16 September, 2011

मेरे देश की माटी तुझको सौ-सौ बार प्रणाम : पवन दीवान

छत्तीसगढ़ की साहित्यिक एवं सांस्कृतिक फिजा से उभरे दीवान जी ने महानदी के सुरम्य तट को अपनी कर्मस्थली बनाई और राजिम जैसे नगर को अपनी आंतरिक सोच के साँचे में ढालने का प्रयास किया। पौराणिक तासीर की पृष्ठभूमि को आँकते हुए "काशी" की तरह इन्होंने यहाँ संस्कृत-शिक्षा का सूत्रपात किया। इसी की श्रीवृद्धि के लिए "राजनीति" का भी सहारा लिया। लेकिन, स्थायित्व का संकट वे सदैव झेलते रहे।



तुझमें खेले गाँधी गौतम,कृष्ण राम बलराम,
मेरे देश की माटी तुझको, सौ-सौ बार प्रणाम।

जीवन एक खिलौना है
इसका हँसना-रोना है
सबकुछ तेरी गोदी में
क्या खोना क्या पाना है
टूटी जंजीरें जड़ता की
बंदी पंछी स्वच्छन्द हुआ
यह नीला विस्तृत आसमान
आँसू खुशियों का छंद हुआ

दिन मढ़ता है सोना तन पर, लाली मढ़ती शाम,
मेरे देश की माटी तुझको, सौ-सौ बार प्रणाम।

सागर में दही भरा जैसे
नदियों में दूध छलकता है
यादें बच्चों की किलकारी
दर्पण में रूप झलकता है
दक्षिण में बाजे बजते हैं
उत्तर में झांझ झमकता है
पश्चिम मन ही मन गाता है
पूरब का भाल दमकता है

नव विहान का सूरज बनकर, चमके तेरा नाम,
मेरे देश की माटी तुझको, सौ-सौ बार प्रमाण।

ये पर्वत हैं ऊँचे जूड़े
नदियाँ करधनी पिन्हाती हैं
गंगा गोरी,यमुना संवरी
तट पर सरसों बिखराती है
ये बाँध स्नेह के बंधन हैं
नहरें हैं रेशम की डोरी
आजादी नई नवेली सी
शहरों में, गाँवों की छोरी

मरे-जिएँ आँखों में झलके तेरा रूप ललाम,
मेरे देश की माटी तुझको सौ-सौ बार प्रमाण।

यह लोकतंत्र की गीता है
उपनिषद आत्मिक समता की
भाषाएँ रीत बताती हैं
भारत माता की ममता की
कुछ कहना मुझे जवानों से
कुछ कहना मुझे किसानों से
इन मृत्युजंय अंगारों से
उन ऋषियों की संतानों से

छू न सके नापाक हाथ ये अपने चारों धाम,
मेरे देश की माटी तुझको सौ-सौ बार प्रणाम।

इन्द्रधनुष नभ से उतरा है
भारत की तस्वीर में
खून हमारा केशर बनकर
महक रहा कश्मीर में
हमें तपस्वी बालक जाना
और नशे में छेड़ दिया
हमने अपने खेल-खेल में
उनको दूर खदेड़ दिया

रावण मार पधारे जैसे, आज अवध में राम,
मेरे देश की माटी तुझको, सौ-सौ बार प्रणाम।

बस इच्छा है,भगवान कसम
तेरी ही कोख में मिले जनम
जो स्वेद खेत में छलकाए
माथे का चंदन बन जाए
तेरा इतिहास चमकता हो
पावन गुलाब का रूप खिला
तूफानों में भी खड़ा रहे,
तेरे सपनों का लाल किला

तेरा शहर स्वर्ग बन जाए, नंदनवन हो ग्राम,
मेरे देश की माटी तुझको, सौ-सौ बार प्रणाम।...

तेरे बेटों का अंग-अंग
निर्मल मंत्रों से पावन हो
दिन-रात यहाँ हो दीवाली
तेरा हर मौसम सावन हो
ये तेरे महल बने दूल्हे
कुटिया सजकर सांवली दुल्हन
हम बन जाए सब बाराती
शुभ लग्नों में हो पाणिग्रहण ...

तेरा नाम बढ़ाएँगे हम, होकर भी बदनाम,
मेरे देश की माटी तुझको, सौ-सौ बार प्रणाम।

पवन दीवान

4 comments:

  1. हमारा भी प्रणाम दीवान जी के माध्‍यम से.

    ReplyDelete
  2. संजीव जी ,
    आपने दीवान जी बहुत पुरानी कविता की याद दिलाई . यह कविता काफी लोकप्रिय हुई थी , इस कविता ने दीवान जी को भी काफी लोकप्रिय बनाया था . धन्यवाद !

    ReplyDelete
  3. दर्शन का भाव भरा है इन पंक्तियों में।

    ReplyDelete
  4. आद पवन दीवान जी जो प्रणाम...
    उनका यह खुबसूरत गीत प्रस्तुत करने के लिए आरम्भ का सादर आभार...

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

Featured Post

छत्‍तीसगढ़ राज्‍य गीत ‘अरपा पैरी के धार ..’

''अरपा पैरी के धार, महानदी के अपार'' राज्‍य-गीत का मानकीकरण ऑडियो फाइल Chhattisgarh State Song standardization/normalizatio...