ब्लॉग छत्तीसगढ़

Popular Posts

14 June, 2014

लोक साहित्य में लोकप्रतिरोध के स्वर’ के संदर्भ में

यह लोककथा छत्तीसगढ़ में कही जाती है। एक राजा था। (लोक में बड़ा जमीदार भी राजा ही होता है।) नौकरों या सेवकों की नियुक्ति वह अपने शर्तों प...