ब्लॉग छत्तीसगढ़

03 June, 2009

भीषण प्रदूषण और बट सावित्री

 तपते सूरज के बावजूद उस दिन घर का वातावरण कूल-कूल था, ना ही मेरा बालक धमाचौकडी कर रहा था ना ही श्रीमतिजी उसे शांत रहने को फटकार लगा रही थी। मैंनें घर के सभी कमरों को बडी बारीकी से झांका-ताका, कुछ सूंघने का भी प्रयास किया, कूलर के खस को भी निहारा पर कुछ समझ में नहीं आया। मुझे लगा आज वातावरण में ही तपिश कुछ कम होगी,  पर बरांडे में रंगोली और आटे से ताजा बने शुभ चिन्‍ह और वहां गमले में लगे बरगद के छोटे पेंड को विराजमान हुए देखकर माजरा समझ आ गया।  यह कूल माहौल वट सावित्री व्रत (जिसे छत्‍तीसगढ में 'बरसइत' कहा जाता है ) का था। 

हमें याद है गांवों में बरसइत के दिन बडे बरगद के पेड पर सुबह से ही महिलाओं की भीड जमती थी और चढावे में चढाये गये प्रसादों को पाने के लिये बच्‍चों की भीड भी बरगद के आस-पास मंडराती थी। गर्मियों की छुट्टियों में हमें इस त्‍यौहार का बेसब्री से इंतजार रहता था क्‍योंकि गर्मियों में हमारे गांव में हमारे बहुतेरे रिश्‍तेदार आये रहते थे, जिनमें से महिलायें उस दिन सामूहिक रूप से बट वृक्ष को पानी देकर उसकी पूजा अर्चना करतीं थीं और यमराज से भी अपने पति को छीन लाने वाली सावित्री के कथा का पाठ किया जाता था। हम सब बडे धैर्य से बरगद में 108 चक्‍कर रस्‍सी लपेटते हुए देखते थे और उस कथा का अर्थ समझने का प्रयास करते थे।
शहरों में प्रकृति से नजदीकियों का एहसास कराते इन भारतीय व्रत-त्‍यौहारों का अर्थ अब खोने लगा है। परम्‍पराओं को जीवित रखने के लिये  गर्मियों में सैकडों पालतू जानवरों और राहगीरों को ठंडी छांव देनें वाले भारी भरकम बरगद के पेंड को बोनसाई बनाकर गमले में समेट कर परिपाटी का निर्वहन किया जा रहा है।  हम अब जान गये हैं कि पति की लम्‍बी उमर के लिये किये जाने वाले इस व्रत में पर्यावरण की सुरक्षा भी अंतरनिहित है, क्‍योंकि प्रकृति से ही मानव मात्र का जीवन है।  किन्‍तु भीषण प्रदूषण से निबटते हुए आगामी पीढी के अनबूझ प्रश्‍नों का उत्‍तर देनें एवं इस व्रत की  उपादेयता से परिचित कराने का यह भी एक तरीका ही है।  

संजीव तिवारी

3 comments:

  1. बि्लकुल सही कहा आपने हमारे व्रत् त्यौहार रितुओं को और जीवन को जीने के लिये मनुश्य को किस तरह का आचार विहार करना चाहिये इसे सम्मुख रख कर ही बनाये गये हैं मगर आज हम इन्हें उस भावना से ना मना कर केवल एक परंपरा के लिये मनाते हैं बडिया पोस्ट है आभार्

    ReplyDelete
  2. पर्यावरण की सुरक्षा भले निहीत हो पर आज कोई व्रती इस की परवाह करता है?

    ReplyDelete
  3. ज्यादातर पुराने व्रत-विधान के पीछे कुछ न कुछ अपना (मानव जाति का) भला मिल जाएगा। लेकिन, सवाल वही दिनेशजी वाला कि क्या कोई व्रती इसकी परवाह करता है। क्या कोई व्रती खुद भी पेड़ लगाता है कि उसके आगे ये व्रत चलता रहे।

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

Popular Posts