ब्लॉग छत्तीसगढ़

22 January, 2013

Popular Posts

31 January, 2013

जइसन ला तइसन मिलै, सुन गा राजा भील. लोहा ला घुन खा गै, लइका ला लेगे चील.

इस छत्तीसगढ़ी लोकोक्ति का भावार्थ है दूसरों से बुरा व्यवहार करने वाले को अच्छे व्यवहार की अपेक्षा नहीं करनी चाहिए अर्थात जैसे को तैसा व्यव...

खलक उजरना या उजड़ना और खँडरी नीछना या ओदारना

छत्‍तीसगढ़ी मुहावरा 'खलक उजरना' व 'खलक उजड़ना' का भावार्थ किसी स्‍थान पर भीड़ लगना एवं विलोम अर्थ के अनुसार दूसरे स्‍थान स...

29 January, 2013

गरहन तीरना और गर से संबंधित मुहावरे

छत्तीसगढ़ी मुहावरा गरहन तीरना का भावार्थ अपंग होना से है. शब्द विच्छेद करते हुए छत्तीसगढ़ी शब्द 'गरहन' को देखें तो इसमें 'गर'...

27 January, 2013

गोहार परना एवं गुहरी गदबद होना

छत्तीसगढ़ी मुहावरा गोहार परना का भावार्थ खूब विलाप करना है. चलिए आज इस मुहावरे में प्रयुक्त शब्द 'गोहार' का आशय देखते हैं. शब्दशास्...

26 January, 2013

घला जाना व घुरवा गॉंगर होना

छत्तीसगढ़ी मुहावरा 'घला जाना' का भावार्थ है बाधित होना. इस मुहावरे में प्रयुक्त 'घला' शब्द 'घलई' का समानार्थी है. फे...

24 January, 2013

चुलुक लगाना, चिहुर परना व चिभिक लगा के

छत्तीसगढ़ी मुहावरा चुलुक लगाना का भावार्थ है तलब लगना। आईये इस मुहावरे में प्रयुक्त छत्तीसगढ़ी शब्द ‘चुलुक’ को समझने का प्रयत्न कर हैं। ...

23 January, 2013

चारी म बुड़ना, चपका बॉंधना व चँगोर फोरना

बुराई करने में समय गवांने या बुराई करने में रत रहने पर छत्तीसगढ़ी में ‘ चारी म बुड़ना ’ कहा जाता है। छत्तीसगढ़ी में 'चार' चार अंक क...

22 January, 2013

घोरन मताना

इस छत्तीसगढ़ी मुहावरे का भावार्थ जिद्द करना है। इसमें प्रयुक्त ‘घोरन’ व ‘मताना’ का आशय पर हम अपना ध्यान केन्द्रित करते हैं। भयानक, भयंकर,...

21 January, 2013

छकल बकल करना

इस छत्तीसगढ़ी मुहावरे का भावार्थ है खूब खर्च करना। आईये देखें इस मुहावरे में प्रयुक्त छत्तीसगढ़ी शब्द ‘छकल’ व ‘बकल’ का आशय। तृप्त होने, ...

20 January, 2013

जी अरझना और जी कल्लाना

छत्तीसगढ़ी मुहावरे "जी अरझना" का भावार्थ इंतजार करना एवं "जी कल्लाना" का भावार्थ व्याकुल होना है। इन दोनों मुहावरे मे...

19 January, 2013

ब्लॉगर बी.एस. पावला, जी.के. अवधिया तथा नवीन प्रकाश को संगवारी पोस्‍ट अवार्ड

ब्‍लॉगर बी.एस.पाबला, जी.के.अवधिया व नवीन प्रकाश छत्‍तीसगढ़ पत्रकारिता के भीष्म पितामह श्री बब्बन प्रसाद मिश्र जी के पचहत्तरवें जन्...

यात्राः गिरौदपुरी में कुतुब मीनार की तरह जैतखाम

- विनोद साव गिरौदपुरी स्थित जैतखाम्ब, चित्र गूगल से साभार कुतुबमीनार की तरह उंचा दिखने वाला टावर कोसों दूर से ही दिख जाता है। साथ में ...

18 January, 2013

उछरत बोकरत ले भकोसना और सतौरी धराना

इन दो मुहावरों में पहले मुहावरे का भावार्थ अत्यिधक खाना है. मुफ्त में मिले माल को उड़ाने का भाव या किसी को नुकसान पहुचाने के उद्देश्य से माल...

17 January, 2013

जॉंगर पेरना, जॉंगर खिराना व जँउहर होना

इन तीनों छत्तीसगढ़ी मुहावरों का भावार्थ इस प्रकार है, जॉंगर पेरना : मेहनत करना, जॉंगर खिराना : शक्तिहीन होना, सामर्थहीनता व जँउहर होना :...

15 January, 2013

झकझक ले दिखना और झख मारना

छत्तीसगढ़ी मुहावरा ‘झकझक ले दिखना’ का भावार्थ एकदम साफ दिखना है एवं ‘झख मारना’ का भावार्थ बेकार समय गंवाना है। इन दोनों मुहावरों में प्...

14 January, 2013

तरूआ ठनकना

इस मुहावरे का भावार्थ है शंका होना, किसी बुरे लक्षण को देखकर चित्त में घोर आशंका उत्पन्न होना, कुछ स्थितियों पर आश्‍चर्य होने पर भी इसका प्...

12 January, 2013

मही मांगें जाना अउ ठेकवा लुकाना

छत्तीसगढ़ी के इस मुहावरे का भावार्थ है मांगना भी और शरमाना भी या कहें लजाते हुए उपकृत होने की इच्छा रखना. दो व्यक्तियों के सिर टकराने की क्...

11 January, 2013

थोथना ओरमाना

इस छत्तीसगढ़ी मुहावरे का भावार्थ है दुख्री होना, नाराज होना. मुहावरे की प्रयोग की दृष्टि से इस पर मेरा अनुमान है कि इसका आशय स्वयं की गलती ...

10 January, 2013

टोंटा मसकना

इस मुहावरे का भावार्थ है शोषण करना या धन हड़पना, शब्‍दार्थ रूप में भी इस मुहावरे का प्रयोग होता है जिसका अर्थ मार डालने से है (गले को दबाना...

08 January, 2013

टोनही चुहकना

इस छत्‍तीसगढ़ी मुहावरे का भावार्थ 'बेहद कमजोर होना या दुर्बल होना' है. आईये इस मुहावरे में प्रयुक्‍त छत्‍तीसगढ़ी शब्‍द 'टोनही&#...

07 January, 2013

दहरा के भरोसा बाढ़ी खाना

इस छत्तीसगढ़ी मुहावरे का भावार्थ है संभावनाओं पर कार्य करना. आईये अब इस मुहावरे में प्रयुक्त छत्तीसगढ़ी शब्द 'दहरा' एवं 'बाढ़...

06 January, 2013

हुदरे कोंचके कस गोठियाना

छत्तीसगढ़ी के इस मुहावरे का भावार्थ है बेरूखी से बोलना या अप्रिय ढंग से बोलना. इससे संबंधित अन्य प्रचलित मुहावरे हैं 'हुदरे कस गोठियाना ...

05 January, 2013

जउन तपही तउन खपही

संस्कृत शब्द तपस् से हिन्दी शब्द तपस्या या साधना बना. इसके समानअर्थी शब्‍द 'तपसी' (Ascetic) का छत्तीसगढ़ी में भी प्रयोग होता है. प्र...

04 January, 2013

'खटिया लहुटय', 'खटिया उसलय' : खाट से संबंधित छत्तीसगढ़ी मुहावरे

चित्र दैनिक पत्रिका से साभार आज के दैनिक समाचार पत्र 'पत्रिका' के पन्ने पलटते हुए जशपुर क्षेत्र के एक समाचार पर नजर गई. समाचार...

तइहा के बात बइहा लेगे

इस छत्‍तीसगढ़ी मुहावरे का भावार्थ 'प्रचलन समाप्त होना' है. इस मुहावरे में 'तइहा' एवं 'बइहा' दो शब्‍द प्रयुक्‍त हुए...

03 January, 2013

कोया (बस्तर के अनावृत सौंदर्य के कामपिपासु ख्यातिलब्धों की कहानी)

'विधुर हूँ, उम्रदराज भी हूँ किन्तु इंद्रियों में प्यास अब तक बाकी है, देख लेना.' चित्रकोट जल प्रपात की प्रकृतिक छटाओं का आनंद लेकर ...

02 January, 2013

बूड़ मरे नहकउनी दै

इस छत्‍तीसगढ़ी लोकोकित का भावार्थ है दुहरी नुकसानी. इस लोकोक्ति में प्रयुक्‍त छत्‍तीसगढ़ी शब्‍द 'बूड़' और 'नहकउनी' का अर्थ ज...

01 January, 2013

अइसन बहुरिया चटपट, खटिया ले उठे लटपट

इस छत्‍तीसगढ़ी लोकोक्ति का भावार्थ है आलसी व्‍यक्ति से तत्‍परता की उम्‍मीद नहीं की जा सकती. इसको राहुल सिंह जी स्‍पष्‍ट करते हैं 'ऐस...