ब्लॉग छत्तीसगढ़

24 March, 2010

कैसे बने हमारी भाषाई पहचान

आज नेट पर आपका ब्लॉग देखा. जनभाषा छत्‍तीसगढी में ब्लॉग शुरू करने के लिए बधाई!

हमलोग यहाँ झारखण्ड में झारखंडी भाषाओँ के संरक्षण और उनके विकास के लिए पिछले ६ वर्षों से काम कर रहें हैं. इनमें आदिवासियों और गैरआदिवासियों दोनों की भाषायें शामिल हैं. हालाँकि झारखण्ड आन्दोलन के कारन १९८२ से ही यहाँ ९ झारखंडी भाषाओं की पढाई एम ए लेवल पर हो रही है परन्तु अभी भी इन्हें प्राथमिक स्टार पर नहीं पढाया जा रहा है.

जो लोग यह कहते हैं की जन या आदिवासी भाषाओं के प्रोत्साहन से हिंदी अथवा संस्कृत जैसी दूसरी भाषाओं को नुक्सान होगा वे इस बात को नहीं समझ पा रहें हैं की इन भाषाओं को अवसर दिए बिना राष्ट्रभाषा को समर्थ नहीं बनाया जा सकता है. आज अगर अंग्रेजी राज कर रही है तो उसके मूल में मातृभाषाओं की अनदेखी ही है.

झारखंडी भाषाओं के सवाल पर हमने देश भर में फैले अपने लेखकों, कलाकारों, बुद्धिजीवियों को झारखंडी भाषा साहित्य संस्कृति अखडा नमक संगठन के बैनर टेल एकजूट किया है. देखें: अखडा  नागपुरी-सादरी भाषा में एक मासिक पत्रिका जोहार सहिया निकालते हैं जो की बहुत कुछ छत्‍तीसगढी भाषा से मिलतीजुलती है. इसे आप यहाँ देख सकते हैं: जोहार सहिया  हमारा एक पाक्षिक अखबार भी है. जिसमे झारखंड की और हिंदी मिलाकर १२ भाषाओं में लेख और समाचार रहतें हैं. जोहार दिसुम संसाधन नहीं होने तथा अत्यंत छोटी टीम होने के कारन हम इसे समय पर अपडेट नहीं कर पाते हैं परन्तु प्रिंट में सभी नियमित हैं. हमारा यह पूरा पर्यास नितांत सामूहिक है और कहीं से भी फंडेड नहीं है.

आप सभी छत्‍तीसगढी बन्धु अपने भाषाई पहचान बनाएं रख सकें येही शुभकामना है.

आपका ही संगी

अश्विनी कुमार पंकज
स्‍थानीय भाषा और बोली में ब्‍लाग संचालन को प्रोत्‍साहन देने के लिए समय समय पर पाठकों की टिप्‍पणियां और मेल प्राप्‍त होते रहते हैं. हमारे छत्‍तीसढ़ के एवं हिन्‍दी ब्‍लाग जगत के पूर्णसक्रिय  प्रख्‍यात मूंछों वाले ब्‍लागर ललित शर्मा जी नें हमें पिछले दिनों बतलाया था कि इस प्रकार के मेल उन्‍हें भी प्राप्‍त होते रहे हैं और उन्‍होंनें भी अपना 'अडहा के गोठ' को इसी उद्देश्‍य से नियमित रखा है. ललित भाई भाषाई दूरी को समाप्‍त करने के हित से अपने पोस्‍टों में कठिन छत्‍तीसगढ़ी शव्‍दों का हिन्‍दी अर्थ भी देते रहे है. हम अपने गुरतुर गोठ में नव प्रयोगों को आत्‍मसाध तो नहीं कर पा रहे हैं किन्‍तु प्रदेश के इंटरनेट के जानकार छत्‍तीसगढ के साहित्‍यकारों के मूल प्रोत्‍साहन के कारण न्‍यून टिप्‍पणियों और न्‍यून पेजव्‍यू के बावजूद हम छत्‍तीसगढ़ी भाषा के गुरतुर गोठ को नियमित रख पा रहे हैं. ऐसे ही एक पाठक अश्विनी कुमार पंकज जी का मेल पिछले दिनों हमें प्राप्‍त हुआ था. जिसे हम यहां बाक्‍स में प्रस्‍तुत कर रहे हैं ताकि हमारे मन में अपनी भाषा-बोली के प्रति स्‍नेह बरकरार रहे और पाठकों से भी इन भावनाओं को हम बांट सकें.

मेरे प्रेरक -

हिन्‍दी से मिलते - जुलते स्‍थानीय बोली-भाषा के अन्‍य ब्‍लागों को देखकर-पढ़कर हमें खुशी होती रही है जिनमें से अब भोजपुरी में भी ब्लॉग बबुआ प्रभाकर पाण्डेय देवरिया से लेकर कुशीनगर की कथाओं का जिक्र भोजपुर नगरिया , मिथिला मिहिर , कतेक रास बातक , विदेह , आदि हैं.

नारद के दिनों में जब छत्‍तीसगढी ब्‍लाग का ब्‍लागजगत में पदार्पण हुआ था तब रवि रतलामी जी नें  चिट्ठाकार गूगल ग्रुप में कहा था - नारद के लिए छत्तीसगढ़ी भाषा (हिन्दी की उपभाषा, जो हिन्दी पढ़ने समझने वालों के लिए मुशकिल नहीं होगी, बल्कि भोजपुरी की तरह मजेदार ही लगेगी - सुग्घर (सुंदर) के चिट्ठे -
1. http://mahanadii.blogspot.com/
2. http://chhattisgarhi.blogspot.com/
आज ये दोनों चिट्ठे सक्रिय नहीं हैं मगर ज्‍योति इन्‍हीं नें जलाई है. और हमें गर्व है कि हमने ब्‍लागजगत में अपनी  भाषाई पहचान बनाई है. गुरतुर गोठ जैसे कई ब्‍लाग अब निरंतर रहेंगें .....

नवराती के जगमग ज्‍योति के त्‍यौहार में राम नवमी की हार्दिक शुभकामनांए . . .

संजीव तिवारी

8 comments:

  1. संजीव भाई,
    कोई भी भाषा हो वह हृदय से ग्राह्य होती है,
    अपने आप ही बोल मुंह फ़ुट पड़ते हैं,
    यह सब नैसर्गिक हो्ता है। भाषा बोली कहीं ना कहीं
    जीवित रहती है भले ही व्यवहार मे ना हो।

    बहुत दिनों से 36 ब्लाग पर कुछ नही लिख पाया,
    जल्दी ही आपको एक ब्रांड न्यु कहानी लिख कर भेजता हुँ।

    ReplyDelete
  2. बहुत बहुत बधाई हो संजू रामनवमी की और छत्तीसगढी भाषा के प्रचार-प्रसार के लिये किये जा रहे प्रयासों की।

    ReplyDelete
  3. यही तो अंतहीन संभावनाएं इस माध्यम की. बहुत अच्छा लगता है यह जानकर कि आज कोई भी किसी भी भाषा में लिख कर अपनी बात कहीं भी पल भार में पहुंचा सकता है. आज लेखन काग़ज का मोहताज़ नहीं रह गया है.

    मेरा तो मानना है कि किसी भी भाषा के प्रचार-प्रसार में जितना संभावनाएं आज हैं, एसी पहले कभी नहीं रहीं.

    ReplyDelete
  4. भाषा के प्रति आपके समर्पण को नमन!

    ReplyDelete
  5. Mahula beech beech me aisan email milat rathe .. aaj hi mola ye scrap mile he ..

    sabbo la batabo
    au sab la samjhabo
    apan goth ke mahima haman sabbo
    la samjhabo,
    jab hohi ekar man
    tav hamuman maan pabo,
    apan man ke baat la
    apan gothe ma batabo,
    angreji hindi amuman jani par apan goth ke mahima la nai bhulabo,
    tabhe ijjat pabo,
    sabke dil me jagah banabo,
    chhattisgarh ke pahchan banabo,
    chhattisgarhi ma gothiyabo,
    chhattisgarhi ma gothiyabo,,,,,,,,,,,,,,,

    ReplyDelete
  6. आप बहुत महत्वपूर्ण काम कर रहे हैं संजीव भाई !
    सचमुच !

    ReplyDelete
  7. hamar chattisghar
    hamar lihaiya
    hamar pahachan
    hamar sunyia

    ReplyDelete
  8. छत्तीसगढी भाषा के प्रचार-प्रसार के लिये आप बहुत महत्वपूर्ण काम कर रहे हैं संजीव भाई !

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

Popular Posts