ब्लॉग छत्तीसगढ़

01 September, 2009

स्‍वयं के द्वारा बस्‍तर बालाओं के मजेदार दैहिक भोग वृतांत हंस में : रामशरण जोशी

कुछ वर्ष पहले पत्रकार रामशरण जोशी नें हंस में दो किश्‍तों में लेख लिखा था. उसमें उन्‍होंनें लिखा था कि आपतकाल में दो माह के लिए वे बस्‍तर आये थे. वहां रहकर अपने आई.पी.एस.मित्र की कृपा से बस्‍तर की बालाओं के साथ उन्‍होंनें खुलकर दैहिक शोषण का खेल ख्‍ोला. जुगुप्‍ता उपजाने वाला अमर्यादित लंबा वृतांत दो किश्‍तों में छपा. उन्‍होंनें लिखा कि छत्‍तीसगढ में पदस्‍थ दीगर प्रांत के अफसर अपनी बीबी लेकर छत्‍तीसगढ में नहीं आते क्‍योंकि यहॉं औरतें आसानी से उपलब्‍ध रहती हैं.
उन्‍होंनें यह भी लिखा कि जो अफसर बीबी लेकर छत्‍तीसगढ आता है उसे बेवकूफ समझा जाता है. हंस में छपे उस आलेख पर मैनें तुरंत प्रतिवाद किया. हंस संपादक राजेन्‍द्र यादव नें अगले अंक में लेखमाला के प्रकाशन के लिए माफी मांग ली. और किस्‍सा खत्‍म हो गया. मगर इस प्रकरण से यह तो जाहिर ही हो गया कि छत्‍तीसगढ़ और विशेषकर छत्‍तीसगढ़ी को कितनी हिकारत से तथाकथित सभ्‍य दुनिंया देखती है. 

डॉ.परदेशीराम वर्मा जी के एक लेख का अंश. (छत्‍तीसगढ़ आसपास से साभार)

रामशरण जोशी से संबंधित एक और पोस्‍ट पढ़ें - अपने करीबी देह संबंधों की कथा क्‍या सार्वजनिक की जानी चाहिए ?

9 comments:

  1. रामशरण जोशी द्वारा इसे लिखा जाना भी सही नहीं था और हंस ने इसे छाप कर तो अपराध किया था।
    यह भी शोषण का एक रुप है जिस में बंद समाज के लोग खुले समाज के लोगों का शोषण करते हैं सिर्फ इस लिए कि एक आर्थिक रूप से सक्षम और दूसरे कमजोर हैं।

    ReplyDelete
  2. मगर इस प्रकरण से यह तो जाहिर ही हो गया कि छत्‍तीसगढ़ और विशेषकर छत्‍तीसगढ़ी को कितनी हिकारत से तथाकथित सभ्‍य दुनिंया देखती है. >>>
    और यह तथाकथित सभयसमाज भी हिकारत का पात्र है! नाली के कीड़े!

    ReplyDelete
  3. patrkarta ke daroga logo kaha ho,ek aur babhan fansa jaal me .suru ho jao.

    ReplyDelete
  4. तीव्र भर्त्सनीय

    ReplyDelete
  5. अभी एक पोस्ट पर राज्यपाल के द्वारा छत्तीसगढ़ी में भाषण की मिसाल पढ़ कर आ रहा हूं और अब यहां छत्तीसगढ़ का दूसरा रूप देख रहा हूं। निंदनीय।

    ReplyDelete
  6. उस समय वाकई इस लेख पर विवाद हुआ था वर्मा जी और अन्य साहित्यकारो ने इस का विरोध भी किया था । लेकिन क्या करें कोई आदत से बाज न आये तो ।

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

loading...

Popular Posts