ब्लॉग छत्तीसगढ़

Popular Posts

25 October, 2008

पागल हो गया है क्या ….?

ठांय ! ठांय ! ठांय !, बिचांम ! करती हुई वह बच्ची मेरे बाईक के आगे बैठी सडक से गुजरने वालों पर अपनी उंगली से गोली चलाने का खेल खेल रही थी । अ...

22 October, 2008

सलवा जूडूम पार्टी : चुनाव हेतु तैयार

राष्‍ट्रीय मानवाधिकार आयोग द्वारा पिछले दिनों सर्वोच्‍च न्‍यायालय में प्रस्‍तुत जांच रिपोर्ट के अनुसार न्‍यायालयीन सत्‍य के रूप में प्रस्‍तु...

18 October, 2008

रावण का आकर्षण

9 अक्टूबर की संध्या दुर्ग के स्टेडियम से रावण दहन के बाद बाहर निकला । मुख्य दरवाजे के पास ही पीछे आ रहे परिवार के कुछ और सदस्यों का इंतजार...

15 October, 2008

कविता : छ.ग.के पुलिस प्रमुख के नाम एक खत

विश्‍वरंजन ! नहीं जानना चाहते हम कि तुम कवि हो, नहीं आत्‍मसाध होते भारी भरकम संवेदनाओं के गीत साहित्‍य में आपकी उंचाई कितनी है यह भी ह...

14 October, 2008

एक सेमीनार की ऐसी बर्बादी देखने का मेरा यह अनोखा मौका था

. . . . . इस नौजवान नें हिंसक अंदाज में मुझसे कहा – ‘तुम्ही एक युद्ध अपराधी को कई-कई किश्तों में छापते हो ।‘  एक पल को उस भरे हुए हॉल के एक ...

13 October, 2008

गणतंत्र और कानून साथ में टैंडर

  गणतंत्र और कानून पर कल रवीवार को रायपुर के प्रेस क्‍लब में छत्‍तीसगढ के पुलिस प्रमुख श्री विश्‍वरंजन जी नें अपना प्रभावी वक्‍तव्‍य दिया जि...

09 October, 2008

आर्य अनार्यों का सेतु : रावण

परम प्रतापी एवं शास्‍त्रों के ज्ञाता ब्राह्मण कुमार रावण का स्‍मरण आज समीचीन है क्‍योंकि आज के दिन का वैदिक महत्‍व उसके अस्तित्‍व के कारण ही...

06 October, 2008

डॉ.रत्‍ना वर्मा की पत्रिका उदंती .com अंक 2, सितम्‍बर 2008 नेट में उपलब्‍ध

अंक 2, सितम्‍बर 2008 इस अंक में - अनकही : ...पीने को एक बूंद भी नहीं संस्मरण / उफनती कोसी को देख याद आई शिवनाथ नदी की वह बाढ़ - संजी...

02 October, 2008

दुर्ग में दुर्गोत्सव की धूम और उसकी जातीय चेतना

विनोद सा व रायपुर और राजनांदगांव गणेशोत्सव मनाने के लिए प्रसिद्ध हैं तो दुर्ग में हर साल दुर्गोत्सव की धूम होती है। कहा...