ब्लॉग छत्तीसगढ़

07 January, 2013

दहरा के भरोसा बाढ़ी खाना

इस छत्तीसगढ़ी मुहावरे का भावार्थ है संभावनाओं पर कार्य करना. आईये अब इस मुहावरे में प्रयुक्त छत्तीसगढ़ी शब्द 'दहरा' एवं 'बाढ़ी' का विश्लेषण करें.

पानी भरे हुए खाई को हिन्दी में 'दहर' कहा जाता है. यही दहर अपभ्रंश में 'दहरा' में बदल गया होगा. छत्तीसगढ़ी में गहरा जलकुण्ड या नदी के गहरे हिस्से को 'दहरा' कहा जाता है. दहरा से संबंधित एक और मुहावरा है 'दहरा के दहलना : डर या भय से कॉंपना'. इस मुहावरे में प्रयुक्त शब्दों का आशय बताते हुए शब्दशास्त्रियों का अभिमत है कि संस्कृत के अकर्मक क्रिया 'दर' जिसका आशय 'डर' है से 'दहरा' बना है. 'दहरा के दहलना' में प्रयुक्त भावार्थ के अनुसार 'दहरा' का आशय डर का प्रयोग छत्तीसगढ़ी में बहुत कम होता है. सामान्य सोंच के अनुसार देखें तो गहरा से दहरा बना होगा यह प्रतीत होता है.

'बाढी' शब्द हिन्दी के बढ़ से बना है. इसके नजदीकी शब्दों में 'बाढ़' का आशय बढ़ने की क्रिया या भाव, वृद्धि है. अधिक वर्षा आदि के कारण नदी का बढ़ा हुआ जल स्तर को भी हिन्दी एवं छत्तीसगढ़ी में 'बाढ़' कहा जाता है. मान, योग्यता, अधिकार, मात्रा, संख्या आदि में वृद्धि को 'बाढ़ना' कहा जातजा है. धान को नापते समय बाढ़े सरा इसी उद्देश्य से कहा जाता है.

मूल में वृद्धि का यह भाव छत्तीसगढ़ में ऋण के लिए भी प्रयुक्त होता है. पारंपरिक रूप से धान्य उत्पादन क्षेत्र होने के कारण यहां लेन देन में मुद्रा के स्थान पर धान का प्रयोग होते रहा है. लोग ऋण में धान लेते रहे हैं, ऋण की पद्धतियों में जैसे साधारण ब्याज व चक्रवृद्धि ब्याज दर की पद्धति प्रचलित है. उसी प्रकार से छत्तीसगढ़ में ऋण के रूप में अन्न लेने की वह पद्धति जिसमें दिए गए मात्रा को बढ़ाकर अन्न के रूप में ही लौटाया जाता है वह 'बाढ़ी' कहलाता है.


छत्तीसगढ़ी के कई लोकगीतों और लोककथाओं में 'दहरा के भरोसे बाढ़ी खाने' का जिक्र आता है. इतिहास बताता है कि कृषि प्रधान छत्तीसगढ़ में कई बार भीषण अकाल पड़े, अकाल की निरंतरता रही. ऐसी स्थिति में लोग खाने के लिए तो अनाज ऋण में लेते ही थे साथ ही खेत में बीज बोने के लिए भी अनाज ऋण में लेते थे. वस्तु के अभाव में उसकी कीमत में वृद्धि के सिद्धांत के अनुसार ऋण देने वाला उस अनाज की मात्रा का डेढ़ा, दुगना वापसी की शर्त पर लोगों को अनाज देता था. लोग इस भरोसे पर कि चलो इस साल अच्छे पैदावार होनें पर ऋण लौटा ही देंगें सोंचकर ऋण लेते थे. संभावना के इस भाव से ही यह मुहावरा बना है.

5 comments:

  1. बहुत ही सुन्दर ढंग से एक-एक करके शब्दों का अर्थ इस मंच पर रखा जाना बहुत ही सराहनीय कार्य है। बहुत बहुत साधुवाद/धन्यवाद/बधाई, संजीव भाई ....मुझे भी एक कहावत/लोकोक्ति याद आ गयी

    "राजा नल ल बिपत परिस त भूंजे मछरी दहरा म गिरिस" याने जब विपत्ति आई राजा नल पर तो ऐसी आई कि खाने को लाले पड़ गए थे। सरोवर/नदी के किनारे भूंजी हुई मछली भी गहरे पानी में जा गिरीं।

    ReplyDelete
  2. एक ठ दहरा- दू ठ कोतरी दे दय, फेर दहरा ल झन बताय.

    ReplyDelete
  3. दहरा ल झन पूछ.

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

loading...

Popular Posts