ब्लॉग छत्तीसगढ़

10 April, 2010

गूगल की प्रतियोगिता 'है बातों में दम' का पुरूस्‍कार हमें प्राप्‍त हुआ

कल हमें एक मेल प्राप्‍त हुआ जिससे ज्ञात हुआ कि, विगत दिनों गूगल द्वारा आयोजित प्रतियोगिता 'है बातों में दम' में सहभागिता के लिए हमें रू. 3000/- का पुरूस्‍कार प्राप्‍त हुआ है.

Dear Hai Baaton Mein Dum? Contest Winner,
We apologize for the delay in the delivery of your prize.
We have been working hard over the last month to procure the internet connections that we had planned to give away as prizes. However, due to irresolvable issues with the Internet Service Provider that we had identified, we have substituted the internet connection with a bigger and better prize: a gift voucher worth 3000 Rs from Flipkart (www.flipkart.com), one of India’s premier online bookstores!
Once again, congratulations on the superb quality of your submission that earned you a prize!
Best regards,
Hai Baaton Mein Dum? Contest Team
आशा है यह पुरस्‍कार हमारे अन्‍य प्रतिभागी मित्रों को भी प्राप्‍त हुआ होगा. यह पुरस्‍कार ई-गिफ्ट वाउचर के रूप में है जो एक वर्ष के लिए प्रभावशील है. इस ई-गिफ्ट वाउचर से हम 3000/- रूपये की पुस्‍तकें lipkart.com से खरीद सकते हैं. हमने कल ही कुछ जरूरी पुस्‍तकें यहां से क्रय भी कर ली जो चार-पांच दिनों में हमें प्राप्‍त हो जावेगी. गूगल बाबा को एवं 'है बातों में दम' टीम को धन्‍यवाद. 

संजीव तिवारी

33 comments:

  1. बधाई हो ............"

    ReplyDelete
  2. वाह जी वाह
    बधाई

    शाम को कहाँ मिलना है, मोबाईल पर बता दीजिएगा :-)

    ReplyDelete
  3. बधाई जी बधाई !!

    ReplyDelete
  4. बहुत बहुत बधाई संजीव जी!

    ReplyDelete
  5. सोचा आपसे उधार मांग कर मैं भी पढ़ लूंगा पर पाबला जी नें पहले ही टाइम फिक्स कर डाला अब अगर उनका इरादा किताबों के अलावा कुछ और है तो फिर बधाई हो जी :)

    ReplyDelete
  6. हा हा

    अली भाई, इरादा तो कुछ और ही है :-)
    देखते हैं तिवारी जी काबू में आते हैं या नहीं :-D

    किताबें तो फिर कभी पढ़ लेंगे

    ReplyDelete
  7. अत्यन्त प्रसन्नता का विषय है।
    हमारी शुभकामनाये स्वीकार हो।

    ReplyDelete
  8. संजीव जी,
    हार्दिक बधाई ।

    ReplyDelete
  9. बधाई हो ! मुझे एक टी शर्ट भेजी थी आयोजकों ने फाइनल में जगह बनाने के लिए :)

    ReplyDelete
  10. बधाई हो ! मुझे एक टी शर्ट भेजी थी आयोजकों ने फाइनल में जगह बनाने के लिए ........

    ReplyDelete
  11. बहुत बधाई...वाकई में है बातों में दम. :)

    ReplyDelete
  12. बधाई हो जी बधाई हो...।

    ReplyDelete
  13. बज के बाद यहाँ फिर से बधाई

    ReplyDelete
  14. फिर तो तय हुआ पाबला जी पहले तिवारी जी को काबू में करें तब तक हम किताबें निपटा लें...आखिर को हालात काबू में आते ही हमें भी वहीँ आना है :)

    ReplyDelete
  15. अरे वाह! बहुत सुखद बात सुनाई बन्धु!

    ReplyDelete
  16. पाबला जी आप हमें फोन करिए हम काबू में आने की तकनीक भी बताते हैं.
    अली भईया आपका स्‍वागत है, हम आपसे मिलने को बेकाबू हैं. :)

    ReplyDelete
  17. दम है ही
    बधाई हो

    ReplyDelete
  18. बहुत-बहुत बधाई....मुझे भी गूगल वालों ने बतौर इनाम एक टीशर्ट भेजी है लेकिन कमबख्त का साईज ज़रा छोटा है :-)

    ReplyDelete
  19. तिवारी जी
    छुट्टी के लिए मद्देड वाले गुरु जी से प्रार्थना की है ...अभी आया :)

    ReplyDelete
  20. तिवारी जी
    धत्त तेरे की मै तो उस मेल को फ़रज़ी जान के स्पैम के हवाले कर दिया था
    मेरा तीन का नुकसान
    आप को हार्दिक बधाईया तिवारी जी

    ReplyDelete
  21. badhai ho jee badhai ho, kitabo aur inam ki rakam me se mera hissa dene kab aa rahe hain aap

    ;)

    ReplyDelete
  22. पाय लागी महाराज,
    हमुं ला मिले हवय अईसने चिट्ठी
    तिन ह्जार के पुस्तक लेय बर कहि्थे
    तिही बता ना मैहां बरदिहा,
    कहां पुस्तक ला पढहुं,
    गैया ला खोजे ला जाथवं त पंडरु हां भाग जथे,
    पंडरु ला धरथंव तभे गैया हां काबु मा आथे।
    इन्हा उल्टा नियम होगे है,
    ओती कहिथे के चोर ला झन धर चोर के मौसी ला धर, अब तीही निरनय करके बता
    कोन ला धरे जाए।

    पाय लागी।

    ReplyDelete
  23. इस पुरस्कार के लिए आपको करोड़ों बार बधाइयाँ

    ReplyDelete
  24. aapko badhayi ... ham aapse chhateesgarh men hue lomharshak kand par kuchh aalekh ki ummed kar rahen hain ..

    ReplyDelete
  25. बहुत-बहुत बधाई भैय्या जी ....

    ReplyDelete
  26. संजीव जी, बहुत-बहुत बधाई

    ReplyDelete
  27. बधाई हो हमें भी मिला है या पुरस्कार विद टी शर्ट:)

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

loading...

Popular Posts