संजीव तिवारी की कलम घसीटी

28 September, 2010

साथियों मिलते हैं एक लम्‍बे ब्रेक के बाद : इस बीच संपर्क का साधन जीमेल होगा.

राम मंदिर मामले का फैसला 30 सितम्‍बर को आ रहा है, इस फैसले के बाद भारत में महाप्रलय आ जायेगा ऐसा टीवी वाले चीख चीख कर प्रचारित कर रहे हैं। हम कल गोरखपुर एक्‍सप्रेस से इलाहाबाद और वहां से गया जाने वाले थे जहां पांच अक्‍टूबर तक रूककर सनातन आस्‍था के अनुसार हमारे मॉं-पिताजी एवं पुरखों का श्राद्ध कर्म करना था किन्‍तु इन टीवी वालों नें हमारे बरसों के परिश्रम को पल भर में ध्‍वस्‍त कर दिया, वे गला फाड-फाड कर कह रहे हैं कि युगों के बाद आ रहा है यह दिन, फलां दिन ये हुआ फलां दिन वो हुआ और कल ये होगा ... टीवी देख-देख कर आज दोपहर से जनकपुरी और अजोध्‍या (स्‍वसुराल और मेरेगांव) से फोन पे फोन आ रहे हैं ... परिवार वालों की जिद है कि टिकट कैंसल करा कर कार्यक्रम रद्द कर दिया जाए और विवश होकर मुझे उनकी जिद माननी पड़ी है. ...


.... पूरे देश की उत्‍सुकता हो उस विवाद के फैसले में ..... मेरी तो कतई नहीं ... क्‍योंकि मुझे विश्‍वास है न्‍याय भाईयों के बीच बंटवारा भले करा दे वैमनुष्‍यता नहीं कराती ..... खैर यह तो सामयिक है ... और भी गम है जमाने में, मेरे ढेरों काम पेंडि़ग पड़े हैं. साथियों मिलते हैं एक लम्‍बे ब्रेक के बाद, हो सकता है मैं मोबाईल संपर्क में भी ना रहूं, इस बीच संपर्क का साधन जीमेल होगा.

क्षमा सहित.

संजीव तिवारी

15 comments:

  1. आपकी यात्रा मंगमय हो

    पढ़िए और मुस्कुराइए :-
    जब रोहन पंहुचा संता के घर ...

    ReplyDelete
  2. लम्बा ब्रेक!?

    कितना लम्बा?

    ReplyDelete
  3. जब जनकपुरी की गल मान कर यात्रा रद्द कर दिए तो फ़िर लम्बा बरेक किस लिए?

    ReplyDelete
  4. आपकी यात्रा मंगलमय हो , जब ही आईये आयोध्या मसले को लेकर अच्र्छी ख़बर जरुर लेकर आईये

    ReplyDelete
  5. अब जब टिकिट केंसिल करा ली तो ब्रेक कैसा...?? छुट्टी केंसिल! :)

    ReplyDelete
  6. Shubhkaamnayen hain. AApke karya safal hon.

    ReplyDelete
  7. आपकी यात्रा मंगलमयी हो.

    ReplyDelete
  8. ओह्ह लगता है आपने परिवार की टिकिट कैंसिल करवाई है और खुद जा रहे हैं। कही आप अयोध्या मसला हल करवाने तो नही न जा रहे :) यात्रा रद्द कर दी जाये। फ़ैसला ३० को भी नही आने वाला है जी।

    ReplyDelete
  9. परिजनों की चिंता स्वाभाविक है ! अच्छा किया जो प्रवास निरस्त किया ! आप ज़मानें के और भी ग़मों को निपटाइए हम जीमेल पर मिलते रहेंगे !

    ReplyDelete
  10. 6 मनुष्यों की यह तस्वीर बहुत मायने रखती है ।

    ReplyDelete
  11. आपने भले ही टिकट कैंसिल करा ली हो, पर मैं तो लुधिअना से ३० सितम्बर को चलकर जयपुर सकुशल पहुँच गया.........
    मार्ग में कहीं कोई व्यवधान नहीं आया......

    मन के हारे हार है,,,,,,,,,,,,
    लिखा कोई ताल नहीं सकता...
    हार घटना का समय पूर्व निश्चित है, बाकि अन्य तो माध्यम हैं......

    चन्द्र मोहन गुप्त

    ReplyDelete
  12. 30 sep. bina tanov ke gujar gaya. Sab ko achha laga

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

छत्तीसगढ़ी शब्द

छत्‍तीसगढ़ी उपन्‍यास

पंडवानी

पुस्तकें-पत्रिकायें

Labels

संजीव तिवारी की कलम घसीटी समसामयिक लेख अतिथि कलम जीवन परिचय छत्तीसगढ की सांस्कृतिक विरासत - मेरी नजरों में पुस्तकें-पत्रिकायें छत्तीसगढ़ी शब्द विनोद साव कहानी पंकज अवधिया आस्‍था परम्‍परा विश्‍वास अंध विश्‍वास गीत-गजल-कविता Naxal अश्विनी केशरवानी परदेशीराम वर्मा विवेकराज सिंह व्यंग कोदूराम दलित रामहृदय तिवारी कुबेर पंडवानी भारतीय सिनेमा के सौ वर्ष गजानन माधव मुक्तिबोध ग्रीन हण्‍ट छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म ओंकार दास रामेश्वर वैष्णव रायपुर साहित्य महोत्सव सरला शर्मा अनुवाद कनक तिवारी कैलाश वानखेड़े खुमान लाल साव गोपाल मिश्र घनश्याम सिंह गुप्त छत्‍तीसगढ़ का इतिहास छत्‍तीसगढ़ी उपन्‍यास पं. सुन्‍दर लाल शर्मा वेंकटेश शुक्ल श्रीलाल शुक्‍ल संतोष झांझी उपन्‍यास कंगला मांझी कचना धुरवा कपिलनाथ कश्यप किस्मत बाई देवार कैलाश बनवासी गम्मत गिरौदपुरी गुलशेर अहमद खॉं ‘शानी’ गोविन्‍द राम निर्मलकर घर द्वार चंदैनी गोंदा छत्‍तीसगढ़ी व्‍यंजन राय बहादुर डॉ. हीरालाल रेखादेवी जलक्षत्री लक्ष्मण प्रसाद दुबे लाला जगदलपुरी विद्याभूषण मिश्र वैरियर एल्विन श्यामलाल चतुर्वेदी श्रद्धा थवाईत