ब्लॉग छत्तीसगढ़

09 September, 2015

लिफ्ट का गिफ्ट

हमारे देश में नगर रक्षक प्रहरियों का जलवा सदियों से बरकरार रहा है। नगर में शासन व्यवस्था एवं अनुशासन कायम रखने का प्रभार इन्हीं के हाथों रहा है, जिसमें रत्न जड़ित सोने का दण्ड हुआ करता था। मुगलों का जमाना आते आते दण्ड से रत्न ऐसे गायब हुए जैसे रेलवे के टायलेट से आईना और दण्ड का सोना पीतल में बदल गया। अंग्रेजों नें कुछ भारतीय और कुछ अंग्रेजी मुलम्मा चढ़ाते हुए इसे छड़ी बनानें में कोई कसर नहीं छोड़ी। इतना ही नहीं अंग्रेजों नें शासन और अनुशासन के बीच भी भारत पाकिस्तान जैसे बटवारा कर दिया और पुलिस सर्विसेस व सिविल सर्विसेस को स्थापित कर दिया।

अधिकार बंट गए कर्तव्य संयुक्त रहा और यही असंतुष्टि का कारण रहा। अधिकारों के इस बंटवारे में इन दोनों शाहों के बीच असंतुष्टि का बीज बचा रहा जो राजनीति की आद्रता में यदा कदा पनपता रहा, मेछराता रहा। सुराज के बाद योग्य सरकारों नें इन दोनों के बीच उल्होते पीका को प्रभावपूर्ण रूप से नष्ट करने का, समय समय पर यत्न भी किया, पर इनके बीच का महीन दरार समय-समय पर बार-बार दरकते रहा।

हमारे प्रदेश में अभी हाल ही में समाचार पत्रों से, पढ़ने-सुनने में आया कि इन दोनों के बीच में दबे पड़े बीज में फिर अंकुरण आ गया। एसीबी मने पुलिस सर्विसेस वालों नें एक सिविल सर्विसेस वाले को रिश्वत लेते धर दबोचा तो तथाकथित रूप से एक महिला सब इंस्पेक्टर नें आरोप लगाया कि उसे पुलिस सर्विस वाले बड़े साहब नें धर दबोचा। अब इसके कारण प्रीसिपल होम सेक्रेटरी नें टेबल टू टेबल सरकते फाईल को डिजिटल ट्रांसफर करवाते हुए तुरत फरमान जारी किया कि एआईजी साहेब को टीआई बना दिया जावे। ... आईएएस और आईपीएस दोनों अपने अपने कुनबे की आन बचाने अब आमने सामने हैं, झगरा बाढ़ गया है।

कुछ दिन पहले जगदलपुर वाले आईएएस साहेब के काले चस्में के फेर में सरकार तो पहले से ही तुनकी हुई है। जइसे सांढ लाल कपड़े से भड़कता है वइसे ही बगियाये सरकार को डॉक्टर साहब नें सूजी पेल के सुस्त करा दिया था, नहीं तो इस फेर में आईएएस लाबी तो खच्चित हुबेलाये रहता। मुखिया नें सोंचा कि बड़े बरदी के चराने वाले कुशल बरदिहा ही बेवजह हुबेला जायेगा तो गाय-गरू तिड़ी-बिड़ी हो जायेगा, बदनामी घलो होगा। इसलिए मामला सलटा लिया गया।

सुनने में तो यहॉं तक आया है कि प्रदेश में मंहगे काले चश्में की बिक्री में भारी गिरावट आई है और बड़े चश्मा दुकान वालों नें अब पारदर्शी और भगवा कलर के चश्मों का आर्डर दिया है। दुकानदारों की सोंच वाजिब ही है, सरकार को काले चश्में में नहीं देखा जा सकता उसके लिए चश्मा और आंख दोनों पारदर्शी होना चाहिए। पर लोकत़ंत्र में साहेबों को मात्र सरकार भर को नहीं देखना होता है, उसे जनता को भी देखना होता है। इसके लिए सरकार की आंखों से जनता को देखना होता है, तो उसके लिए भगवा चश्में की जरूरत है।

चश्में की बात तो अब तइहा के बात हो गया किन्तु अब तो नाक कटावन हो गया है, पहले मंत्री और साहेब फिर संत्री और साहेबों नें आपस में म्यान से तलवारें निकाल ली है। राम राज में इन शाहों की लड़ाई शोभा नहीं देता है भाई, चाहे वे शाहों के हों, नौकरों के हों कि सिपाहियों के हों। इस लड़ाई से चारो तरफ डर का माहौल छा गया है। मेरे अरमानों के ताजमहल को पता नहीं किस दिलजले की नजर लगी है। प्रदेश के बड़े घोटाले को नान कहा जा रहा है, प्रशासन और सुरक्षा करने वाले आपस में लड़ रहे हैं, भ्रष्टाचार मुक्त प्रदेश बनाने के लिए कमर कसे आईएएस स्वयं रिश्वत लेते पकड़ा रहा है, महिलाओं की सुरक्षा हेतु तैनात महिला पुलिस स्वयं असुरक्षित है।

इस हादसे के बाद सभी नगर कोतवाल भईया वाली भउजियॉं गुमसुम है और संइया भये कोतवाल कहने में डेरा रही है। इधर चौकी, थाना, मुख्यालय में पदस्थी वाली कोतवालिनें लिफ्ट करा दे कहने के बजाए, लिफ्ट में चढ़ने से ही डेरा रही है। सरकार अपने कार्यालयों में द्रुत गामी लिफ्ट लगा रही है ताकि योजनायें, फरमान, अरमान, फरियादों को घिसटते हुए सीढ़ियों से लिफ्ट करा दिया जावे किन्तु लिफ्ट के इस गिफ्ट से आस्था और विश्वास भी अब कतरा रही हैं।

—तमंचा रायपुरी

6 comments:

  1. वाह तिवारी भैया! एकदम जोरदार है जी। आपकी व्यंग्य वाली किताब में इसी भाशा की अपेक्षा थी। न जाने यह उसमें क्यों नहीं आ पाई।

    ReplyDelete
  2. भाषा सौंदर्य के चासनी में लटपट गुल्ला,,,गजब भैया

    ReplyDelete
  3. भाषा सौंदर्य के चासनी में लटपट गुल्ला,,,गजब भैया

    ReplyDelete
  4. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (11.09.2015) को "सिर्फ कथनी ही नही, करनी भी "(चर्चा अंक-2095) पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, चर्चा मंच पर आपका स्वागत है।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ, सादर...!

    ReplyDelete
  5. लेख में मेंछराना जैसे आंचलिक शब्दों के प्रयोग से भाषा के सौंदर्य में वृद्धि हुई है तो कथन का पैनापन या कहूं कथ्य दोधारी तलवार बन गया है । लिखते चलो ...

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

loading...

Popular Posts