ब्लॉग छत्तीसगढ़

18 December, 2015

बाबा नागार्जुन याद आये कई दिनों के बाद

1952 में अकाल और उसके बाद नागार्जुन नें 'कई दिनों के बाद' लिखा। हमने भी कई कई दिनों के अंतराल में इसे पढ़ा, नाट्यशालाओं में रेंकियाते कलाकारों से बार-बार सुना। गरीबी-भुखमरी और पता नहीं क्या-क्या ..मरी से परिपूर्ण इस देश में इस सहज-सरल कविता का मर्म हम समझने का यत्न करते रहे। वातानुकूलित कमरों में बैठकर सर्वहारा की बात करने वाले इसे कालजयी कविता बताते रहे और हम इसे पढ़ते रहे। इसे पढ़ते-सुनते उपरी तौर पर हृदय में सिहरन सी दौड़ती और अभिव्यक्ति की दबंगई को वाह, वाह कहते 'पोटा, पोट-पोट' करने लगत। दरअसल, सही मायनों में हमने इसे अंदर तक महसूस किया ही नहीं था, जरूरत भी नहीं थी?

भौतिकवादी युग में 1952 की कविता की प्रासंगिगता 2015 में कुछ रह कहॉं जाती है। चूल्हे गायब हो गए, गोदी नें अमीरों की गैस सबसिडी छोड़वाकर झुग्गी-झोपड़ी में लगवा दिया। गैस नें सांझ ढले खपरैल की घरों के उपर उठते धुंए की मनोहारी छटा को लील लिया। महिलाओं की चूडि़यों की खनक के साथ हर्षित होने वाली चक्कियॉं घरों से 'नंदा' गए, उनकी उदासी देखने के लिए हमारी आंखें तरस गयी। सीजते संयुक्त परिवार की परिकल्पना 'तईहा' की बातें हुई, अचानक आने वाले मेहमानों के लिए उतावली और हमेशा 'एक ठोम्हा अकतिहा चुरने' वाली देचकी किलो के भाव बेंच दी गई और उनका स्थान सीमित मात्रा में भोजन बनाने के लिए उपलब्ध लीटर वाले कूकरों नें ले लिया। ऐसे में घर के सामने जूठन पर पलने वाली कानी कुतिया भी भाग कर अब मुनिसपल के वेस्ट मैनेजमेंट में अपना कमीशन खोजने लगी। रंगीन केमिकल्स से पुते पुताये भीत से कीट-पतंगों को विरक्ति हुई और जो आशक्त किचन के सेंधों में छिपे बैठे रहे उनके लिए हिट सहज रूप से परचून की दुकान पर उपलब्ध हो गया। इन सबको देखते हुए सुकड़दुम छिपकिलियों का गस्त, पहरेदारों की नहीं चोरों सी लगने लगी, सो छिपकिल्लियां भी गायब। विभिन्न प्रकार के उडल-नूडल खाद्धान्न से भरे घरों में कपड़े, किताबें, गत्ते और लकडि़यों को कुतरते चूहों की शिकश्ती का हालात भी अब दिखने से रहा। चाउंर वाले बाबा की किरपा से मुफ्त दानों की एक आध बोरी और चेपटी की दो चार बोतलों से घर सदा आबाद रहा मने अंदर ही रहा, तो दानों के अंदर आने की बात रही ही नहीं। रही बात काले कौये की तो उस पर ब्‍लॉ.. ब्‍लॉं.. ब्‍लॉं...

हॉं अब समय बदल गया है, शब्दों की परिभाषाओं में बदलाव आ गया है। ग्रोथ के आंकड़ो के छद्मावरण के बीच किश्तों में खरीदी खुशियों से संतुष्ट, एंड्राइड मोबाईल धारी, मध्यम और निम्न मध्यम वर्ग आज भी इस कविता में अपने आप को तलासता है। उपरी कमाई व छठे वेतनमान के अंगूर को ताकते, न्यूनतम वेतनमान को तरसते, जिन्दगी के ड्यू इंस्टांलमेन्ट की रिकवरी वाले एसएमएस और फोन काल से तंग, किसी परिवार में अचानक जब मेहनत का असली फल गांधी जी के छापों वाले कागज के टुकड़ों के साथ मिलता है तब बाबा नागार्जुन याद आते हैं और घर भर की आंखें चमक उठती है, कई दिनों के बाद!

-तमंचा रायपुरी

2 comments:

  1. very nice and informative blog post . I appreciating your work,Thanks for sharing with us.-indian marriage site

    ReplyDelete
  2. बाबा नागार्जुन मेरे अपने जैसे लगते हैं लगता है मेरे ही बाबा हैं । सबको ऐसा ही लगता होगा । सञ्जीव ! विशेषकर वर्धा हिन्दी विश्वविद्यालय में मुझे ऐसा एहसास होता रहा जैसे मैं बाबा नागार्जुन के घर में रह रही हूँ । वे मुझे बहुत अच्छे लगते हैं ।

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

loading...

Popular Posts