ब्लॉग छत्तीसगढ़

07 August, 2009

मित्र के आरकुट प्रोफाईल फोटो में फिर नंगी तस्‍वीर ...

बहुत दिनों से सोंच रहा हूं मेरे आरकुट प्रोफाईल को डिलीट कर दूं. क्‍योंकि अब प्रत्‍येक दिन ऐसे एक-दो फ्रैंड रिक्‍वेस्‍ट आ रहे हैं जो या तो छद्म प्रोफाईल हैं या फिर विशुद्ध रूप से पोर्नसाईटों की ओर ले जाने वाले प्रोफाईल हैं. फ्रैंड रिक्‍वेस्‍ट के बाद स्‍वाभाविक तौर पर उसके प्रोफाईल के तत्‍वों एवं उसके पूर्व मित्रों का अवलोकन कर हम उसे स्‍वीकार कर लेते हैं. बाद में उन प्रोफाईलों की नौटंकी शुरू हो जाती है. ऐसे नये दोस्‍तों या कहें तथाकथित 'दोस्‍तों' से तो एक हद तक किनारा किया जा सकता है किन्‍तु जब किसी जाने पहचाने मित्र के द्वारा भी पोर्नोग्राफी परोसी जाए तो बडी तकलीफ होती है.


अभी कल ही मेरे प्रोफाईल में एक वस्‍त्रविहीन कामिनी की तस्‍वीर नजर आ रही थी. हुआ यह था कि मेरे एक आरकुट मित्र नें मुझे के प्रसंशापत्र लिखा था उस मित्र का वह प्रोफाईल फोटो था. प्रसंशापत्र प्रोफाईल के नीचे प्रदर्शित होता है अत: कल दिन भर वह चित्र मेरे प्रोफाईल में चिपका रहा.

मित्रों नें मुझे फोन कर बतलाया भी किन्‍तु मैं दिन भर नेट संपर्क से दूर कार्य में व्‍यस्‍त था अत: उस प्रसंशापत्र को हटा नहीं पाया. खैर संध्‍या उस मित्र नें फोटो बदल दिया और सबकुछ सामान्‍य हो गया. उस प्रसंशक मित्र ने इस वाकये पर अपनी सफाई यह दी कि उनका पासवर्ड किसी नें चुरा लिया था. अक्‍सर ऐसे वाकये के बाद यही दलील प्रस्‍तुत होती है. मेरा वह मित्र वास्‍तव में नेट प्रयोग में अभी नया खिलाडी है यह हो सकता है, पर इसके पहले भी कई पुराने मित्रों के साथ भी यह हो चुका है. संशय इसी बात पर गहरी हो चली है. और हम अपने आरकुट प्रोफाईल को डिलीट करने पे आमादा हैं.
क्‍या हमारे आरकुट प्रोफाईल का पासवर्ड भी कोई ऐसे ही चुरा लेगा.

संजीव तिवारी

14 comments:

  1. कल देखा था हमने आपका एकाउन्ट और सोच रहे थे कि यह क्या हुआ!! आपने क्लियर कर मेहरबानी की. वैसे भी सहज विश्वास तो न ही करते. :)

    ReplyDelete
  2. प्रसंग दुखद है।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com
    shyamalsuman@gmail.com

    ReplyDelete
  3. प्रिय संजीव जी,

    पूरी सहानुभूति है आपके साथ, वैसे विचार तो ठीक ही लगता है इन दिनों बाढ़ सी आई हुई है। रोजाना दो-तीन मेल ऐसी ही आती है जिनका परोक्ष या अपरोक्ष रूप से उन्हीं से सबंध होता है।

    पत्रिका-गुंजन

    एक साहित्यिक पहल से जुड़ने के लिये आपका स्वागत है।

    ReplyDelete
  4. आरम्भ में तिवारी जी से सुना की वे ऑरकुट में कोई नंगी तस्वीर का जिक्र कर रहे थे ....... तो मेरा कहना है तिवारी जी हम सभी कीचड़ में है.... सो कमल की चिंता करिए सर, कीचड़ और गंदगी से दूर रहना है की उसे सानिध्य बनाना है वो आप पर निर्भर है याने हम सभी पर ............ इस लिए लमल की चिंता करे और इतना समय हम कमल के लिए दे ना की कीचड़ और गन्दगी के लिए .........
    धन्यवाद
    आपका रविकांत

    ReplyDelete
  5. आरम्भ में तिवारी जी से सुना की वे ऑरकुट में कोई नंगी तस्वीर का जिक्र कर रहे थे ....... तो मेरा कहना है तिवारी जी हम सभी कीचड़ में है.... सो कमल की चिंता करिए सर, कीचड़ और गंदगी से दूर रहना है की उसे सानिध्य बनाना है वो आप पर निर्भर है याने हम सभी पर ............ इस लिए कमल की चिंता करे और इतना समय हम कमल के लिए दे ना की कीचड़ और गन्दगी के लिए .........
    धन्यवाद
    आपका रविकांत

    ReplyDelete
  6. झंझट ही है ये सब!

    ReplyDelete
  7. उड़न ज़ी ने भी बढ़िया चुटकी ली - वैसे भी सहज विश्वास तो न ही करते. :)

    ReplyDelete
  8. यह पढ़ कर कई लोग जो ओर्कुट मय नहीं हैं; उसकी ओर उन्मुख होंगे- दर्शनार्थ!

    ReplyDelete
  9. संजीव जी .मेरे साथ भी शुरू शुरू में ऐसा ही हुआ था ...और मैं भी आपकी तरह परेशान हुआ था

    ReplyDelete
  10. पीडा दाई घटना है ऐसा एक बार मेरे साथ भी हो चुका है

    ReplyDelete
  11. हर सिक्‍के के दो पहलू होते है, वही यहाँ भी है जो जैसा उपयोग करना चाहेगा वैसा ही करेगा। कुछ आर्कुट के जरिये पुराने दोस्‍त खोज लेते है तो कुछ आपने लिये सेक्‍स पार्टनर, जैसे जैसे लोग वैसा वैसा उपयोग।

    असानी से पासवर्ड चोरी हो सकता है, कुछ आर्कुट जैसी डमी साईट है जब किसी आफिस में आर्कुट बैन होता है तो लोगा इन्‍ही साईटो के जरिये आर्कुट देखते है। इन साईटो से पासवर्ड चोरी हो सकता है। डि‍लीट करने का विचार त्‍याग दीजिए, हर चीज अच्‍छी नही होती तो हर चीज बुरी भी नही।

    ReplyDelete
  12. ajay ji aur girish ji ke sath jo hadsa hua vo mere sath hua kuaki meri profile behtar hai kuchh mitro ki irsha ne kamal kiya sabak mila mera bhi vichar tha ki profile delete kar du lekin samsya se baghne ke bajay face karna uchit laga bahral hadse hi jevan hai
    tapesh jain

    ReplyDelete
  13. मेरे साथ भी एक बार ऐसा ही हुआ था- आपको ज्ञात हो! जो भी है बेहद दुखद और गलत है. शुक्रिया. जारी रहें.
    ----

    १५ अगस्त के महा पर्व पर लिखिए एक चिट्ठी देश के नाम [उल्टा तीर]
    please visit: ultateer.blogspot.com

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

loading...

Popular Posts