ब्लॉग छत्तीसगढ़

05 August, 2009

इस तरह उगता हूं बार बार : छत्तीसगढ के नक्षत्र

छत्तीसगढ की कला, संस्कृति व साहित्य से संबंधित अनेक पत्र-पत्रिकाओं के बीच छत्तीसगढ की मांगलिक मंजूषा के रूप में विगत कई वर्षों से प्रकाशित पत्रिका ‘झांपी’ का अहम स्थान है. इस पत्रिका में संग्रहित पाठ्य सामाग्रियों में प्रधान संपादक स्वतंत्रता संग्राम सेनानी व गांधीवाधी चिंतक जमुना प्रसाद कसार जी की साहित्य के प्रति प्रतिबद्धता व सक्रियता देखते ही बनती है. वे विगत कई वर्षों से छत्तीसगढ की गरिमामय परम्पररा के प्रतीक ‘झांपी’ में छत्तीसगढ की संस्कृति व लोक साहित्य को संजों कर नियमित रूप से प्रकाशित कर रहे हैं. इस अंक में कसार जी नें ‘झांपी’ के संपादक मण्डल के सहयोगी महावीर अग्रवाल जी के दुर्लभ साक्षात्कारों को संग्रहित कर उन्हें पुन: आगे बढाया है. पत्रिका के संरक्षक नेता प्रतिपक्ष रविन्द्र चौबे जी की आकांक्षा के अनुरूप महावीर जी नें कसार जी के द्वारा दिये गये इस दायित्व का बेहतर निर्वहन किया है. ‘झांपी’ के इस अंक में ‘रस डूबें हैं सौ-सौ अक्षर, पंक्ति-पंक्ति संगीत मधुर हैं’ नारायण लाल परमार जी के गीत के इस पंक्ति की ही तरह कवियों के जीवन की वीणा झंकृत हुई है.


झांपी के इस अंक में छत्तीसगढ के कविता के क्षेत्र में जाज्वल्यमान दस नक्षत्रों गजानन माधव मुक्तिबोध, मुकुटधर पाण्डेय, लाला जगदलपुरी, हरि ठाकुर, नारायण लाल परमार, विनोद कुमार शुक्ल, श्याम लाल चतुर्वेदी, दानेश्वर शर्मा, त्रिभुवन पाण्डेय, जमुना प्रसाद कसार को शामिल किया गया है जिसमें उनका साक्षात्कार, जीवन परिचय एवं महत्वपूर्ण रचनायें संग्रहित हैं. महावीर अग्रवाल जी के द्वारा लिये गये इन साक्षात्कारों से इन नक्षत्रों के विचार एवं रचना प्रक्रिया के संबंध में बडी सहजता से गूढ जानकारी प्रस्तुत हुई है. इसके अतिरिक्त हिन्दी साहित्य के इतिहास में संभवत: ऐसा पहला अवसर है जब दिवंगत मूर्धन्य साहित्यकार मुक्तिबोध जी का अद्भुत साक्षात्‍कार महावीर अग्रवाल जी नें लिया है जो इस अंक में संग्रहित है. महावीर अग्रवाल जी के प्रश्नों के उत्तर से कवियों का जीवन खुले किताब की तरह स्पष्ट‍ हुआ है. नक्षत्रों के माटी के प्रति प्रेम और पत्रिका की प्रतिबद्धता दोनों की जडे हरि ठाकुर जी के ‘दूब’ की तरह गहरी प्रतीत होती है.

‘झांपी’ का यह अंक 83 वर्षीय युवा जमुना प्रसाद कसार जी की सतत उर्जा, सक्रियता एवं साहित्य सृजन के निरंतर प्रयास का प्रमाण है. मुकुटघर पाण्डेय जी की कविता विश्वबोध की ही भांति ‘सरल स्वभाव कृषक के हल में / पतिव्रता-रमणी के बल में / श्रम-सीकर से सिंचित धन में / संशय रहित भिक्षु के मन में / कवि के चिंता-पूर्ण वचन में / तेरा मिला प्रमाण.’

पत्रिका के संरक्षक रविन्द्रि चौबे जी नें अपनी कलम में पत्रिका की विषयवस्तु एवं अपनी मंशा को स्पाष्ट करते हुए लिखा है कि ‘.... इस अंचल के साहित्याकाश में ऐसे अनेक जाज्वल्यमान नक्षत्र हैं जिनकी दीप्ति को स्थायित्व प्रदान किया जाए जिससे इस प्रकाशपुंज की आकाशगंगा भावी पीढियों का पथ प्रदर्शन करती रहे. मेरी यह आकांक्षा रही कि यहां के मूर्धन्य साहित्यकारों के संघर्ष, उनकी व्यथा कथा, उनके अनुभव एवं उनकी उपलब्धियों को उनके ही शब्दों में लिपिबद्ध किया जाए. .... मैं यह स्पष्ट कर दूं कि यह पहली किश्‍त है.’ विलोम व्योम में टंगे मनोहर मणियों के इन दीपों’ की श्रृंखला निरंतर जारी रहे.


संजीव तिवारी


छत्तीसगढ के नक्षत्र : झांपी
प्रधान संपादक व प्रकाशक –
जमुना प्रसाद कसार
सिकोलाभाठा, प्रेमनगर, दुर्ग
अंक - अक्टूबर 2008-09
मूल्य – 75 रूपये

1 comment:

  1. अच्छी सूचनाएँ।

    रक्षाबंधन पर शुभकामनाएँ! विश्व-भ्रातृत्व विजयी हो!

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

Popular Posts