संजीव तिवारी की कलम घसीटी

04 December, 2018

लोक में महाभारत : दुर्योधन पुत्र लक्ष्‍मण कुमार - 1

सरला दास को उडि़या साहित्य के आदिकवि के रूप में जाना जाता है। उन्‍होंनें पंद्रहवीं शताब्दी में उडि़या सरला महाभारत की रचना की थी। सरला महाभारत लोक में व्‍याप्‍त महाभारत कथा है यह वेद व्यास के संस्कृत महाभारत से काफी अलग हैं। पिछले दिनों केन्‍द्रीय सरकार की एक संस्‍था के आमंत्रण में मैं उड़ीसा गया था। वहां सरला दास के महाभारत में और उडि़या के लोक में व्‍याप्‍त अन्‍य महाभारत के कुछ रोचक किस्‍सों की जानकारी हुई। 




एक कथा के अनुसार लक्ष्मण कुमार नें कुरुक्षेत्र के महान युद्ध में अपने पिता के साथ कंधे में कंधा मिलाते हुए युद्ध किया था। उसनें तब तक युद्ध किया था जब तक दुर्योधन के सभी भाई, महान महाराजा, कौरव की सेना के महान योद्धा सभी मारे गए। उस समय तक सिर्फ दुर्योधन जीवित था, कुरूक्षेत्र में अट्ठारहवें (शायद सत्रहवें) दिन भयानक युद्ध हो रहा था, रात होने वाली थी, अंधेरा घिर आया था। दुर्योधन चाहता था कि लक्ष्‍मण युद्ध क्षेत्र से भाग जाय और अपना जीवन बचाए। उस समय उसके लिए उसके बेटे का जीवन महत्वपूर्ण था। दुर्योधन का सोचना था कि युद्ध, उसके बेटे के क्षात्र धर्म (कर्तव्य) नहीं है, इस समय वह स्वयं अपने क्षात्र धर्म का प्रदर्शन करेगा। उस रात वह अपने बेटे को युद्ध के मैदान में मरते नहीं, जीवित देखना चाहता था। लक्ष्मण कुमार हरगिज जाना नहीं चाहता था किन्‍तु दुर्योधन ने बेटे को अंधेरे में युद्ध के मैदान से भागने का आदेश दिया। लक्ष्मण कुमार ने अपने पिता के आदेश का पालन किया। वह भागा, किन्तु, भयानक युद्ध में फंस गया वहां गहन अंधकार में यह पता ही नहीं चल रहा था कि था कि कौन मित्र है और कौन शत्रु, कौन किसको मार रहा है। लक्ष्मण कुमार मारा गया।




दुर्योधन को पता नहीं था कि लक्ष्‍मण की मृत्यु हो गई है। दुर्योधन लड़ता रहा जब अट्ठारह अक्षोहिणी सेना की लाशें रण में खेत हो गई तब युद्ध के मैदान के बीचो बीच रूधिर की ऐसी नदिया बह निकली जो कई-कई महानद से भी विकराल थी। रात्रि में दोनों दलों से युद्ध का नियंत्रण समाप्‍त हो गया था। दुर्योधन स्‍वयं को छिपाते हुए अपने कौरव शिविर में जाना चाहा, तो उसे उस रक्‍त की नदी को पार करने के सिवा कोई विकल्‍प नहीं दिखा। अंधेरे युद्धक्षेत्र में मृत्‍यु पर मृत्‍यु का शासन था, दुर्योधन जानता था कि उसे यहां से भागने के लिए इसे पार करना पड़ेगा। उस रूधिर की नदी में कई लाश, हाथी, घोड़, रथ सब तीव्र गति से बह रहे थे, उस पार जाने के लिए उस पार जाने के लिए किसी ऐसे वस्‍तु की आवश्‍यकता थी जो दुर्योधन का भार सह ले। वह हाथी, घोड़ों, रथों और तो और वीरों के लाशों को अपने गदा में खींचकर, अपने भार सहने लायक जांच चुका था। किन्‍तु उसका भार सह कर उसे इस रक्‍त नदी के उस पार ले जाने वाला कोई नहीं मिल रहा था। अंत में एक वीर के लाश को उसने अपने गदा से खींचा, गदा को उसके उपर रखकर उसके सहनशक्ति का परीक्षण किया। फिर पास खींचकर पहले अपना पांव रखकर देखा कि वह रक्‍त नद में डूबता तो नहीं है। लाश नहीं डूबा, दुर्योधन उस पर सवार हो गया। गदा को पतवार बना कर नदी पार करने लगा, उसके इष्‍ट-मित्र, सगे-संबंधी सब बह रहे हैं, इस काली रात में दुर्योधन लाश के छाती में बैठकर उस रक्‍त की नदी को पार कर रहा है। युद्ध के झंझावातों के साथ ही वह सोंच रहा है कि यह कौन ऐसा वीर है जो मेरे भार को सह लिया, मुझे इस भयानक युद्ध और रक्‍त नद से पार पहुचा दिया। 




रक्‍त नद को पार करने के बाद दुर्योधन उस लाश के मुख को देखता है, वह लक्ष्मण कुमार का मृत शरीर है। अपने पिता के जीवन और मृत्यु का प्रमेय युवा योद्धा ने मरकर हल कर दिया है। बताते हैं कि उस समय के हाहाकारी दृश्‍य का सरला महाभारत में बहुत करूण चित्रण हुआ है।
आगे कुछ और ...
-संजीव तिवारी

No comments:

Post a Comment

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

छत्तीसगढ़ी शब्द

छत्‍तीसगढ़ी उपन्‍यास

पंडवानी

पुस्तकें-पत्रिकायें

Labels

संजीव तिवारी की कलम घसीटी समसामयिक लेख अतिथि कलम जीवन परिचय छत्तीसगढ की सांस्कृतिक विरासत - मेरी नजरों में पुस्तकें-पत्रिकायें छत्तीसगढ़ी शब्द विनोद साव कहानी पंकज अवधिया आस्‍था परम्‍परा विश्‍वास अंध विश्‍वास गीत-गजल-कविता Naxal अश्विनी केशरवानी परदेशीराम वर्मा विवेकराज सिंह व्यंग कोदूराम दलित रामहृदय तिवारी कुबेर पंडवानी भारतीय सिनेमा के सौ वर्ष गजानन माधव मुक्तिबोध ग्रीन हण्‍ट छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म ओंकार दास रामेश्वर वैष्णव रायपुर साहित्य महोत्सव सरला शर्मा अनुवाद कनक तिवारी कैलाश वानखेड़े खुमान लाल साव गोपाल मिश्र घनश्याम सिंह गुप्त छत्‍तीसगढ़ का इतिहास छत्‍तीसगढ़ी उपन्‍यास पं. सुन्‍दर लाल शर्मा वेंकटेश शुक्ल श्रीलाल शुक्‍ल संतोष झांझी उपन्‍यास कंगला मांझी कचना धुरवा कपिलनाथ कश्यप किस्मत बाई देवार कैलाश बनवासी गम्मत गिरौदपुरी गुलशेर अहमद खॉं ‘शानी’ गोविन्‍द राम निर्मलकर घर द्वार चंदैनी गोंदा छत्‍तीसगढ़ी व्‍यंजन राय बहादुर डॉ. हीरालाल रेखादेवी जलक्षत्री लक्ष्मण प्रसाद दुबे लाला जगदलपुरी विद्याभूषण मिश्र वैरियर एल्विन श्यामलाल चतुर्वेदी श्रद्धा थवाईत