ब्लॉग छत्तीसगढ़

04 September, 2010

निवेदक : ऐसे भी




चित्र श्री हसन जावेद जी के फेसबुक एल्‍बम 'लाल आतंक पर लगे लगाम' से साभार

17 comments:

  1. हृदयविदारक!


    पहाड़ नहीं कांपता
    न पेड, न तटाई

    कांपती है ढाल के घर से
    नीचे झील पर झरी
    दिए की लौ की नन्‍ही परछाई

    ReplyDelete
  2. संजीव जी किसे फर्क पडता है? सारी दुनिया जानती है कि मानवाधिकार केवल और केवल नक्सलियों के होते हैं। एसे चित्र इस देश की अरुन्धतियों को और उनके पीछे खडी लफ्फाजों की फौज को विचलित नहीं करते? एसी लाशों पर ही खडे है तथाकथित किसानों और मजदूरों के हक के ठेकेदार?

    इसे अगर क्रांति कहते हैं तो माफ करें क्रांति से वाहयात कोई शब्द नहीं।

    ReplyDelete
  3. क्रूर निवेदक.

    ReplyDelete
  4. सर जी जो लिंक दिये हैं वो खुल नहीं रहा है.

    ReplyDelete
  5. @ सुनहरे स्‍वप्‍न
    पोस्‍ट में जो लिंक है वह तभी खुलेगा जब आप अपने फेसबुक एकाउंट में लागईन रहेंगें. धन्‍यावद.

    ReplyDelete
  6. हे भगवान !
    ये क्रूरता कहाँ जा कर ख़त्म होगी ?

    ReplyDelete
  7. ये क्रूरता तो है ही, साथ ही ये पूरा घटनाक्रम बिहार चुनाव से जुड़ा दिख रहा है | किसी को फायदा पहुचने के लिए किसी को नुकसान पहुचाने के लिए | यहाँ पर नक्सली उसी नितीश कुमार को फसा रहे है जो इनके प्रति नरम रुख अपना रहे थे | इस पूरी राजनीति में जान गवा रहे है बेचारे पुलिस वाले |

    ReplyDelete
  8. शर्मनाक कृत्य!

    ReplyDelete
  9. कितना खराब लग रहा है यह देख कर। इसमें कोई बहादुरी नही है, वहशीपन है।

    ReplyDelete
  10. "मुझे रोने की इज़ाज़त दे दे,
    या खुदा वरना क़यामत दे दे.

    दिल है या है पत्थर सीने में.
    वहां थोड़ी सी नजाकत दे दे.

    ReplyDelete
  11. जब देखते हैं
    लाश यूं
    तो सिपाही के
    न रोते हैं बच्चे
    न छाती पीटती है बेवा
    न बिलखते हैं बूढ़े माँ-बाप.

    वो सब तो उत्सव मनाते जाते हैं
    हाथों में फूल लिए
    जंगल के मुहाने पर
    कि चलो अच्छा हुआ
    हत्यारों के मानवाधिकारों
    को तो कुछ नहीं ही हुआ न ...

    ReplyDelete
  12. तो बताइए नक्सलवाद या आज का जो सच है वह माओवाद, ऐसे निवेदन करना सिखाता है, अरुंधती जी आज पहली बार पढ़ा की आप नक्सालियों की ऐसी हरकत का विरोध कर रही हैं(http://mohallalive.com/2010/09/04/arundhatis-statement-on-bihar-hostage-crisis/ ) लेकिन बात वही है की ....जब चिड़िया चुग गई खेत....साथ ही यह बात भी की नक्सल हमलों पर पन्ने दर पन्ने रंग देने वाली अरुंधती जी, यहाँ महज ३-४ लाइन का वक्तव्य..... क्या हमें यहाँ ये नहीं कहना चाहिए की शर्म-शर्म.......

    ReplyDelete
  13. नक्सलवाद पर देश में हो रही राजनीति चिंतन का विषय होना चाहिए । बेईमान राजनीति का एक बड़ा सबूत है यह । माफ़ी लायक बात नहीं है ।

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

Popular Posts