ब्लॉग छत्तीसगढ़

17 May, 2007

माया मिश्रा मेल ः असर छत्तीसगढ तक

उत्तर प्रदेश मे मायावती की जीत से छत्तीसगढ मे एक नया समीकरण बनता नजर आ रहा है . उत्तर प्रदेश मे माया की जीत को यहा के ब्राह्मण एक नये युग की शुरुआत के रूप मे देख रहे है
छत्तीसगढ के 99 प्रतिशत ब्राह्मण उत्तर प्रदेश से व 1 प्रतिशत राजस्थान से बरसो पहले आकर छत्तीसगढ मे बस गये थे और यहा की भाषा व सन्सकृति उत्तर प्रदेश की सरयु की पानी मे घुल कर महानदी, अरपा, शिवनाथ व खारून मे समहित हो गयी थी समय ने उन्हे पूरी तरह से छत्तीसगढया बना दिया था

यह सर्वविदित है कि छत्तीसगढ के मूल निवासी आदिवासी ही रहे है किन्तु अयोध्याकालीन धार्मिक इतिहास को प्रमाणिक माना जाय तो दण्कारण्य व कौशल क्षेत्र मे ऋषि मुनियो का निवास अर्वाचीन काल से रहा है खैर हम यहा इतिहास बताने के लिये नही लिख रहे है पर उत्तर प्रदेश के सरयू के किनारे निवासरत ब्राह्मणो का यहा पर आगमन मोरध्व्ज के काल से माना जाता है जो आज तक जारी है

पृथक छत्तीसगढ आन्दोलन अपने अन्तिम चरण मे था तो कुछ स्वार्थी तत्वो ने उस समय छत्तीसगढया गैरछत्तीसगढ शब्दो का एसा ताना बाना रचा जिससे छत्तीसगढ के ब्राह्मण मानसिक रूप से काफी आहत हुये थे और उनकी वेदना समय समय पर कभी सरकार मे प्रतिनिधित्व नही मिलने पर तो कभी छत्तीसगढ मे ब्राह्मणो की उपेच्छा होने के मसले पर फूटते रहती है छत्तीसगढ के आदिवासी एव ब्राह्मणो के बीच सम्बन्ध सदैव से मधुर रहे है उसमे अलगाववाद के बीज राजनीति ने बोया है जैसे उत्तर प्रदेश मे हालाकि यहा की परिस्थितिया उतनी बढी हुइ नही है किन्तु समय चक्र के चलते एसा आज नही तो कल हो जाने वाला था

उत्तर प्रदेश मे दलित व ब्राह्मणो के मेल से जो शक्ति का उदय हुआ है उसे पुराने लोग धार्मिक मान्यताओ से जोड कर देख रहे है हमारे एक परिचित ने माया मिश्रा के जीत को धर्म की जीत बतला रहे है उनके अनुसार कट्टरपन्थी ब्राह्मणो ने अपने बच्चो से माया के पैर छुवाये है क्योकि नारी की कोइ जाति नही होती सनातन मे एसे उदाहरण है, जब जब दलित व ब्राह्मण का मेल हुआ है भारत मे एश्वर्यशाली इतिहास लिखा गया है

छत्तीसगढ के ब्राह्मणो ने खुसुर पुसुर चालू कर दिया है आगामी विधानसभा चुनाव मे छत्तीसगढ मे भी यदि उत्तर प्रदेश के इतिहास को दोहराये तो इसमे आश्चर्य की बात नही होगी क्योकि अब शबरी और राम व कृष्ण और सुदामा का प्रेम छलकने लगा है समय ने पात्र बदल दिये है

2 comments:

  1. मुआफ़ किजिएगा मैं कम से कम अगले विधानसभा चुनावों के लिए आपकी बात से सहमत नहीं हूं। हां उसके बाद की बात नही कही जा सकती अभी से

    ReplyDelete
  2. आप बिलकुल ठीक कह रहे है,उत्तर प्रदेश मे दलित व ब्राह्मणो के मेल से जो शक्ति का उदय हुआ है उसे पुराने लोग धार्मिक मान्यताओ से जोड कर देख रहे है इसी कारण ब्राह्मणो ने अपने बच्चो से माया के पैर छुवाये है।वो ये ही मान रहे है की माया एक शक्ति का रूप है,ये उनके प्रगाड़ प्रेम का सूचक है|
    वैसे मुझे चिट्ठा-चर्चा कम ही आती है मगर आपने साथ-साथ बहुत कुछ सीखने को मिलेगा,...
    सुनीता(शानू)

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

Popular Posts

17 May, 2007

माया मिश्रा मेल ः असर छत्तीसगढ तक

उत्तर प्रदेश मे मायावती की जीत से छत्तीसगढ मे एक नया समीकरण बनता नजर आ रहा है . उत्तर प्रदेश मे माया की जीत को यहा के ब्राह्मण एक नये युग की शुरुआत के रूप मे देख रहे है
छत्तीसगढ के 99 प्रतिशत ब्राह्मण उत्तर प्रदेश से व 1 प्रतिशत राजस्थान से बरसो पहले आकर छत्तीसगढ मे बस गये थे और यहा की भाषा व सन्सकृति उत्तर प्रदेश की सरयु की पानी मे घुल कर महानदी, अरपा, शिवनाथ व खारून मे समहित हो गयी थी समय ने उन्हे पूरी तरह से छत्तीसगढया बना दिया था

यह सर्वविदित है कि छत्तीसगढ के मूल निवासी आदिवासी ही रहे है किन्तु अयोध्याकालीन धार्मिक इतिहास को प्रमाणिक माना जाय तो दण्कारण्य व कौशल क्षेत्र मे ऋषि मुनियो का निवास अर्वाचीन काल से रहा है खैर हम यहा इतिहास बताने के लिये नही लिख रहे है पर उत्तर प्रदेश के सरयू के किनारे निवासरत ब्राह्मणो का यहा पर आगमन मोरध्व्ज के काल से माना जाता है जो आज तक जारी है

पृथक छत्तीसगढ आन्दोलन अपने अन्तिम चरण मे था तो कुछ स्वार्थी तत्वो ने उस समय छत्तीसगढया गैरछत्तीसगढ शब्दो का एसा ताना बाना रचा जिससे छत्तीसगढ के ब्राह्मण मानसिक रूप से काफी आहत हुये थे और उनकी वेदना समय समय पर कभी सरकार मे प्रतिनिधित्व नही मिलने पर तो कभी छत्तीसगढ मे ब्राह्मणो की उपेच्छा होने के मसले पर फूटते रहती है छत्तीसगढ के आदिवासी एव ब्राह्मणो के बीच सम्बन्ध सदैव से मधुर रहे है उसमे अलगाववाद के बीज राजनीति ने बोया है जैसे उत्तर प्रदेश मे हालाकि यहा की परिस्थितिया उतनी बढी हुइ नही है किन्तु समय चक्र के चलते एसा आज नही तो कल हो जाने वाला था

उत्तर प्रदेश मे दलित व ब्राह्मणो के मेल से जो शक्ति का उदय हुआ है उसे पुराने लोग धार्मिक मान्यताओ से जोड कर देख रहे है हमारे एक परिचित ने माया मिश्रा के जीत को धर्म की जीत बतला रहे है उनके अनुसार कट्टरपन्थी ब्राह्मणो ने अपने बच्चो से माया के पैर छुवाये है क्योकि नारी की कोइ जाति नही होती सनातन मे एसे उदाहरण है, जब जब दलित व ब्राह्मण का मेल हुआ है भारत मे एश्वर्यशाली इतिहास लिखा गया है

छत्तीसगढ के ब्राह्मणो ने खुसुर पुसुर चालू कर दिया है आगामी विधानसभा चुनाव मे छत्तीसगढ मे भी यदि उत्तर प्रदेश के इतिहास को दोहराये तो इसमे आश्चर्य की बात नही होगी क्योकि अब शबरी और राम व कृष्ण और सुदामा का प्रेम छलकने लगा है समय ने पात्र बदल दिये है
Disqus Comments