ब्लॉग छत्तीसगढ़

19 July, 2007

स्कूलो मे योग शिक्षा

छत्तीसगढ के शिक्षा विभाग ने बाबा रामदेव के सुझाओ को मानते हुए 2005 के शिक्षा सत्र से योग शिक्षा को स्कूलो मे सम्मिलित किया था, इसके आदेश के साथ ही राज्य शैक्षणिक अनुसन्धान परिषद ने 1 से 12 तक के छात्रो के लिये योगासनो की सूची जारी की थी और पूरे प्रदेश मे मास्टर ट्रेनर तैयार किये गये थे . ये मास्टर ट्रेनर प्रत्येक स्कूल के एक शिक्षक को योग पाठ्यक्रम की शिक्षा भी दिये थे तकि शिक्षक बच्चो को योग सिखा सके .

इस पाठ्यक्रम को जीवन विज्ञान का नाम दिया गया जिसमे प्रार्थना सभा व कालखण्डो मे जीवन विज्ञान व योग की गतिविधियो को सिखाने का निर्देश था . पर दुर्ग जिले को छोडकर छत्तीसगढ के किसी भी जिले के स्कूलो मे यह पाठ्यक्रम शासन के निर्देशो के बावजूद लागू नही किया जा सका .
दुर्ग जिले मे यह पाठ्यक्रम सही ढंग से चल रहा है इसके लिये जिले के 11 शिक्षक राजस्थान के लाडलू मे 20 दिन की विशेष प्रशिक्षण लेकर आये है . जिले मे पाठ्यक्रम के सही संचालन के लिये पोरवाल चेरिटबल ट्रस्ट व जीवन विज्ञान अकादमी दुर्ग के स्वयंसेवक सहयोग कर रहे है और जिले के स्कूलो मे अनुलोम विलोम व कपाल भांति धीरे धीरे छाने लगा है .

पूरे राज्य के एक जिले ने इसके लिये प्रयास किया पर इस सद प्रयास को राजनीति का ग्रहण लगने वाला है . जिले के कतिपय नेताओ द्वारा इसे स्कूली बच्चो को धर्म विशेष से जोडने का प्रयास है कह कर सरकार पर आरोप लगाये जा रहे है . चिंता और प्रबल हो जाती है जब जिले के ख्यात शिक्षाविद प्रो. एस सी मेहता कहते है कि एसा करके हम कैसा समाज देने जा रहे है, संविधान ने हमे धर्म निरपेक्षता का पाठ पढाने का निर्देश दिया है स्कूलो मे धर्मगुरुओ व धार्मिक मान्यताओ का प्रवेश निषेध होना चहिये !

क्या सोचते है आप बाल मन मे अनुलोम विलोम व कपाल भांति से धार्मिक मान्यताओ का प्रभाव पडेगा !

8 comments:

  1. यौन शिक्षा के समर्थक योगशिक्षा का विरोध तो करेंगे ही. लोगों को सोचना है कि उन्हें क्या चाहिए.

    ReplyDelete
  2. सबसे पहले तो हमें जरुरत इस बात कि है तथाकथित बुद्धिजीवी वर्ग अपना चश्मा बदले जिन्हें हर बात में धर्म और सांप्रदायिकता नज़र आती है!!

    संजीव जी, दुर्ग जिले के जो अधिकांश लोग इसका विरोध कर रहे हैं उनके तार कहां जुड़े हैं पता करवा लिजिए बस!! इशारा ही काफ़ी है!!

    ReplyDelete
  3. देर आये दुरुस्त आये। यह अच्छा कदम है। पर एक बात कहना चाहूँगा। य़ोग सही मार्गदर्शन मे ही सीखा जाना चाहिये। गलत योग नुक्सानदायक भी हो सकता है। मै चौथी मे सरस्वती स्कूल मे पढ्ता था जहाँ योग सीखाया जाता था पर कभी भोजन के बाद तो कभी खाली पेट। बीमार को भी योग कराया जाता था। यह ठीक नही है। निगरानी जरुरी है।

    ReplyDelete
  4. योग शिक्षा को किसी धर्म के साथ नही जोड़ा जाना चाहिए। यौन शिक्षा की जगह अगर योगशिक्षा दी जाए तो बेहतर होगा।

    ReplyDelete
  5. अगर मार्गदर्शक योग्य हैं तब तो यह बहुत ही सार्थक पहल है. इसे जरुर लागू होना चाहिये.

    मुद्दा उठाने के लिये साधुवाद. मिडिया को भी इस दिशा में जागरुक पहल करना होगी.

    ReplyDelete
  6. योग शिक्षा अत्यंत आवश्यक है मेरे ख्याल से हर स्कूल में योग शिक्षा का होना अनिवार्य होना चाहिये…ताकि आगे आने वाले समय में सभी निरोग और बलवान हो…योग क्रियायें इन्सान की समस्त व्याधियों से रक्षा करती है ये अलग बात है कि योग के द्वारा किया गया उपचार तुरन्त कारगर सिध्द नही हुआ है परन्तु देर से होने के बावजूद भी यह एक अचूक चिकित्सा है बशर्ते कि यह बिमारी कि अवस्था में न किया जाये यह भी सत्य है योग अगर सही शिक्षक के परामर्श से किया जाये तो ही उपयुक्त है…यौन शिक्षा भी आवश्यक है यदि आज के युवा होते बच्चो का सही दिशा में मार्गदर्शन हो तो देश भर में फ़ैले बलात्कार और उनसे होने वाले खून खराबे से बचा जा सकता है… इस शिक्षा में भी योग्य शिक्षक की अनिवार्यता होनी चाहिये…अधिकतर आज कल यहि सुनने में आता है की शिक्षक भी बच्चो का शिक्षा के नाम पर शोषन कर रहे है…इस लिये पहले यह कहना जरूरी नही की बच्चो को क्या शिक्षा दी जाये पहले यह जाँच जरूरी है की सभी प्रशिक्षक योग्य है की नही…ताकि बच्चो का भविष्य उज्ज्वल बनाया जा सके…

    सुनीता(शानू)

    ReplyDelete
  7. बढिया काम हो रहा है दुर्ग में जानकर खुशी हुई, सांप्रदायिकता ढूँढने वाले तो सरस्वती वन्दना और वन्देमातरम में भी ढूँढ लेंगे.. उद्देश्य पवित्र हो तो ऐरे-गैरों की परवाह नहीं करना चाहिये...

    ReplyDelete
  8. बच्चो को यौन शिक्षा देना ज़रूरी है.
    क्योकि जब बच्चो के साथ यौन सबंध स्थापित करते है, तब बच्चा इन कार्यो से बहुत डरता है,जिस कारण वह न तो स्वयं संतुष्ठ हो पाता है नही सामने वाले को संतुष्ठ कर पाता है.
    यदि बच्चे को यौन शिक्षा दी जाए तो वह स्वयं भी संतुष्ठ हो जाएगा,और सामने वाले को भी संतुष्ठ कर पाएगा

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

Popular Posts