ब्लॉग छत्तीसगढ़

02 December, 2010

याद किए गए मुक्तिबोध, सम्मानित हुए मिश्र व जयप्रकाश

छत्‍तीसगढ़ के नक्षत्र व हिन्‍दी के सुप्रसिध्द साहित्यकार गजानन माधव मुक्तिबोध की स्मृति में महाराष्ट्र मंडल द्वारा स्थापित 'मुक्तिबोध सम्मान' विगत दिनों वरिष्ठ आलोचक डॉ. राजेंद्र मिश्र तथा दुर्ग के युवा साहित्यकार जयप्रकाश को प्रदान किया गया। छत्तीसगढ़ के साहित्यकारों की साधना को सम्मानित करने महाराष्ट्र मंडल ने यह सम्मान 1999 से प्रारंभ किया है। इसके तहत अंचल के 6 साहित्यकारों को सम्मानित किया जा चुका है। अब तक इस सम्मान से नारायणलाल परमार, श्यामलाल चतुर्वेदी, रमाकांत श्रीवास्तव, प्रभाकर चौबे, कुंतल गोयल तथा देवीसिंह चौहान को सम्मानित किया गया है। इस सम्मान समारोह के संयोजक अरुण काठोटे जी नें आवारा बंजारा संजीत त्रिपाठी जी के माध्‍यम से हमें जो जानकारी भेजी है उसे हम चित्रों सहित अपने पाठकों के लिए प्रस्‍तुत कर रहे हैं -  
याद किए गए मुक्तिबोध, सम्मानित हुए मिश्र व जयप्रकाश
अरूण काठोटे
छत्तीसगढ़ की सुपरिचित सामाजिक संस्था महाराष्ट्र मंडल के तत्वावधान में पिछले दिनों रायपुर, छत्‍तीसगढ़ में मुक्तिबोध सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। समारोह की सातवीं कड़ी में इस मर्तबा दो आलोचकों डॉ. राजेंद्र मिश्र (2008-09) तथा युवा लेखक जयप्रकाश को सत्र 2009-10 के लिए सम्मानित किया गया। समारोह के मुख्य अतिथि विदर्भ साहित्य संघ के उपाध्यक्ष, कवि डॉ. श्रीपाद भालचंद्र जोशी थे।
इस मौके पर सम्मानित वरिष्ठ आलोचक डॉ.राजेंद्र मिश्र ने कहा कि जीवन तथा जीवन से रचना उपजती है। इसलिए रचना हमेशा आलोचना से बड़ी होती है। वैचारिक स्वराज को जरूरी बताते हुए श्री मिश्र ने मुक्तिबोध का स्मरण कर उनके साहित्य के प्रभाव को रेखांकित किया। युवा आलोचक जयप्रकाश ने सम्मान को बेहद विनम्रता से स्वीकारने की वजह महाराष्ट्र मंडल की क्षेत्र में ख्याति तथा 75 बरसों की समर्पित सेवा भावना कहा। समारोह के मुख्य अतिथि डॉ. जोशी ने इस अवसर पर 'आतंकवाद का माध्यम और माध्यमों का आतंक' इस विषय पर गंभीर विचार प्रगट किए। अपने तर्कों और तथ्यों को उन्होंने विभिन्न उदाहरणों के जरिए भी पुष्ट किया।
श्री जोशी ने कहा कि आज शस्त्रों से मचाई जा रही हिंसा के बनिस्बत विचारों पर काबिज होता बाजारवाद और नष्ट होती वैचारिक क्षमता कहीं यादा हानिकारक है। माध्यम आज उन्हीं चीजों को परोस रहे हैं जिनसे उनका मुनाफा बढ़े। वैश्विक स्तर पर महाशक्तियां किस तरह इसे विस्तारित कर रही हैं, इसकी भी उन्होंने तथ्यों के साथ विवेचना की। आयोजन में मुक्तिबोध सम्मान के लिए गठित जूरी के सदस्य वरिष्ठ कवि विनोदकुमार शुक्ल, पत्रकारिता विवि के कुलपति सच्चिदानंद जोशी तथा युवा कवि डॉ. आलोक वर्मा के अलावा मुक्तिबोध परिवार से रमेश तथा दिवाकर मुक्तिबोध व बड़ी संख्या में सुधिजन उपस्थित थे। मंडल के अध्यक्ष अजय काले ने संस्था की उपलब्धियों पर प्रकाश डालते हुए समारोह की प्रतिष्ठा का संस्था के लिए महत्व प्रतिपादित किया। आयोजक द्वय अरुण काठोटे तथा रविंद्र ठेंगड़ी ने मराठी व हिंदी में प्रशस्ति पाठ का वाचन किया। श्री काठोटे ने समारोह के प्रारंभ से अब तक के विस्तार की जानकारी भी दी। उल्लेखनीय है कि सम्मान के तहत मंडल ने दोनों साहित्यकारों को ग्यारह-ग्यारह हजार की राशि, शॉल-श्रीफल तथा प्रशस्ति पत्र प्रदान किया।

18 comments:

  1. अच्छा लगा जानकार.. रिपोर्ट की भाषा सुगठित है.. सौंदर्य है..

    ReplyDelete
  2. सुन्दर रिपोर्ट और परिचयात्मक तथ्य।

    ReplyDelete
  3. uttam sahityik upkram...........

    aap badhaai ke patra hain

    ReplyDelete
  4. सम्‍मान प्राप्‍तकर्ता और निर्णायक, आयोजक भी बधाई के पात्र हैं.

    ReplyDelete
  5. Sammaan ke liye Dr. Raajendra Mishra aur Jayprakaash jii ko anekaanek badhaaiyaan.

    Mahaaraashtra mandal ne kaii warshon tak mujhse bhii prastaav maange the aur maine har baar bastar ke varenya saahitykaar aadarniiy Laalaa Jagdalpurii jii kaa naam prastaavit kiyaa thaa kintu mandal ne unake naam ko tawajjo nahnin dii. Ulte huaa yeh ki mere dwaaraa har baar Laalaa jii kaa hii naam prastaawit kiyaa jaanaa paa kar mandal ne mujh se prastaav hii maanganaa band kar diyaa. Main is manch ke maadhyam se kewal yeh niwedan karnaa chaahuungaa ki kab tak chhalaa jaataa rahegaa bastar aur kis-kis ke dwaaraa chhalaa jaataa rahegaa? Dilli, Bhopaal aur ab Raipur ke dwaaraa bhii? Bastar kii charchaa kewal ghotul ko le kar...chatkhaare le-le kar? Kisii mahotsav mein aadivaasiyon kaa nritya parosanaa ho to bastar kaa aadivaasii! aur sammaan aadi kii baat ho to wah, ya yahaan kaa sarjak yaad nahin aataa. Bastar sambandhii koii jaankaarii kisii ko bhii chaahiye to usakii zubaan par Laalaa jii kaa naam aayegaa kintu unhein sammannit kiye jaane ke naam par we bhulaa diye jaayenge.....waah!
    Bhaaii Raajiv Ranjan Prasaad jii ne apne 'saahity-shilpii' mein bahut sahii likhaa hai: अगर आप लाला जगदलपुरी को नहीं जाने तो आप मुक्तिबोध को भी नहीं जानते ......

    ReplyDelete
  6. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  7. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  8. संजीव भाई ,
    सोचता हूं कि आपकी पोस्ट पर राहुल सिंह साहब के बाद ही टिपियाया करूं !

    उनकी टिप्पणी से प्रेरित सदभावना ये कि सर्व सुपात्रों को हमारी ओर से अशेष शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  9. जी
    मिश्र जी एवम मानस जी को बधाई

    ReplyDelete
  10. बढ़िया रिपोर्ट संजीव भईया.. सबको बधाई.

    ReplyDelete
  11. Suchnaparak report ke liye Dhanyavad.Gajanaan Madhav Muktibodh ji ko naman.PLz. visit my new post.

    ReplyDelete
  12. बहुत बढ़िया रपट है .....आपका लेखन इसे प्रभावी बना गया है ....शुक्रिया

    ReplyDelete
  13. माध्य्मो का आन्तक ...निश्चित ही वजन दार विषय है,आज के परिवेश मे बहुत सार्थक ...

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

Popular Posts