ब्लॉग छत्तीसगढ़

Popular Posts

28 April, 2011

फिल्मों को भेड़ चाल से बचाएं : रामेश्वर वैष्‍णव

धारदार व्‍यंग्‍य कविताओं और सरस गीतों से कवि सम्‍मेलन के मंचों पर छत्‍तीसगढ़ी भाषा में अपनी दमदार उपस्थिति सतत रूप से दर्ज कराने वाले एवं चं...

27 April, 2011

समीक्षाः बिलसपुरिहा बोली में पगी एक सुन्दर अभिव्यक्ति ‘गॉंव कहॉं सोरियावत हे’ - विनोद साव

संग्रह का नाम - गॉंव कहॉं सोरियावत हे कवि - बुध राम यादव प्रकाशक - छत्तीसगढ़ी साहित्य समिति, बिलासपुर मूल्य - रु. 100/- समीक्षक - ...

23 April, 2011

कामरेड कमला प्रसाद : संगठन और लेखन के बीच खड़ा कलाकार - विनोद साव

कुशल संगठन कर्मी, प्रगतिशील लेखक संघ के मुखपत्र ‘वसुधा’ के संपादक, लेखक कामरेड कमला प्रसाद का विगत 25 मार्च 2011 को अवसान हो गया। दुर्ग भिला...

17 April, 2011

रंगकर्मी संतोष जैन से देशबन्धु के कला प्रतिनिधि की खास बातचीत

छत्तीसगढ़ी फिल्मों के निर्माता व वरिष्ठ रंगकर्मी संतोष जैन का मानना है छत्तीसगढ़ी फिल्मों को प्रोत्साहित करने राज्य सरकार सब्सिडी दे। तथा मह...

10 April, 2011

टेंगनाही माता को चढ़ाते हैं मछली : कचना धुरवा की परम्‍परा

आदिकाल से देवी-देवताओं में कई प्रकार के च़ढ़ावे व बलि देने की प्रथा चली आ रही है, बलि में भैंसें, बकरे और मुर्गीयों की बलि के संबंध में सुना...

08 April, 2011

एबलॉन छत्‍तीसगढ़ी सिने अवार्ड : अनुज हीरो नंबर वन

सर्वश्रेष्ठ फिल्म का अवार्ड ‘ टूरा रिक्शा वाला ’ को म्यूजिक , डांस और गीतों की रंगारंग प्रस्तुतियों के बीच 2010 में बनीं छत्तीसगढ़ी फिल्मों...