ब्लॉग छत्तीसगढ़

Popular Posts

31 January, 2009

उदंती.com मासिक पत्रिका वर्ष 1, अंक 6, जनवरी 2009

अनकही : जनता की आशाओं का कमल फिर खिला यात्रा कथा / वादियां :ऊष्मा से भर देने वाला सतपुड़ा - गोविंद मिश्र राजनीति / छत्तीसगढ़ : विकास की...

22 January, 2009

मुक्तिबोध की मशाल जलती रहे

प्रसिद्ध आलोचक चिंतक डा. नामवर सिंह ने इप्टा और प्रगतिशील लेखक संघ रायपुर के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित बारहवें मुक्तिबोध नाट्य समारोह एवं...

17 January, 2009

हबीब का योग्‍य शिष्‍य : अनूप रंजन पांडेय

छत्‍तीसगढी लोक नाट्य विधा तारे नारे के संरक्षक छत्‍तीसगढ के ठेठ जडों से भव्‍य नागरी रंगमंचों तक सफर तय करने वाले रंगमंच के ऋषि हबीब तनवीर को...

14 January, 2009

`सापेक्ष' के सपने सच होने लगे हैं (Sapeksh)

संपादक महावीर अग्रवाल से संजीव तिवारी की बातचीत हिन्दी की साहित्तिक लघु पत्रिकाओं में शीर्षस्थ ‘पहल’ के साथ-साथ साहित्यकारों एवं पाठकों के...

10 January, 2009

तुकबंदी व्‍यक्ति को कवि न सहीं भावनात्‍मक तो बनाती ही है

आरकुट में मेरे नगर के मित्र हैं एक्‍साईज इंसपेक्‍टर श्री सूर्यकांत गुप्‍ता जी, जब से इनसे आरकुट में मुलाकात हुई है तब से, गुप्‍ता जी बराबर म...

02 January, 2009

नये वर्ष का धूम धडाका और फोन की घंटी

अंग्रेजी नये वर्ष के उत्‍साह और उमंग में संपूर्ण विश्‍व के साथ साथ भारत भी मुम्‍बई धमाकों के टीस को दिल में बसाये 31 दिसम्‍बर की रात को झूमत...

01 January, 2009

नहीं बिखरा, अधिक निखरा, बस सघन हूं मैं .....

शब्‍द तो सभी बोलते हैं छापते हैं मूल्‍यवान होते हैं शब्‍दकोश में तो शब्‍दों की सर्वाधिक भीड ही होती है लेकिन कवि के द्वारा प्रयुक्‍त कविता क...