ब्लॉग छत्तीसगढ़

14 June, 2007

प्रथम मानसून की बूदों में अदभुत रोगनिवारक शक्तियां : पंकज अव‍धिया

पंकज अवधिया जी भारत के जाने माने कृषि वैज्ञानिक हैं, इन्‍होंनें छत्‍तीसगढ के पारंपरिक रोग उपचार पद्धति एवं औषधीय पौंधों के क्षेत्र में उल्‍लेखनीय कार्य किया है । अवधिया जी छत्‍तीसगढ के धरोहर हैं, इनके कई शोध प्रबंध देश व विदेशों में मानक के रूप में स्‍थापित हैं । इन्‍होंने प्रथम मानसून की बूंदों में रोग निवारक क्षमता के संबंध में भी शोध किया है जिसमें इन्‍होंने पाया है कि वर्षा की पहली बूंदें कैंसर जैसे रोग को भी खत्‍म करने की क्षमता रखती हैं । अपने अंग्रेजी चिटठे में पंकज अवधिया जी नें इसके छत्‍तीसगढ में हो रहे पारंपरिक प्रयोगों पर लिखा है पढें :

Healing power of the first monsoon rain
http://southasia. oneworld. net/article/ view/114063/ 1/

Traditional Medicinal Knowledge about First Rain Water collected from different species and its uses in Indian state Chhattisgarh
http://ecoport. org/ep?SearchTyp e=interactiveTab leView&itableId= 2481

1 comment:

  1. बिल्कुल सही है। हम बचपन से ही पहली वर्षा में नहाकर गर्मियों के दिन में शरीर में उग आई घमोरियाँ, अलाइयाँ, और कई चर्मरोग एक ही झटके में भगाते आए हैं।

    लेकिन आजकल प्रदूषण तथा ग्लोबल वार्मिंग के कारण पहली वर्षा तेजाबी वर्षा होती है, भयंकर बिजलियाँ कड़कती है, बादल गरजते हैं, ओले पड़ते हैं, सैंकड़ों हजारों लोगों की जान जाती है, करोड़ों के माल का नुकसान होता है। अतः इससे बचना जरूरी है। पिछले दो-चार दिनों के अखबारों में ऐसी कई घटनाएँ पढ़ने को मिली हैं।

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

loading...

Popular Posts