ब्लॉग छत्तीसगढ़

08 June, 2007

1857 का स्वतंत्रता संग्राम या 1857 का गदर

दो दिन पहले प्रगतिशील वसुधा के सम्पादक प्रगतिशील लेखक संघ के राष्‍ट्रीय महासचिव प्रो. कमला प्रसाद के “१८५७ की क्रांति और आज के प्रश्‍न” विषय पर व्‍याख्‍यान को सुनने गया उन्होने १८५७ की क्रांति के १५० वर्ष पूरे होने पर अपने रोचक व सारगर्भित व्‍याख्‍यान मे जो कुछ कहा उसमे से कुछ बाते देर तक दिमाग मे गूंजती रही ।

"१८५७ की क्रांति की जितनी चर्चा हो रही है, इतनी सजग चर्चा १९५७ को १०० वर्ष पूरे होने पर भी नहीं हुई ।"

"१८५७ की क्रांति से संबंधित पृथक पृथक मत आज भी बने हुए हैं कोई मानते हैं यह एक धर्म युद्ध था कुछ कहते हैं यह सामंती सभ्‍यता और अंग्रेजी सभ्‍यता के बीच का युद्ध था ।"

" . . . . . . कार्लमार्क ने इसे जनविद्रोह का नाम दिया । "

" . . . . . . . . . . . गदर !"

हमे संविधान पढाने वाले हमारे एक प्राध्यापक आदरणीय कनक तिवारी जी जो हिदायत्तुल्ला राष्ट्रीय विधि महाविद्यालय मे विजिटिंग प्रोफ़ेशर है कहा करते थे कि कालमार्क्स के ईसी कथन को अंग्रेजो ने गदर निरुपित कर दिया था । इतिहास को शब्द रूप मे लिखने वाले अंग्रेज ही थे जिंहोने भारतीय एकता को चिढाने के लिये हमारे स्वतत्रता संग्राम को " १८५७ का गदर" नाम दिया "गदर" हम पर थोपा गया शब्द है । भारत मे जब तक अंग्रेजो के लिखे स्कूली पुस्तको का हिंदी अनुवाद चलता रहा तब तक के पुस्तको में इसे " १८५७ का गदर" ही कहा गया । जबकि गदर एक असंगठित एवं निरुद्देश्य आपराधिक मार काट को कहा जाता है । वो अपने तर्को मे कहां तक सहीं है, मै आज तक समझ नही पाया पर जब जब १८५७ के स्वतत्रता संग्राम को "गदर" कहा जाता है दिल को एक चोट पहुंचती है ।

छत्तीसगढ मे इसी मार्क्स के अनुयायी आज नंगा नाच रहे है और जन विद्रोह का कुत्सित प्रयाश करते हुए पवित्र शब्द क्रांति को भुना रहे है । कभी हम भी कवि गदर के गीतो मे ढपली बजाते थे पर अब हमारे प्रदेश की वर्तमान परिस्थितियो मे हमे घृणा होती है उन स्वर लहरियो से जिसे हम क्रांति के गीत कहते थे ।

2 comments:

  1. पता नही पर शायद हम गदर शब्द का अर्थ क्रांति या विद्रोह लेते आए हैं।

    ReplyDelete
  2. और हां! आपके अंतिम पैराग्राफ़ से मैं पूर्णतया सहमत हूं!!

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

loading...

Popular Posts