ब्लॉग छत्तीसगढ़

07 May, 2016

फिर याद आये सीता शरण जोशी

आज हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉ. उरगावकर के पास मैं अपने कंधे की चेकअप के लिए गया था। वहां इंतजार करते मरीजों के बीच एक लड़का मिला जिसके हाथ में ताजा प्लास्टर बंधा था। वहां बैठे अधिकांश मरीज छत्तीसगढ़ में रहने वाले गैर छत्तीसगढ़िया नजर आ रहे थे। मने छत्तीसगढ़ का खाने और छत्तीसगढ़ का ही बजाने वाले।
मैंने बच्चे से छत्तीसगढ़ी में हाथ टूटने का कारण पूछा। उसने लजाते हुए जवाब दिया कि आम तोड़ने के लिए पेड़ पर चढ़ गया था वहां से गिर गया। मैंने पूछा किसके साथ आए हो तो उसने कहा, मां के साथ। पढाई, भाई-बहन, मां-बाप अदि के बारे में पूछने पर वह संक्षिप्त उत्तर दे रहा था। उसने कहा कि पिताजी नहीं है, मैंने पूछा, क्या पिता की मृत्यु हो गई? तो उसने उत्तर नहीं दिया। जब दो-तीन बार पूछा, कुरेदा तो वह खीझ से बोला '*दरो के ह भाग गे हे!'
अचानक उसके मुह से निकले वाक्य को सुनकर वहां बैठे मरीज हंस पड़े। उसी समय उसकी मां ने डिस्पेंसरी में प्रवेश किया, उसकी हाथों में दवाइयाँ थी। अपने बच्चे से बात करते देख कर वह महिला मेरे बाजू में बैठ गयी। लगभग 40 साल की उस ग्रामीण महिला ने चर्चा में बताया कि, उसके दो बच्चे हैं, एक लड़की इससे एक साल छोटी है। इनका बाप ठेकेदार था, मुझे 'बनाकर' रखा था, चार साल पहले हमें छोड़ कर भाग गया। लहुट के नहीं आया भडवा, बिहारी था रोगहा, अब इतने बड़े इंडिया में उसे कहाँ खोजूं।
मैंने सुना था कि जवान लड़कियां घर छोड़ कर भाग जाती हैं किसी लड़के के साथ। औरतें पति छोड़कर भाग जाती हैं किसी मर्द के साथ पर ये पुरुष ...?
मैं ज्यादा कुछ सोचता तब तक कंपाउंडर ने मुझे डॉक्टर के केबिन में बुला लिया। मेरे कंधे का दर्द और बढ़ गया था, लुटी छत्तीसगढ़ बच्चे को कंधे में उठाकर डिस्पेंसरी से बाहर निकल रही थी।
-तमंचा रायपुरी

4 comments:

  1. Online survey and video watching job

    Ke liye contact kijiye... No joining fees

    No deposit fess ... So hurry join ....

    Contact me on whattss app...

    7096797430

    ReplyDelete
  2. छत्तीसगढी महिलायें आज भी शोषण की शिकार हैं और जब तक महिलायें महिमा मण्डित नहीं होंगी छत्तीसगढ की प्रगति नहीं हो सकती । यह सामाजिक विषय है,इसे निपटाने के लिए आपको और हमको ही आगे आना पडेगा । सोचने की बात है कि कमज़ोर डरी हुई स्त्री अपनी संतान को कैसे बहादुर बना सकती है ? आप जब महिला को अधिकार नहीं देंगे तो वह अपने कर्तव्य को कैसे पूरा करेगी ? समाज को खुशहाल बनाइए, स्त्री को उसका अधिकार दीजिए, उसे दीन - हींन होने से बचा लीजिए अन्यथा अनर्थ हो जाएगा ।

    ReplyDelete
  3. 💥💥"नवीनतम करेंट अफेयर्स और नौकरी अपडेट के लिए इस ब्लॉग पर विजिट करते रहें।"💥💥

    Ishwarkag.blogspot.com

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

Popular Posts