ब्लॉग छत्तीसगढ़

27 July, 2008

छत्तीसगढ़ी संस्कृति, साहित्य एवं लोककला की आरूग पत्रिका अगासदिया - 30 : ब्‍लाग संस्‍करण

छत्तीसगढ़ी संस्कृति, साहित्य एवं लोककला की आरूग पत्रिका

वर्ष - 1, अंक -2, अप्रैल - जून - 2008

अगासदिया- अव्यवसायिक, त्रैमासिक

अंधकार से लड़कर में जो भी जहां जिया,

उसके लिए सदैव प्रकाशित रहा अगासदिया

छत्तीसगढ़ राजनीति के चाणक्य श्रद्धेय दाऊ वासुदेव चन्द्राकर के व्यक्तित्व पर केन्द्रित

मुद्रक : यूनिक, पंचमुखी हनुमान मंदिर के पीछे, मठपारा, दुर्ग (छ.ग.) ०७८८-२३२८६०५


वेब प्रकाशन : संजीव तिवारी


अनुक्रमणिका


1. सात संस्मरण

2. भूपेश की जीत का रहस्य : डॉ. परदेशीराम वर्मा
3. जीवन वृत्त - वासुदेव चंद्राकर
4. नेलशन कलागृह और सियान संरक्षक दाऊ वासुदेव चंद्राकर
5. मूर्तिकार जे.एम. नेल्सन के गांधी और मेरी मुसीबत
6. प्रथम डॉ. खूबचन्द बघेल अगासदिया सम्मान से विभूषित
7. दाऊ वासुदेव चन्द्राकर, अमृत सम्मान परिशिष्ट

8. कल के लिये : रवि श्रीवास्तव
9. काँग्रेस के नैष्ठिक सिपाही श्री वासुदेव चन्द्राकर : राजेन्द्र प्रसाद शुक्ल
10. दाऊजी जैसे छत्तीसगढ़ महतारी के सपूत सदा अभिनंदित होंगे : पवन दीवान
11. वासुदेव चंद्राकर - भूपेश बघेल : साक्षात्कारकर्त्ता- महेश वर्मा
12. सतत् सक्रियता ने दाऊ जी को महत्वपूर्ण बनाया - ताराचंद साहू
13. भाषा की जीत सुनिश्चित है छत्तीसगढ़ी से बना छत्तीसगढ़ राज्य : पवन दीवान
14. दुर्लभ छत्तीसगढ़िया किसान नेता हमारे दौर के चाणक्य : वासुदेव चन्द्राकर
15. सागर रुप वासुदेव चन्द्राकर : जमुना प्रसाद कसार
16. धरती पुत्रों के पक्षधर - वासुदेव चन्द्राकर : हेमचन्द यादव
17. छत्तीसगढ़ राजनीति के चाणक्य श्रद्धेय दाऊ वासुदेव चन्द्राकर के व्यक्तित्व पर
18. अंचल के चर्चित हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ. एम.पी. चन्द्राकर से बातचीत

19. साक्षी समय के : वासुदेव चन्द्राकर - भास्कर में प्रकाशित पूर्व साक्षात्कार
20. वासुदेव जी की प्रशासनिक क्षमता : हरिशंकर उजाला
21. होई हैं सोई जो राम रचि राखा दाऊ वासुदेव चन्द्राकर जी की जीवनी : रामप्यारा पारकर
22. अगासदिया के हरि ठाकुर अंक हेतु दाऊ वासुदेव चंद्राकर का साक्षात्कार
23. दाऊ वासुदेव चंद्राकर के यशस्वी शिष्य श्री भूपेश बघेल
24. छत्तीसगढ़ का बदलता तेवर और नारायण चंद्राकर की यह कृति
25. सूरता - करमयोगी संत चन्दूलाल चंद्राकर जी : नारायण चंद्राकर
26. परदेशीराम वर्मा द्वारा लिखा गया चंदूलाल चंद्राकर का अंतिम साक्षात्कार
27. भुइंया की महिमा के मुग्ध गायक - नारायण प्रसाद चंद्राकर

०००

4 comments:

  1. भैया बहुत मेहनती मनई हो! इत्ती ऊर्जा कहां से लाते हो?
    इसका १०-२० परसेण्ट भी हममें आ जाये तो निहाल हो जायें!

    ReplyDelete
  2. अभी पढना शुरु किया है ,आपके अगासदिया का मुझे बेसब्री से इंतजार रहता है इस श्रमसाध्य प्रयास के लिये सादर आभार तथा छ्त्तीसगढ के यशस्वी लेखक डां.परदेशी राम वर्मा को कोटीशः बधाई

    ReplyDelete
  3. "congratulations for great efforts and commendable work"
    Regards

    ReplyDelete
  4. Hi
    I am S.Madhava From Katihar Bihar I blog related to computer I was watching my site traffic and found you in that I visited u and felt realy this is a nice blog dedicated to the mother tongue.
    URL:http://shivendumadhava.blogspot.com/

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

Popular Posts