ब्लॉग छत्तीसगढ़

15 October, 2008

कविता : छ.ग.के पुलिस प्रमुख के नाम एक खत

विश्‍वरंजन !
नहीं जानना चाहते हम
कि तुम कवि हो,
नहीं आत्‍मसाध होते
भारी भरकम संवेदनाओं के गीत
साहित्‍य में आपकी उंचाई कितनी है
यह भी हम नहीं जानना चाहते
जानना चाहते हैं तो बस
एक सिपाही के रूप में आपकी उंचाई कितनी है


नहीं जानना चाहते हम
कि तुमने कितनी संवेदना बटोरी है
हमारे लिए, अपनी कविताओं में
हम जानना चाहते हैं कि तुमने
कितनी संवेदना बिखेरी है बस्‍तर में


नहीं जानना चाहते हम कि तुम्‍हारी
दर्जनों किताबें छप चुकी हैं, कविताओं की
हम जानना चाहते हैं कि तुमने कितने
सिपाहियों के दिलों पर
परित्राणाय साधुनाम् का ध्‍येय वाक्‍य
अंकित कराया है


हम नहीं जानना चाहते कि तुम
किस कुल या वंशज से हो
हम जानना चाहते हैं कि तुम
मानवता के परिवार में संविधान के सच्‍चे पालक हो


हम नहीं जानना चाहते कि तुम्‍हारे
गीत कितनों नें गाया है
हम नहीं जानना चाहते कि आप समकालीन
या पूर्वकालीन कविता के बडे हस्‍ताक्षर हो
हम जानना चाहते हैं कि तुमने
ऐसी कोई कविता लिखी है जिसे बस्‍तर के जनमन नें गाया है


हम यह भी नहीं जानना चाहते
कि तुम्‍हारा बोरिया बिस्‍तर पल भर में
यहां से जाने के लिए बंध जायेगा
हम जानना चाहते हैं कि यदि ऐसा हुआ भी
तो क्‍या तुम तब भी वैसा ही हमारे लिए सोंचोगे
जो बरसों पहले बस्‍तर में एसपी होते हुए सोंचा था


मेरे मित्र, मेरे हितैषी
हम सदैव तुम्‍हारे छत्र में पनाह चाहेंगें
और तुम्‍हें संविधान के सच्‍चे रक्षक
गांधी के पक्‍के अनुयायी
आदिवासियों की रक्षा में आक्रामक
अविचल सिपाही के रूप में
तने खडे, देखना चाहेंगें
विश्‍वरंजन !
हम तुम्‍हें एक कवि के रूप में नहीं
एक सिपाही के रूप में ही अपनाना चाहेंगें


(आदरणीय श्री विश्‍वरंजन जी, शव्‍दों में संबोधन की गरिमा में हुई भावनागत त्रुटी पर क्षमा करेंगें, यह नितांत रूप से मेरे दिल की बात है हो सकता है लोग इससे सहमत न हों)


संजीव तिवारी

10 comments:

  1. मै तो आपकी भावना से सहमत हुँ !! एक अच्छी बात यह भी हो रही है कि अब ब्लाग मे सबके अपने आंखो का सत्य मुखर हो रहा है जो प्रकारांतर मे शायद परम सत्य की निष्पत्ती का कारण बने !!

    अब वक्त आ गया कि तुफ़ाँ से जुझो
    कब तक चलोगे किनारे-किनारे ॥

    ऐसे ही जमे रहे संजीव जी और ब्लाग के अस्तित्व और अर्थ को समयसिद्ध करें॥ धन्यवाद

    ReplyDelete
  2. sanjeev ji main v aapke is bat se sahmat hun, bahot hi sundar likha hai aapne ..... aapko dhero badhai ese lekhan ke liye , aapka v sujhaw mere liye margdarshan se kam na hoga.. aapka swagat hai blog me....

    regards

    ReplyDelete
  3. संजीव जी,
    साधूवाद। पता नहीं कितने दिलों की आवाज को आपने मूर्त रूप दिया।

    ReplyDelete
  4. बहुत ही खूब...बस यही एक अपेक्षा होती है आम जनता को पुलिस से!आपने बखूबी सबकी बात कविता के माध्यम से प्रस्तुत की है!

    ReplyDelete
  5. सीधी, सपाट, खरी बात एक "छत्तीसगढ़िया" की. पहले काम फ़िर दूसरे करतब. विशेषकर उनके लिए जो सार्वजनिक सेवा में एक अलग पहचान [ वर्दी ] के साथ हैं. उंगली हमारी ओर भी उठ सकती है..क्या भइया. हा हा !

    ReplyDelete
  6. Kiseene to aisa socha warna police ko to hamesha latad miltee hai!
    Kya mai blogpe apne anubhav apnee warshonki vividh vishayonpe milee jankaaree pesh kar saktee hun?Agar aap ijazat den to mujhe badee khushee hoge..
    Qanoonke kayi pehlu jinse aam janta anjaan hai, aap samne laa sakte hain...data/ya maloomat mai de saktee hun..
    blog bohot achha laga.
    Aapkee tippaneeke liye dhanyawad.Kripaya sampark banaye rakhiyega!

    ReplyDelete
  7. मुझे पता नही कि आपने आमजन की भावनाओं को कैसे पढ़ लिया पर पढ़ा सटीक है, कहीं कहीं तो यह मेरे अपने दिल की आवाज लग रही है।
    डीजीपी साहिब की बौद्धिकता या कवि होने पर हमें कोई शक़ नही पर जितना वे एक कवि या बौद्धिक व्यक्ति के रूप में प्रचारित किए जा रहे हैं साहित्य जगत में, बतौर डीजीपी उनके कार्यों का प्रचार क्यों नही दिखता?

    ReplyDelete
  8. फूलों ने साथ निभाया हो ,ऐसी ज़माने की रस्म कहाँ
    उलझेंगे,दामन भी थामेंगे,जियेंगे, काँटों में वो बात है

    ReplyDelete
  9. kavitaa dil se nikali hai. badhai....

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

loading...

Popular Posts