ब्लॉग छत्तीसगढ़

10 January, 2009

तुकबंदी व्‍यक्ति को कवि न सहीं भावनात्‍मक तो बनाती ही है

आरकुट में मेरे नगर के मित्र हैं एक्‍साईज इंसपेक्‍टर श्री सूर्यकांत गुप्‍ता जी, जब से इनसे आरकुट में मुलाकात हुई है तब से, गुप्‍ता जी बराबर मुझे तुकबंदी में ही स्‍क्रैप भेज रहे हैं, भेजे गये स्‍क्रैपों में ‘कविता जैसा कुछ’ विद्यमान रहता है इस कारण उसे पढने में आनंद आता है और तुकबंदी में मिश्रित हास्‍य का पुट गुदगुदाता है ।
गुप्‍ता जी यदि ऐसे ही स्‍क्रैप लिखते रहे तो निश्चित है एक दिन वे कवि हो जायेंगें । आप यूं ही अगर मुझसे मिलते रहें ..... की तर्ज पर । हमारी शुभकामनायें, मित्र हमारी बिरादरी में शीध्र ही आयें, ताकि हिन्‍दी ब्‍लागजगत हिन्‍दी दस्‍तावेजों से समृद्व हो, इन्‍हीं शुभकामनाओं सहित ।

आप भी गुप्‍ता जी द्वारा मुझे भेजे गये स्‍क्रैपों का आनंद लेवें -

महराज पाय लगी.
कैसे हस जी तय संगवारी
नाव हे तोर संजय तिवारी
इसने रहिबो बिन बात चीत के
तौ कैसे चलही दोस्ती यारी
कम से कम आवव तो हमर दुआरी

0000

आ रहा है नया साल
सबको रखे खुशहाल
जश्न भी हो जोश भी हो
उत्साह हो उमंग
तत्पर हों लड़ने को जीवन में हर जंग (किसी भी समस्या से जूझने को)
भूलें बीती बातों को
प्रभु की दी हुई सौगातों को
संजो के रखें भाई
देता हूँ आप सबको नव वर्ष की बधाई.

0000

महराज पाय लागी!
लिखे हौ होही मेल से मिलाप
लेकिन रहिथो कहाँ आप
कब होही दर्शन आपके
कहिके करत रथों जाप
गोठियाओ फ़ोन या मोबाइल में घलो नहीं
मैं हा का कर डरे हौं पाप.
एखर जवाब ला जरूर देहो आप.

संजीव तिवारी

9 comments:

  1. वाह, वाह, बहुत पोटेंशियल है सूर्यकांत जी में सफल ब्लॉगर बनने का!

    ReplyDelete
  2. देर किस बात की है आप प्रेरित करते रहिये जल्दी ही आपकी बिरादारी के सशक्त हस्ताक्षर बन कर उभरेंगें आपके मित्र महोदय।

    ReplyDelete
  3. लाईये लाईये इन्हें भी ब्लॉग की दुनिया में-आनन्द आयेगा. शुभकामनाऐं और परिचय कराने के लिए आपका आभार.

    ReplyDelete
  4. वाकई तुकबंदी अगर हो तो दिल कवि स्वरुप हो ही जाता है ...इनसे परिचय कराने का ढेरो बधाई आपको .......


    अर्श

    ReplyDelete
  5. हिन्दी के इन्द्रधनुष रंग मे एक रंग ओर बढ़ जायेगा ।

    ReplyDelete
  6. आपका ब्लांग पढ़ा अच्छा लगा पर मुझे हिन्दी फाँट में परेशानी हो रही है क्या आप मुझे अपने ब्लांग में जोड़ने कर मुझे हिन्दी की जानकारी प्रदान करे
    रविकान्त
    " The all cg Citizen is Journaliest and Welcome to the Cg Citizen Journalism ! Welcome to the Cg Revolution in cg4bhadas.com Media "! You are about to join "Cg4bhadas.com " Media Interactive as a Global Cg Citizen Reporter.

    ReplyDelete
  7. सही है।
    पन 'कविता जैसे कुछ' पर तो आवारा बंजारा का कॉपीराइट है जी।
    तो बोल्लो नोटिस किधर भेजें जी ;)

    ReplyDelete
  8. sanjeev bhai aapko bahut bahut dhanyawad aur mai apka abhari bhi hoon.
    logon ki pratikriyayen maine padha
    hriday gadgad ho utha par yah manata hoon
    ki mujhme kabhi bhi "GURU" banne ki bhavna na aaye seekhta hi raun aap jaise logon ka sanidhya pakar aur sabhi shubhechchhuon ko mera namaskar ewam badhai ke liye dhanyawad.

    are ye to mera hua
    nave varsh ke liye apka article padhkar to aur maja aa gaya aaj ki vidambana ka badhiya jikra kiya hai apne ab jiski lekhni me dam ho wahi kar sakta hai na ye sab. bahut khoob.

    सूर्यकांत गुप्‍ता
    (यह टिप्‍पणी पिछले पोस्‍ट पर प्रकाशित हो गई थी)

    ReplyDelete
  9. जो आपके संपर्क में आता है उसे आप ब्लोगर बना ही देते हैं ,
    हा हा हा ,
    उनकी लेखन शैली अच्छी है आप प्रोत्साहित करते रहिये..........
    धन्यवाद!!

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

Popular Posts