ब्लॉग छत्तीसगढ़

28 September, 2010

साथियों मिलते हैं एक लम्‍बे ब्रेक के बाद : इस बीच संपर्क का साधन जीमेल होगा.

राम मंदिर मामले का फैसला 30 सितम्‍बर को आ रहा है, इस फैसले के बाद भारत में महाप्रलय आ जायेगा ऐसा टीवी वाले चीख चीख कर प्रचारित कर रहे हैं। हम कल गोरखपुर एक्‍सप्रेस से इलाहाबाद और वहां से गया जाने वाले थे जहां पांच अक्‍टूबर तक रूककर सनातन आस्‍था के अनुसार हमारे मॉं-पिताजी एवं पुरखों का श्राद्ध कर्म करना था किन्‍तु इन टीवी वालों नें हमारे बरसों के परिश्रम को पल भर में ध्‍वस्‍त कर दिया, वे गला फाड-फाड कर कह रहे हैं कि युगों के बाद आ रहा है यह दिन, फलां दिन ये हुआ फलां दिन वो हुआ और कल ये होगा ... टीवी देख-देख कर आज दोपहर से जनकपुरी और अजोध्‍या (स्‍वसुराल और मेरेगांव) से फोन पे फोन आ रहे हैं ... परिवार वालों की जिद है कि टिकट कैंसल करा कर कार्यक्रम रद्द कर दिया जाए और विवश होकर मुझे उनकी जिद माननी पड़ी है. ...


.... पूरे देश की उत्‍सुकता हो उस विवाद के फैसले में ..... मेरी तो कतई नहीं ... क्‍योंकि मुझे विश्‍वास है न्‍याय भाईयों के बीच बंटवारा भले करा दे वैमनुष्‍यता नहीं कराती ..... खैर यह तो सामयिक है ... और भी गम है जमाने में, मेरे ढेरों काम पेंडि़ग पड़े हैं. साथियों मिलते हैं एक लम्‍बे ब्रेक के बाद, हो सकता है मैं मोबाईल संपर्क में भी ना रहूं, इस बीच संपर्क का साधन जीमेल होगा.

क्षमा सहित.

संजीव तिवारी

15 comments:

  1. आपकी यात्रा मंगमय हो

    पढ़िए और मुस्कुराइए :-
    जब रोहन पंहुचा संता के घर ...

    ReplyDelete
  2. लम्बा ब्रेक!?

    कितना लम्बा?

    ReplyDelete
  3. जब जनकपुरी की गल मान कर यात्रा रद्द कर दिए तो फ़िर लम्बा बरेक किस लिए?

    ReplyDelete
  4. आपकी यात्रा मंगलमय हो , जब ही आईये आयोध्या मसले को लेकर अच्र्छी ख़बर जरुर लेकर आईये

    ReplyDelete
  5. अब जब टिकिट केंसिल करा ली तो ब्रेक कैसा...?? छुट्टी केंसिल! :)

    ReplyDelete
  6. Shubhkaamnayen hain. AApke karya safal hon.

    ReplyDelete
  7. आपकी यात्रा मंगलमयी हो.

    ReplyDelete
  8. ओह्ह लगता है आपने परिवार की टिकिट कैंसिल करवाई है और खुद जा रहे हैं। कही आप अयोध्या मसला हल करवाने तो नही न जा रहे :) यात्रा रद्द कर दी जाये। फ़ैसला ३० को भी नही आने वाला है जी।

    ReplyDelete
  9. परिजनों की चिंता स्वाभाविक है ! अच्छा किया जो प्रवास निरस्त किया ! आप ज़मानें के और भी ग़मों को निपटाइए हम जीमेल पर मिलते रहेंगे !

    ReplyDelete
  10. 6 मनुष्यों की यह तस्वीर बहुत मायने रखती है ।

    ReplyDelete
  11. आपने भले ही टिकट कैंसिल करा ली हो, पर मैं तो लुधिअना से ३० सितम्बर को चलकर जयपुर सकुशल पहुँच गया.........
    मार्ग में कहीं कोई व्यवधान नहीं आया......

    मन के हारे हार है,,,,,,,,,,,,
    लिखा कोई ताल नहीं सकता...
    हार घटना का समय पूर्व निश्चित है, बाकि अन्य तो माध्यम हैं......

    चन्द्र मोहन गुप्त

    ReplyDelete
  12. 30 sep. bina tanov ke gujar gaya. Sab ko achha laga

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

Popular Posts

28 September, 2010

साथियों मिलते हैं एक लम्‍बे ब्रेक के बाद : इस बीच संपर्क का साधन जीमेल होगा.

राम मंदिर मामले का फैसला 30 सितम्‍बर को आ रहा है, इस फैसले के बाद भारत में महाप्रलय आ जायेगा ऐसा टीवी वाले चीख चीख कर प्रचारित कर रहे हैं। हम कल गोरखपुर एक्‍सप्रेस से इलाहाबाद और वहां से गया जाने वाले थे जहां पांच अक्‍टूबर तक रूककर सनातन आस्‍था के अनुसार हमारे मॉं-पिताजी एवं पुरखों का श्राद्ध कर्म करना था किन्‍तु इन टीवी वालों नें हमारे बरसों के परिश्रम को पल भर में ध्‍वस्‍त कर दिया, वे गला फाड-फाड कर कह रहे हैं कि युगों के बाद आ रहा है यह दिन, फलां दिन ये हुआ फलां दिन वो हुआ और कल ये होगा ... टीवी देख-देख कर आज दोपहर से जनकपुरी और अजोध्‍या (स्‍वसुराल और मेरेगांव) से फोन पे फोन आ रहे हैं ... परिवार वालों की जिद है कि टिकट कैंसल करा कर कार्यक्रम रद्द कर दिया जाए और विवश होकर मुझे उनकी जिद माननी पड़ी है. ...


.... पूरे देश की उत्‍सुकता हो उस विवाद के फैसले में ..... मेरी तो कतई नहीं ... क्‍योंकि मुझे विश्‍वास है न्‍याय भाईयों के बीच बंटवारा भले करा दे वैमनुष्‍यता नहीं कराती ..... खैर यह तो सामयिक है ... और भी गम है जमाने में, मेरे ढेरों काम पेंडि़ग पड़े हैं. साथियों मिलते हैं एक लम्‍बे ब्रेक के बाद, हो सकता है मैं मोबाईल संपर्क में भी ना रहूं, इस बीच संपर्क का साधन जीमेल होगा.

क्षमा सहित.

संजीव तिवारी
Disqus Comments