कि उन्हें बदलने का विकल्प चुनने पर वे टेम्पलेट सेव करने की सलाह देते हैं जो फिर दुबारा शायद ही ठीक से लोड हो पाता है। गूगल को चाहिए कि वह ब्लॉगरों को इस तकनीकी पचड़े से बचाए।

    ReplyDelete
  21. आभार जानकारी का.

    ReplyDelete
  22. बढ़िया जानकारी
    आभार

    ReplyDelete
  23. बंधुवर,मान्यवर और ब्लागर के देवता
    अपन तो इस मामले में निपट अनाड़ी है। आपकी और आदरणीय अवधिया जी की वजह से कुछ पोस्ट वगैरह डालना सीख गए है। जितनी भी तकनीक आ रही है उसे ग्रहण करते चलिए आखिरकार उसे मेरे ही काम ही आना है। आपके तकनीकी ज्ञान को सब सलाम करते हैं.. मै तो मुरीद हूं ही। आपको शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  24. .
    .
    .
    बहुत ही काम की जानकारी,
    आभार!

    ReplyDelete
  25. भैया हम भी बना ही लेते थे लेकिन अब आपसे बनवाने का इरादा है क्यो न एक दिन अपने ही घर पर कार्यशाला लगाये । गुप्ता जी की भी फरमाइश है ।

    ReplyDelete
  26. aap h to dijaenar man l bhukha mare ke entjam kar de havo

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

Popular Posts